गोप और राधा भाव

20 जुलाई 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (296 बार पढ़ा जा चुका है)

गोप और राधा भाव

बाल गीत कान्हा का आज मैं गाऊँ।
प्रियतम् गोप उनका बन मैं जाऊँ।।
🙏🙏🌸🌸🌹🌸🌸🙏🙏
🙏 🙏 "नंद गोपाला" 🙏 🙏
हर कवि कृष्ण भक्त होता है
'नंद' वही जो आनंद देता है
नंदन तो आनंद पाता - देता है
'गोप् सदा हीं आनंद देता है
गोपालक कृष्ण कहलाते है
सूर के कृष्ण ग्वाले कहलाते हैं
रागानूगा भक्ति कही गई है
प्रथम चरण रागात्मिका है
द्वितीय चरण रागानुमा' है
रागानुमा का सही अर्थ यही है
भक्त के प्यार से कृष्ण आनंद पाते है
प्रियतम् ब्रजगोपाल को प्यार कर
कृष्ण भक्त अति आह्लादित होता है
रागानुगा यही उच्चस्तरीय भक्ति है
रागात्मिका भक्ति में एषणा नहीं है
कृष्ण हो प्रसन्न, गोप का लक्ष्य यही है
ऐसे कर्म, सुकृत सारे हों हमारे
कृष्ण प्रसन्न रहें सदा हीं हमारे
इसमें चाहे कोई बाधा ओर विध्न आएं
पथ कंटकविद्ध हो भले- दु:खि बनाएं
समस्त क्लेश सह जाए पर अश्रु न आएं
नन्दनविज्ञान यही मेरा जीवन बन जाए
विश्व-ब्रह्माण्ड के खण्ड-खण्ड में वे गोचर हैं
अणु-चेतन हर खण्ड में वे अभिप्रकाशित है
हर खण्ड- पल- अणुपल- विपल भाव में हो
जिस रूप में भी तुम हीं प्रतिभात हुए हो
इस खण्ड से अखण्ड आनंद भक्त पाता है
अनुभूतियों को गुँथ सुंदर माला बनाता है
तुम्हारा हर अभिप्रकाश कांत मणि सम है
एक सुत्र में पिरो तुझे पा जाऊँ चाह यही है
मानो मित्र यही सच्ची कृष्ण भक्ति है
कृष्ण से प्यार हीं महत् अनुरक्ति है
रास के हम सब गोप-गोपियाँ,
संग भक्तों के उनकी शक्ति है
कृष्ण प्रियतम् भाव- भक्ति है


🙏डाॅ. कवि कुमार निर्मल🙏

अगला लेख: तुम मिलना मुझे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जुलाई 2020
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
19 जुलाई 2020
14 जुलाई 2020
ज़िंदगी के मोड़उचंट खाता बन खोला है सदालकीरें उकेरने का सीख रहा हूँ कायदा💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮अश्कों के संग दर्दे दिल बह जाएगा!सुकून फिर भी क्या? कभी मिल पाएगा!!मरहम छुपा उलझा रखा है-गेसुओं में अपने,आहें नज़र-अंदाज़ करने कीआदत बना डाली है!इनकार बनाया जिन्दगी का'आईन'- सवाली है!! प्यार का दस्तूर बेहिसाब,
14 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
कृ
आरोहण- अवरोहण अति दूभर,जल-थल-नभ है ओत-प्रोत,समय की यह विहंगम,दहकती ज्वाला हैअंध- कूप सेखींचनिकालोहे प्रभु शीध्र,अकिंचन मित्र आया है!कृष्ण! तेरा बालसखा आया हैधटा-टोप अंधेरा, सन्नाटा छाया हैअन्धकार चहुदिस, मन में तम् छाया हैगोधुली बेला की रुन- झुन रुन- झुन,मनोहर रंगोली, दीपों की माला हैदीर्ध रात्रि का
15 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
कृ
आरोहण- अवरोहण अति दूभर,जल-थल-नभ है ओत-प्रोत,समय की यह विहंगम,दहकती ज्वाला हैअंध- कूप सेखींचनिकालोहे प्रभु शीध्र,अकिंचन मित्र आया है!कृष्ण! तेरा बालसखा आया हैधटा-टोप अंधेरा, सन्नाटा छाया हैअन्धकार चहुदिस, मन में तम् छाया हैगोधुली बेला की रुन- झुन रुन- झुन,मनोहर रंगोली, दीपों की माला हैदीर्ध रात्रि का
15 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
सावनलद्द-फद्द मदहोश हो-छा गये दिलोदिमाग परखुशियों का सावनलिख दिया बुझते वज़ूद परलुट-लुटा के मुकम्मलजब होश आ झकझोरानासाज़ हुए बेहिसाबकज़ा की बरसात झेलकरडॉ. कवि कुमार निर्मल
23 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
💮🌍🌎🌎धरा विचलित🌏🌎🌍💮धरती माँ की पीड़ा- अकथनीय- अतिरेक,दिवनिशि धरती माँ रे! अश्रुपूरित रहती है,मन हुआ क्लांत - म्लान - अतिविक्षिप्त है।व्यथा-वेदना सर्प फणदंश सम- असह्य है।।जागृति की एषणा प्रचण्ड- अति तीव्र है।शंख-प्रत्यंचा सुषुप्त- रणभूमि रिक्त है।।पौरुषत्व व्यस्त स्वप्नलोक में-चिर निंद्रा में
08 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
26 जुलाई 2020
तुम्हारी याद यों आए... यादों के कितने हीरूप हो सकते हैं – कितने ही रंग हो सकते हैं... और आवश्यक नहीं कि हर पल किसीव्यक्ति या वस्तु या जीव की याद ही व्यक्ति को आती रहती हो... व्यक्ति का मन इतनाचंचल होता है कि सभी अपनों के मध्य रहते हुए भी न जाने किस अनजान अदेखे की याद उसेउद्वेलित कर जाती है... इन्हीं
26 जुलाई 2020
16 जुलाई 2020
16 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
12 जुलाई 2020
☁🌧️☁🌧️⛈️🌧️☁️⛈️☁️☆☆☆★12/07/202★☆☆☆🌧️सावन आएगा झूम के🌨️🌧️⛈️ सावन झूम के आया ⛈️🌧️⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡भादो भी मन की तिश्नगी मिटाएगा।नयन मटक्का करती चपला बाला काझूला ऊँची-ऊँची पेंगें अब लगाएगा।।युवाओं का चंचल मन यहाँ- वहाँ लखजाल फेंक डोर खींच पास ले आएगा।बरसाने का कान्हा प्यारा हर बार कुँज-गलियन में रास र
12 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x