आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू

27 जुलाई 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (306 बार पढ़ा जा चुका है)

आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू

साप्ताहिक प्रतियोगिता में "प्रथम" सर्वोतकृष्ठ चयनित रचना

समुह का नाम:- साहित्यिक मित्र मंडल जबलपुर ( एम. पी.)
पटल संख्या: १-२-३-४-५-६-७ एवम् ८
संपर्क:- 9708055684 / 7209833141
शीर्षक: आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
भक्तों का सर्वश्रेष्ठ धन है गिरते आंसू
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
मानव मन होता है अति चंचल,
प्रचण्ड उच्चाटन्, अति विह्वल
दर्शन पाने की आज

उठी उत्कट् है इच्छा
व्यर्थ हुआ समस्त ज्ञान,

अधुरी गुरुकुल की शिक्षा
आलोढ़ित मन का चितवन,
मन तो आखिर है एक मन-
डोलेगा हीं, वो रे! डोलेगा
मन जब अति आह्लादित-
नयन होते तब अश्रुप्लावित
एक को ठहरा कर हीं-
दूजा कुछ तो बोलेगा
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
भक्तों का सर्वश्रेष्ठ धन है गिरते आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
प्रसव-पीड़ा की विदारक चित्कार

असख्य वे झर-झर्र झरते आंसू

जन्म के समय नवजात का
क्रंदन और निसरे आंसू

सुख मिलता तब भी

बह जाते ये आंसू
दुख मिलता तब भी

टपक पड़ते हैं ये आंसू
प्रतारणा-द्वेष-कलह के आंसू
पठन-पाठन-लेखन के आंसू
ठहराये ठहरते नहीं ये आंसू
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧
भाँति-भाँति के बह ठहरते ये आंसू
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
धुयें के निकलते माँ के वो आंसूं
प्रेम देख प्रेयसी के गिरते आंसू
प्रेम छीन ले कोई तब भी आंसू
विश्वासधात् लख निकले आंसू
शरण मिली तब भी आते आंसू
भक्तिमय भजन कीर्तन में आँसू
आसक्ति के असफलता पर आँसू
विरक्त हुए परन्तु छुपके-

निकल पड़ते आंसू
जीत तो है जीत,

हारने पर भी निकले आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
बहे कितने, सूख रहे ये बहते आंसू
रुग्णताजनित पीणादायक ये आंसू
स्वास्थ्यलाभ हुआ तब भी ये आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
दिख रहा पर चू न पाता यह आंसू
अपना कुछ खो जाये तब भी आंसू
खोया पा जाने पर भी निसरे आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
प्रिय मरण- तो बह सूखते है ये आंसू
पुनर्जीवित होने पर जीवन देख आंसू
मन ठहरे न ठहरे,

ठहर जाते ये निर्मोही आंसू
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
बहकर गालों पर टघरते ये

ठहरे हुए आंसू
आँखों में संकेत पा

बना वाह्यश्राव है आंसू
मन में रख लेने से तो
मन धुट सा जाता है
चित्त ठहरता नहीं
वस्तु की ओर जाता है
ध्यान कठिन हो जाता है
कीर्तन में रम जब जाता है
ध्यान सहज लग जाता है
सतसंग में भाव आ रुलाता है
प्रभु चर्चा से मानव मुक्त हो जाता है
महासागर से मोती चुन ले आता है
'मानव जीवन' धन्य हो जाता है
विदेही आत्मा के प्रति

श्रद्धांजलि के आंसू
आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
डॉ. कवि कुमार निर्मल
बेतिया (पश्चिम चंपारण) बिहार 845438

अगला लेख: कृष्ण जन्माष्टमी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
💐💐"जिंदगी से मुलाक़ात"💐💐मुलाकात जिंदगी से पहली बार हुई,न हुआ अहसास, न वैसा दिमाग था।दुसरी मुलाकात हुई राह चलते,दर्दों का न कोई पारावार था।।मुलाकात होती रही बार-बार,मिलना हआ बेहद आसान,कुछ बहाना- करना कॉल था।अपने - पराये का मन में--न कभी आया ख्याल था।।कभी भूख खातीर था हंगामा,पर प्यारा सा माँ का हाथ
24 जुलाई 2020
10 अगस्त 2020
को
कोविड की तानाशाहीहम कहते हैं बुरा न मानोमुँह को छिपाना जरूरी हैअपनेपन में गले न लगाओदूरियाँ बनाना जरूरी हैकोरोना महामारी तोएक भयंकर बीमारी हैकहने को तो वायरस हैपर छुआछूत बीमारी हैहट्टे कट्टे इंसानों पर भी एक अकेला भारी हैआँख मुँह और नाक कान सेकरता छापेमारी हैएक पखवाड़े के भीतर हीअपना जादू चलाता हैकोर
10 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
🎉🎉🎉 कृष्णावतार"🎉🎉🎉🐾🐾🐾🐾🐾🐾🐾🐾🐾कृष्ण जन्माष्टमी कृष्ण भक्त हर्षित हो मनाते हैं।"कृष्ण लीला" आज हमआप सबको सुनाते हैं।।कारागृह में 'द्वितीय महासंभूति'का अवतरण हुआ।दुष्ट कंस का कहर,साधुसंतों का दमन हुआ।।जमुना पार बासु यशोधा के घर कृष्ण को पहुँचाये।'पालक माँ' को ब्रह्माण्ड मुख गुहा में प्रभु
11 अगस्त 2020
10 अगस्त 2020
रात बेखबर चुपचाप सी है आओ मैं तुम्हे तुमसे रूबरू करवाउंगी मेरे डायरी में लिखे हर एक नज्म के किरदार से मिलाऊँगी मैं तुम्हे बतलाऊँगी की जब तुम नहीं थे फिर भी तुम थे जब कभी कभी दर्द आँखों से टपक जाती थी ..... कागजों पर एक बेरंग तस्वी
10 अगस्त 2020
08 अगस्त 2020
मैंने देखा, और मैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, और मैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ...प्रेम खटखटाता रहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपने ऊहापोह में...तभी कहा किसी ने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खोलो या ना खोलो / द्वार टूटेगा, और प्रेम आएगा
08 अगस्त 2020
19 जुलाई 2020
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
19 जुलाई 2020
08 अगस्त 2020
🥀🥀कहानी एक फूल की🥀🥀🌳🌳🌷🌺🌺🌺🌷🌳🌳कहानी फूल की तुझे आज सुनाता हूँमत जाना कहीं-आद्योपांत सुनाता हूँऊँचे दरख़्त झूम- झूम कर ताज़िन्दगी,छाँव-बतास ओ' गुल- फल लुटाते हैं!वख्त की मार कहूँ या तूफानों से धिर,गीर-पड़ उखड़ निर्जीव हो जाते हैं!!डालें टुंग-टुंग कर मानव दो शाम,असंख्य चुल्हें जल-जठराग्नि
08 अगस्त 2020
09 अगस्त 2020
हम ईश्वर को यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ ढूँढ़ते फिरते हैं, लेकिन अपने भीतरझाँककर नहीं देखते... हमारा ईश्वर तो हमारे भीतर ही हमारी आत्मा के रूप मेंविराजमान है... प्रकृति के हर कण में... हर चराचर में ईश्वर विद्यमान है... जिसदिन उस ईश्वर के दर्शन कर लिए उस दिन से उसे कहीं ढूँढने की आवश्यकता नहीं रहजाएगी... कुछ
09 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x