जय बोलो प्रभु श्री राम की

05 अगस्त 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (312 बार पढ़ा जा चुका है)

जय बोलो प्रभु श्री राम की



जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

पावन नगरी के उस महिमा की

तुलसीदास जी के गरिमा की

जो जन्म भूमि कहलाता है

त्रेतायुग से जिसका नाता है

सुनि रामराज्य मन भाता है।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

जग के पालनहारी श्री राम

बिगड़ी सबके बनाते काम

भ्राता भरत के सबकुछ राम

अहिल्या के जीवनदाता राम

केवट के तो विधाता राम।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

शबरी के तो लाड़ले राम

चखि-चखि के बेर खिलाये राम

लक्ष्मण को प्राण प्रिय हैं राम

ऋषि मुनियों के तो चहेते राम

खरदूषण के बधकर्ता हैं राम।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

हनुमान के मन में बसते हैं राम

सुग्रीव सहायक बने वो राम

बाली के प्राणहर्ता हैं राम

कपिराज के परममित्र श्री राम

जटायु के मोक्ष दायक श्री राम।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

रामेश्वरम तीर्थ स्थापक राम

रामसेतु निर्माता राम

असुर निकन्दन जय श्री राम

रावण के संहारक राम

विभीषण के हैं तारक राम।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

हिंदुओं के प्राणविधाता राम

वैदेही सौभाग्य के दाता राम

सीता के मन में बसते राम

मंगलकारी हैं प्रभु श्री राम।


➖ प्रा. अशोक सिंह






अगला लेख: स्वस्थ रहना है तो....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जुलाई 2020
अजी ये क्या हुआ…?होली रास नहीं आयाकोरोना काल जो आयामहामारी साथ वो लायाअपना भी हुआ परायाबीपी धक धक धड़कायाछींक जो जोर से आया…तापमान तन का बढ़ायाऐंठन बदन में लायाथरथर काँपे पूरी कायाछूटे लोभ मोह मायादुश्मन लागे पूरा भायापूरा विश्व थरथराया……नाम दिया महामारीजिससे डरे दुनिया सारीचीन की चाल सभी पे भारीबौखला
23 जुलाई 2020
28 जुलाई 2020
को
कोरोना देव की कृपाजीवन का नाहीं कौनों ठिकानामरै के चाहिय बस कौनों बहाना बुढ़न ठेलन का बाटै आना जानाजवनकेउ का नाहीं बाटै ठिकानारोग ब्याधि का बाटै ताना बानाफैलल बा भाई वायरस कोरोनाझटके पटके में होला रोना धोनाकितना मरि गयेन बिना कोरोनामेहर माई बाप के बाटै भाई रोनाअस्पताल वाले पैसा लूटत बानाभागल भागल बीर
28 जुलाई 2020
10 अगस्त 2020
रात बेखबर चुपचाप सी है आओ मैं तुम्हे तुमसे रूबरू करवाउंगी मेरे डायरी में लिखे हर एक नज्म के किरदार से मिलाऊँगी मैं तुम्हे बतलाऊँगी की जब तुम नहीं थे फिर भी तुम थे जब कभी कभी दर्द आँखों से टपक जाती थी ..... कागजों पर एक बेरंग तस्वी
10 अगस्त 2020
07 अगस्त 2020
मे
मेहतर….साहबअक्सर मैंने देखा हैअपने आस-पासबिल्डिंग परिसर व कालोनियों मेंकाम करते मेहतर परडाँट फटकार सुनातेलोंगों कोजिलालत करतेमारते भर नहींपार कर देते हैं सारी हदेंथप्पड़ रसीद करने में भी नहीं हिचकते।सच साहबकिसी और पर नहींबस उसी मेहतर परजो साफ करता हैउनकी गंदगीबीड़ी सिगरेट की ठुंठेंबियर शराब की खाली बो
07 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
सा
सागर की लहरें...सागर की लहरें किनारे से बार-बार टकरातीचीखती उफान मारती रह-रहकर इतरातीमन की बेचैनी विह्वलता साफ झलकतीसदियों से जीवन की व्यथा रही छिपाती पर किनारे पहुँचते ही शांत सी हो जातीवह अनकही बात बिना कहे लौट जातीअपने स्पर्श से मन आल्हादित कर जातीसंग खेलने के लिए उत्साहित हो उकसातीजैसे ही हाथ बढ़
11 अगस्त 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
को
पिछले चार महीनें से कोरोना वायरस का प्रकोप चारो ओर फैला हुआ है। कोरोना महामारी के कारण लोंगों का जीना मुहाल है। ऐसे में मुसलमान भाइयों के बकरीद पर्व का आगमन हो रहा है। पूरा विश्व आज कोरोना से त्राहि त्राहि कर रहा है तो ऐसे में बकरीद का पर्व इससे अछूता कैसे रह सकता है। कोरोना के चलते विश्वव्यापी मंदी
24 जुलाई 2020
15 अगस्त 2020
अब नहीं रहा.....NO more...ईश्वर की लीला ईश्वर ही जानें..देता है तो जी भर देता हैलेता है तो कमर तोड़ देता हैपरीक्षा भी लेता है तो कितना कठिन, दुष्कर, प्राणघातकसबकुछ छीन लेता है- प्राण तकजिसने सबकुछ झेलाकभी कुछ न बोलाउफ़ तक न कियासँभलने का समय आया तोउसी के साथ इतना बड़ा अन्यायआखिर क्यों...?क्या इस क्यों.
15 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x