बप्पा को लाना तो हमारी जिम्मेदारी है

29 जुलाई 2020   |  अशोक सिंह   (297 बार पढ़ा जा चुका है)

बप्पा को लाना हमारी जिम्मेदारी है...


अबकी बरस तो कोरोना महामारी है

उत्सव मनाना तो हमारी लाचारी है

रस्में निभाना तो हमारी वफादारी है

बप्पा को लाना तो हमारी जिम्मेदारी है।


अबकी बरस हम बप्पा को भी लायेंगें

सादगी से हम सब उत्सव भी मनायेंगें

सामाजिक दूरियाँ हम सब अपनायेंगें

मास्क सेनिटाइजर प्रयोग में लायेंगें।


दूर दूर बैठकर हम बप्पा को मनायेंगें

भजन कीर्तन भाव सब बप्पा मन भायेंगें

आरती व धूप से बप्पा रीझ जायेंगें

कोरोना महामारी से बप्पा ही बचायेंगें।


हमारी अराधना से बप्पा मुस्कुरायेंगें

ढोल ताशे गुलाल बिना उत्सव मनायेंगें

हर्षोल्लास के साथ हर रस्म निभायेंगें

बप्पा मोदक खायेंगें कोरोना से बचायेंगें।


अपनी करताल से हम बप्पा को झुमायेंगें

घरगुती पकवान हम नैवेद्य में चढ़ायेंगें

पास बैठकर के हम उनको ही निहारेंगें

भाव के हैं भूखे बप्पा हम भाव ही ख़िलायेंगें।


अबकी बरस हो…., हाँ हाँ अबकी बरस

विघ्नहर्ता बप्पा मोरे..बिघ्न को हटायेंगें

अष्टविनायक बप्पा मोरे हर काम सवारेंगें

विघ्नविनाशक बप्पा कोरोना को मिटायेंगें

सिद्धिविनायक बप्पा सबको सिद्धि दिलायेंगें।


➖ अशोक..🖋️


#गणेशोत्सव2020

अगला लेख: वक़्त अच्छा हो तो....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 जुलाई 2020
यह फूल इस सृष्टि का अनमोल उपहार है। कितना सुंदर, मनमोहक और आकर्षक है। वास्तव में प्रकृति की दी हुई हर चीज सुंदर होती है। जिसमें फूलों की तो बात ही कुछ और होती है। रंग विरंगे फूल अपने रंग रूप और सुगंध को फैला देते हैं। जिससे प्रकृति के रूप सौंदर्य में और अधिक निखार आ जाता है। जबकि इन फूलों का जीवन स
21 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो….हम अपने आस - पास अक्सर लोंगों को बोलते हुए सुनते हैं, हर कोई आध्यात्मिक अंदाज में संदेश देते रहता है - 'कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो…...।' वस्तुतः ठीक भी है। एक विचार यह है कि फल की चिंता कर्म करने से पहले करना कितना उचित है अर्थात निस्वार्थ भाव से कर्म को बखूब
22 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
हि
हिंदी साहित्य के धरोहर "मुंशी प्रेमचंद"जनमानस का लेखक, उपन्यासों का सम्राट और कलम का सिपाही बनना सबके बस की बात नहीं है। यह कारनामा सिर्फ मुंशी प्रेमचंद जी ने ही कर दिखाया। सादा जीवन उच्च विचार से ओतप्रोत ऐसा साहित्यकार जो साहित्य और ग्रामीण भारत की समस्याओं के ज्यादा करीब रहा। जबकि उस समय भी लिखने
01 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x