आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू

27 जुलाई 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (310 बार पढ़ा जा चुका है)

आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू

साप्ताहिक प्रतियोगिता में "प्रथम" सर्वोतकृष्ठ चयनित रचना

समुह का नाम:- साहित्यिक मित्र मंडल जबलपुर ( एम. पी.)
पटल संख्या: १-२-३-४-५-६-७ एवम् ८
संपर्क:- 9708055684 / 7209833141
शीर्षक: आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
भक्तों का सर्वश्रेष्ठ धन है गिरते आंसू
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
मानव मन होता है अति चंचल,
प्रचण्ड उच्चाटन्, अति विह्वल
दर्शन पाने की आज

उठी उत्कट् है इच्छा
व्यर्थ हुआ समस्त ज्ञान,

अधुरी गुरुकुल की शिक्षा
आलोढ़ित मन का चितवन,
मन तो आखिर है एक मन-
डोलेगा हीं, वो रे! डोलेगा
मन जब अति आह्लादित-
नयन होते तब अश्रुप्लावित
एक को ठहरा कर हीं-
दूजा कुछ तो बोलेगा
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
भक्तों का सर्वश्रेष्ठ धन है गिरते आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
प्रसव-पीड़ा की विदारक चित्कार

असख्य वे झर-झर्र झरते आंसू

जन्म के समय नवजात का
क्रंदन और निसरे आंसू

सुख मिलता तब भी

बह जाते ये आंसू
दुख मिलता तब भी

टपक पड़ते हैं ये आंसू
प्रतारणा-द्वेष-कलह के आंसू
पठन-पाठन-लेखन के आंसू
ठहराये ठहरते नहीं ये आंसू
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧
भाँति-भाँति के बह ठहरते ये आंसू
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
धुयें के निकलते माँ के वो आंसूं
प्रेम देख प्रेयसी के गिरते आंसू
प्रेम छीन ले कोई तब भी आंसू
विश्वासधात् लख निकले आंसू
शरण मिली तब भी आते आंसू
भक्तिमय भजन कीर्तन में आँसू
आसक्ति के असफलता पर आँसू
विरक्त हुए परन्तु छुपके-

निकल पड़ते आंसू
जीत तो है जीत,

हारने पर भी निकले आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
बहे कितने, सूख रहे ये बहते आंसू
रुग्णताजनित पीणादायक ये आंसू
स्वास्थ्यलाभ हुआ तब भी ये आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
दिख रहा पर चू न पाता यह आंसू
अपना कुछ खो जाये तब भी आंसू
खोया पा जाने पर भी निसरे आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
प्रिय मरण- तो बह सूखते है ये आंसू
पुनर्जीवित होने पर जीवन देख आंसू
मन ठहरे न ठहरे,

ठहर जाते ये निर्मोही आंसू
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
बहकर गालों पर टघरते ये

ठहरे हुए आंसू
आँखों में संकेत पा

बना वाह्यश्राव है आंसू
मन में रख लेने से तो
मन धुट सा जाता है
चित्त ठहरता नहीं
वस्तु की ओर जाता है
ध्यान कठिन हो जाता है
कीर्तन में रम जब जाता है
ध्यान सहज लग जाता है
सतसंग में भाव आ रुलाता है
प्रभु चर्चा से मानव मुक्त हो जाता है
महासागर से मोती चुन ले आता है
'मानव जीवन' धन्य हो जाता है
विदेही आत्मा के प्रति

श्रद्धांजलि के आंसू
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
डॉ. कवि कुमार निर्मल
बेतिया (पश्चिम चंपारण) बिहार 845438

अगला लेख: कृष्ण जन्माष्टमी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 जुलाई 2020
💐💐💐★गज़ल★💐💐💐🍥🍥🍥🍥🍥🍥🍥🍥गज़लों में हदें पार होती हैंदिलदारों की खातिर--अगाज़ होती हैंआवाम की नहीं,मोहताज होती हैशर्म की आवाज--दुश्वार होती हैअनकही दास्तॉ--चिलमन के पार होती हैशरगोशी को गुनाह--करार जो देते हैवे ताज़िंदगी पल्लू--पकड़ के रोते हैंसरहदों की बात--
21 जुलाई 2020
10 अगस्त 2020
रात बेखबर चुपचाप सी है आओ मैं तुम्हे तुमसे रूबरू करवाउंगी मेरे डायरी में लिखे हर एक नज्म के किरदार से मिलाऊँगी मैं तुम्हे बतलाऊँगी की जब तुम नहीं थे फिर भी तुम थे जब कभी कभी दर्द आँखों से टपक जाती थी ..... कागजों पर एक बेरंग तस्वी
10 अगस्त 2020
02 अगस्त 2020
कोरोना में रक्षाबंधन का स्वरूपकोरोनाकाल में रक्षाबंधन का स्वरूप-चिपका होठों से हलाहल का प्याला हैलुप्त हो रहा आतंकि कोरोना समित हो,पर जाते जाते स्वरूप बदल डाला हैएकलौता भाई- अटका उदास सात समुन्दर पार-आंसुओं में सारा जग डूबा हैरक्षाबंधन आ हर्षाया हर बार--भाई-बहन का मिलन होता सबसे प्यारा हैजय हो! जय
02 अगस्त 2020
23 जुलाई 2020
सावनलद्द-फद्द मदहोश हो-छा गये दिलोदिमाग परखुशियों का सावनलिख दिया बुझते वज़ूद परलुट-लुटा के मुकम्मलजब होश आ झकझोरानासाज़ हुए बेहिसाबकज़ा की बरसात झेलकरडॉ. कवि कुमार निर्मल
23 जुलाई 2020
20 जुलाई 2020
बाल गीत कान्हा का आज मैं गाऊँ। प्रियतम् गोप उनका बन मैं जाऊँ।।🙏🙏🌸🌸🌹🌸🌸🙏🙏🙏 🙏 "नंद गोपाला" 🙏 🙏हर कवि कृष्ण भक्त होता है'नंद' वही जो आनंद देता हैनंदन तो आनंद पाता - देता है'गोप् सदा हीं आनंद देता हैगोपालक कृष्ण कहलाते हैसूर के कृष्ण ग्वाले कहलाते हैंरागानूगा भक्ति कही गई हैप्रथम चरण रागा
20 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
19 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
💐💐"जिंदगी से मुलाक़ात"💐💐मुलाकात जिंदगी से पहली बार हुई,न हुआ अहसास, न वैसा दिमाग था।दुसरी मुलाकात हुई राह चलते,दर्दों का न कोई पारावार था।।मुलाकात होती रही बार-बार,मिलना हआ बेहद आसान,कुछ बहाना- करना कॉल था।अपने - पराये का मन में--न कभी आया ख्याल था।।कभी भूख खातीर था हंगामा,पर प्यारा सा माँ का हाथ
24 जुलाई 2020
08 अगस्त 2020
मैंने देखा, और मैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, और मैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ...प्रेम खटखटाता रहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपने ऊहापोह में...तभी कहा किसी ने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खोलो या ना खोलो / द्वार टूटेगा, और प्रेम आएगा
08 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
वंशी की वह मधुर ध्वनि... जी हाँ, यदि हम अपने चारों ओरकी ध्वनियों से – चारों ओर के कोलाहल से मुक्त करके मौन का साधन करते हुए अपनेभीतर झाँकने का प्रयास करें तो कान्हा की वह लौकिक दिव्य ध्वनि हमारे मन में गूँजसकती है... ऐसी कुछ उलझी सुलझी भावनाओं के साथ आज स्मार्तों और कल वैष्णवों कीश्री कृष्ण जयन्ती क
11 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x