इंसान की फितरत

19 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (295 बार पढ़ा जा चुका है)

बदल गयी है ,इंसान की अब अपनी फितरत;

बदल रहा है,इंसान अब पैमाने ए कुदरत।


जीने की परिभाषा,विकास की अभिलाषा;

सब कुछ बदल रहा,पूरी करने अपनी लालसा।


प्रकृति को छेड़ , छीन पशु पक्षियों का आसरा;

स्वार्थ के अतिरेक,जंगल पे मंडरा इंसानी खतरा।


अपनी मर्यादा लांघ,कई देशों का किया निर्माण;

अपने लिए कई द्वीप सजाएं,जानवरों का हुआ प्रयाण।


खुद ही फंस गया चक्रव्यूह में,जो उसने खुद है रचा;

कोरोना वायरस के कारण,घरों में कैद हो खुद है बचा।


आज इंसान ने ,मानवीयता पर खड़ा किया है प्रश्नचिन्ह ;


संसार को जीतने के लिए,खड़ा किया है वायरस जिन्न।


अपने ही पैरों पे मार कुल्हाड़ी,शुरू किया खुद का विनाश;


बेमानी बेमतलब रह जाएगा ,सभ्यताओं का ये विकास।


प्रेम,सहयोग,मित्रता,हो गयी है इंसानी स्वार्थ प्रेरित भावना;


झूठ,बेईमानी,और शत्रुता, घर कर गयी इंसान में ये दुर्भावना।


अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जुलाई 2020
शा
ना दिल को सुकून,ना मन को चैन,ना बाहर मिले आराम,ना घर में रहे बिना काम,दोस्तों ये ना तो है प्यार,और ना जॉब या कारोबार,ये तो बस है ,शादी के बाद का हाल ।
17 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
रोज इंतेज़ार करते है, तुम्हारे इन अलफाजों का,शोर मच जाता है,इस खामोशी के आलम में,जब आगाज़ होता है, इन अलफाजों का।
17 जुलाई 2020
09 जुलाई 2020
मेरी कार भुसावल शहर से सुनसगांव के रास्ते पे तेजी से दौड़ रही थी,और मेरे दृष्टिपटल पर अतीत के सारे दृश्य एक एक कर फिल्म की भांति लगातार अंकित होते जा रहे थे।आसपास के चलते मकानों और पेड़ों को देख पुरानी या
09 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
हमारे शहर में हुआ मंत्री जी का आगमन,
21 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x