जय बोलो प्रभु श्री राम की

05 अगस्त 2020   |  अशोक सिंह   (306 बार पढ़ा जा चुका है)

जय बोलो प्रभु श्री राम की



जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

पावन नगरी के उस महिमा की

तुलसीदास जी के गरिमा की

जो जन्म भूमि कहलाता है

त्रेतायुग से जिसका नाता है

सुनि रामराज्य मन भाता है।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

जग के पालनहारी श्री राम

बिगड़ी सबके बनाते काम

भ्राता भरत के सबकुछ राम

अहिल्या के जीवनदाता राम

केवट के तो विधाता राम।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

शबरी के तो लाड़ले राम

चखि-चखि के बेर खिलाये राम

लक्ष्मण को प्राण प्रिय हैं राम

ऋषि मुनियों के तो चहेते राम

खरदूषण के बधकर्ता हैं राम।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

हनुमान के मन में बसते हैं राम

सुग्रीव सहायक बने वो राम

बाली के प्राणहर्ता हैं राम

कपिराज के परममित्र श्री राम

जटायु के मोक्ष दायक श्री राम।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

रामेश्वरम तीर्थ स्थापक राम

रामसेतु निर्माता राम

असुर निकन्दन जय श्री राम

रावण के संहारक राम

विभीषण के हैं तारक राम।


जय बोलो प्रभु श्री राम की

अयोध्या नगरी दिव्य धाम की

हिंदुओं के प्राणविधाता राम

वैदेही सौभाग्य के दाता राम

सीता के मन में बसते राम

मंगलकारी हैं प्रभु श्री राम।


➖ प्रा. अशोक सिंह






अगला लेख: स्वस्थ रहना है तो....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अगस्त 2020
कल पाँच अगस्त को सारा विश्व के महान घटनाका साक्षी बना... और ये घटना थी श्री राम जन्म भूमि अयोध्या में राम मन्दिर भूमिपूजन... हम सभी वास्तव में बहुत सौभाग्यशाली हैं कि हमारे माननीय प्रधान मंत्री जीने सनातन महानुभावों की साक्षी में कल जो वहाँ भूमि पूजन किया हम सबको अपने अपनेनिवास से ही उस यज्ञ में सम्
06 अगस्त 2020
23 जुलाई 2020
अजी ये क्या हुआ…?होली रास नहीं आयाकोरोना काल जो आयामहामारी साथ वो लायाअपना भी हुआ परायाबीपी धक धक धड़कायाछींक जो जोर से आया…तापमान तन का बढ़ायाऐंठन बदन में लायाथरथर काँपे पूरी कायाछूटे लोभ मोह मायादुश्मन लागे पूरा भायापूरा विश्व थरथराया……नाम दिया महामारीजिससे डरे दुनिया सारीचीन की चाल सभी पे भारीबौखला
23 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो….हम अपने आस - पास अक्सर लोंगों को बोलते हुए सुनते हैं, हर कोई आध्यात्मिक अंदाज में संदेश देते रहता है - 'कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो…...।' वस्तुतः ठीक भी है। एक विचार यह है कि फल की चिंता कर्म करने से पहले करना कितना उचित है अर्थात निस्वार्थ भाव से कर्म को बखूब
22 जुलाई 2020
15 अगस्त 2020
अब नहीं रहा.....NO more...ईश्वर की लीला ईश्वर ही जानें..देता है तो जी भर देता हैलेता है तो कमर तोड़ देता हैपरीक्षा भी लेता है तो कितना कठिन, दुष्कर, प्राणघातकसबकुछ छीन लेता है- प्राण तकजिसने सबकुछ झेलाकभी कुछ न बोलाउफ़ तक न कियासँभलने का समय आया तोउसी के साथ इतना बड़ा अन्यायआखिर क्यों...?क्या इस क्यों.
15 अगस्त 2020
12 अगस्त 2020
स्
स्वस्थ रहना है तो….स्वस्थ रहना है तो नियम का पालन अर्थात अनुशासन को जीवन में अपनाना होगा। कहा जाता है कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी संपत्ति है। बिल्कुल सही है। यदि स्वास्थ्य अच्छा नहीं होगा तो खुशी व प्रसन्नता कहाँ से मिलेगी। कहने का तात्पर्य यह है कि खुशी व प्रसन्नता के लिए सुख सुविधाओं का व शारीरिक सुख
12 अगस्त 2020
07 अगस्त 2020
मे
मेहतर….साहबअक्सर मैंने देखा हैअपने आस-पासबिल्डिंग परिसर व कालोनियों मेंकाम करते मेहतर परडाँट फटकार सुनातेलोंगों कोजिलालत करतेमारते भर नहींपार कर देते हैं सारी हदेंथप्पड़ रसीद करने में भी नहीं हिचकते।सच साहबकिसी और पर नहींबस उसी मेहतर परजो साफ करता हैउनकी गंदगीबीड़ी सिगरेट की ठुंठेंबियर शराब की खाली बो
07 अगस्त 2020
09 अगस्त 2020
मै
मैं सड़क …अरे साहबकोरोना महामारी के कारणफुर्सत मिलीआपबीती सुनाने कामौका मिला।सदियों से सेवाव्रतीदिन-रात सजग तैनातसीनें पर सरपट दौड़ती गाड़ियों का अत्याचार।हाँ साहब.. 'अत्याचार'तेजगति से बेतहाशाचीखती - चिल्लातीभागती गाड़ियाँ..।क्षमता से अधिकबोझ लादे…आवश्यकता से अधिकरफ़्तार में भागती गाड़ियाँ...।मेरे चिथड़े
09 अगस्त 2020
01 अगस्त 2020
तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि
01 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x