यादें

24 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (312 बार पढ़ा जा चुका है)

कुछ मीठी,कुछ खट्टी,कुछ कड़वी,कुछ रंगीन,

कुछ बचपन की,कुछ जवानी की,कुछ संगीन।

ये ही तो हैं वो यादें,जो भूले ना भुलायी जा सकी;

कुछ यादें पूरी याद रही,याद रह गयी अधूरी बाकी।

कुछ यादें तड़पाती है,कुछ प्रफुल्लित कर जाती है;

यादें तो यादें हैं ,जो कभी हंसा तो कभी रुला जाती है।

कभी मुस्कान ,कभी शिकन,कभी शांति ,चेहरे पे लाती है;

ये यादें ही तो है,जो बैठे बैठे चेहरे के रंग बदल जाती हैं।

कोई अपनों के बिना, इन यादों के सहारे जी जाता है;

तो कोई यादों के बिना,जीते हुए भी नहीं जी पाता है।

यादों के इस विशाल समुंदर में, गोता कोई लगा जाता है;

वह मोती और सिप जैसे,रिश्तों की बुनियाद रख जाता है।

अकेलेपन का सहारा होती है,उसका विश्वास होती है यादें;

जीने का मकसद लिए,किसी को पुनर्जीवित कर देती है ये यादें।


अगला लेख: शादी के बाद



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जुलाई 2020
सभ्यता की विकास यात्रा जारी है अनवरत अनवरत, पृथ्वी के जन्म से चल रहा है परिवर्तन अब तक।कई प्रजातियां पौधों की और जीवों की बदल रही अविरत,बड़े बड़े पेड़ों में और जानवरों में हो रह
28 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
हमारे शहर में हुआ मंत्री जी का आगमन,
21 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
को
नियति ने रचा यह चक्र है,प्रकृति से छेड़छाड़ करने पर,उसकी दृष्टि हम पे वक्र है ,नियति का रचा यह चक्र है।उसको करने चले थे खामोश, परिणाम उसी का है ये किआज हम भी है खामोश।
17 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x