सबके हो तुम राम

06 अगस्त 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (357 बार पढ़ा जा चुका है)

सबके हो तुम राम

कल पाँच अगस्त को सारा विश्व के महान घटना का साक्षी बना... और ये घटना थी श्री राम जन्म भूमि अयोध्या में राम मन्दिर भूमि पूजन... हम सभी वास्तव में बहुत सौभाग्यशाली हैं कि हमारे माननीय प्रधान मंत्री जी ने सनातन महानुभावों की साक्षी में कल जो वहाँ भूमि पूजन किया हम सबको अपने अपने निवास से ही उस यज्ञ में सम्मिलित होने का सुअवसर प्राप्त हुआ और अब निकट भविष्य में भव्य राम मन्दिर के दर्शनों का सौभाग्य न केवल भारतवासियों को बल्कि समस्त विश्व को प्राप्त होगा... भगवान श्री राम केवल किसी सम्प्रदाय विशेष की आस्था मात्र का विषय ही नहीं हैं, अपितु एक स्वस्थ, सन्तुलित और मर्यादित जीवन शैली का आदर्श भी हैं... यही कारण है वे इस राष्ट्र के कण कण में समाए हुए हैं... पाँच सौ वर्षों के अथक संघर्षों, प्रयासों और प्रतीक्षा के बाद अब जब भगवान श्री राम का भव्य मन्दिर वहाँ निर्मित होने जा रहा है तो वह केवल एक ईंट पत्थर का मन्दिर मात्र का निर्माण ही नहीं है... बल्कि राम मन्दिर निर्माण वास्तव में प्रतीक है इस भावना का भगवान राम के महान आदर्शों की पुनरस्थापना होने जा रही है... तो, इसी शुभावसर पर प्रस्तुत हैं कुछ भाव सुमन भगवान श्री राम को नमन करते हुए... अन्त में इसी अवसर के लिए डॉ दिनेश शर्मा द्वारा रची गई पंक्तियाँ भी सुनने के लिए वीडियो देखें... कात्यायनी...

https://youtu.be/D4iL5loTJw8

अगला लेख: कालिदास सदा सम सामयिक



जय जय श्रीराम

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अगस्त 2020
हम ईश्वर को यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ ढूँढ़ते फिरते हैं, लेकिन अपने भीतरझाँककर नहीं देखते... हमारा ईश्वर तो हमारे भीतर ही हमारी आत्मा के रूप मेंविराजमान है... प्रकृति के हर कण में... हर चराचर में ईश्वर विद्यमान है... जिसदिन उस ईश्वर के दर्शन कर लिए उस दिन से उसे कहीं ढूँढने की आवश्यकता नहीं रहजाएगी... कुछ
09 अगस्त 2020
20 अगस्त 2020
कालिदास सदा सम सामयिकआषाढ़शुक्ल प्रतिपदा – जो की इस वर्ष 21 जून को थी – को महाकवि कालिदास के जन्मदिवस के रूप में कुछ लोग मानते हैं| अभी पिछले दिनों एक मित्र इसी विषय पर चर्चा कर रहे थे कि कोरोना संकट के कारणमहाकवि की जयन्ती नहीं मनाई जा सकी | मैं कालिदासकी अध्येता हूँ और वे हमारे प्रिय कवि हैं, सो उन
20 अगस्त 2020
05 अगस्त 2020
रा
दिनांक-5 अगस्त,20 ! प्रधानमंत्री श्री मोदी जीके कर कमलों से अयोध्या में भव्य राम मंदिर भूमि पूजन सचमुच किसी दिवा स्वप्नं के पूरा होने से कम नहीं है। इस दिनभारतीय जनमानस ने प्रधानमंत्री जी को एक महायोगी के रूप में देखा । उनके बोल-वचन, छवि नेता से अधिक किसी संत सी लग रही थी। सचमुच! आज देश को ऐ
05 अगस्त 2020
30 जुलाई 2020
आप सभी को रक्षा बन्धन के पर्व की बड़ी उत्सुकतासे प्रतीक्षा होगी | आगामी तीन अगस्त को रक्षा बन्धन का उल्लासमय प्रेममय पर्व है | सभीको बहुत बहुत बधाई | पूर्णिमा तिथि का आगमन दो अगस्त को रात्रि साढ़े नौ बजे के लगभग होगा इसलिएव्रत की पूर्णिमा तो दो अगस्त को ही होगी | लेकिन नारियली पूर्णिमा उदया तिथि मेंमा
30 जुलाई 2020
11 अगस्त 2020
वंशी की वह मधुर ध्वनि... जी हाँ, यदि हम अपने चारों ओरकी ध्वनियों से – चारों ओर के कोलाहल से मुक्त करके मौन का साधन करते हुए अपनेभीतर झाँकने का प्रयास करें तो कान्हा की वह लौकिक दिव्य ध्वनि हमारे मन में गूँजसकती है... ऐसी कुछ उलझी सुलझी भावनाओं के साथ आज स्मार्तों और कल वैष्णवों कीश्री कृष्ण जयन्ती क
11 अगस्त 2020
28 जुलाई 2020
यादो के अनेकरूप होते हैं, अनेकों भाव और अनेकों रंग होते हैं...अपनी पिछली रचना "तुम्हारी याद यों आए" में यादों को इसी प्रकार के कुछउपमानों के साथ चित्रित करने प्रयास था, आज की रचना "ऐसे यादतुम्हारी आए, सूर्य डूब जाने पर जैसे अलबेली संध्या अलसाए..." में भी इसी प्रकार का प्रयास किया गया है... सुधी श्रो
28 जुलाई 2020
13 अगस्त 2020
परसों यानीपन्द्रह अगस्त को पूरा देश स्वतन्त्रता दिवस की वर्षगाँठ पूर्णहर्षोल्लास के साथ मनाएगा... अपने सहित सभी को स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक बधाईऔर शुभकामनाएँ... स्वतन्त्रता –आज़ादी – व्यक्ति को जब उसके अपने ढंग से जीवंन जीने का अवसर प्राप्त होता है तोनिश्चित रूप से उसका आत्मविश्वास बढ़ने के साथ ही
13 अगस्त 2020
07 अगस्त 2020
कुछ तो कोरोना का डर औरकुछ पिछले दिनों समाचारों की सुर्खियाँ बने आत्महत्या के समाचार, कई लोगों के मन में भय बैठ गया किपता नहीं हमारे साथ कल क्या होगा | वास्तव में इस महामारी के कारण लोगों कीनौकरियों पर बड़ा दुष्प्रभाव पड़ा है, जिनके अपने व्यवसाय हैंउनके भी व्यवसाय मंदी की मार झेल रहे हैं | पूरे विश्व म
07 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
श्री कृष्ण जन्माष्टमीआज और कल पूरा देश जन साधारण को कर्म, ज्ञान, भक्ति, आत्मा आदि की व्याख्या समझानेवाले युग प्रवर्तक परम पुरुष भगवान् श्री कृष्ण का 5247वाँ जन्मदिनमनाने जा रहा है | आज स्मार्तों (गृहस्थ लोग, जो श्रुति स्मृतियों में विश्वास रखते हैं तथापञ्चदेव ब्रह्मा, विष्णु, महेश, गणेश और माँ पार्व
11 अगस्त 2020
10 अगस्त 2020
रात बेखबर चुपचाप सी है आओ मैं तुम्हे तुमसे रूबरू करवाउंगी मेरे डायरी में लिखे हर एक नज्म के किरदार से मिलाऊँगी मैं तुम्हे बतलाऊँगी की जब तुम नहीं थे फिर भी तुम थे जब कभी कभी दर्द आँखों से टपक जाती थी ..... कागजों पर एक बेरंग तस्वी
10 अगस्त 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
11 अगस्त 2020
अलौकिकचरित्र के महामानव श्रीकृष्णमित्रों, आज हम सब भगवान श्रीकृष्ण का जन्ममहोत्सव मना रहे हैं | तो सबसे पहले तो सभी को इस महापर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ | आज कहीं लोगव्रत उपवास आदि का पालन कर रहे होंगे, कहीं भगवान कृष्ण की लीलाओं को प्रदर्शित करती आकर्षक झाँकियाँ सजाईजाएँगी तो कहीं भगवान की लीलाओं का
11 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x