मेहतर....

07 अगस्त 2020   |  अशोक सिंह   (434 बार पढ़ा जा चुका है)

मेहतर….


साहब

अक्सर मैंने देखा है

अपने आस-पास

बिल्डिंग परिसर व कालोनियों में

काम करते मेहतर पर

डाँट फटकार सुनाते

लोंगों को

जिलालत करते

मारते भर नहीं

पार कर देते हैं सारी हदें

थप्पड़ रसीद करने में भी नहीं हिचकते।


सच साहब

किसी और पर नहीं

बस उसी मेहतर पर

जो साफ करता है

उनकी गंदगी

बीड़ी सिगरेट की ठुंठें

बियर शराब की खाली बोतलें

प्लास्टिक फाइबर की गिलासें

अधखाया तंदूर

दबे कुचले अंगूर

सब्जी फलों के छिलकें

बदबूदार बिरयानी के डिब्बे।


और क्या साहब

गरीबों का मुँह चिढ़ाता

फटा पुराना मुँह बाया जूता

चमरौधा सैंडिल और चप्पल

मिठाइयों के डिब्बे और पत्तल

पूरे तन मन से सफाई करता

सुबह शाम मिलते सलामी देता

सम्मान का पूरा हकदार होता

पर हिस्से में क्या मिलता..?

तानें और झिड़कियाँ

पगार न देने की धमकियाँ।


तंग हो चुका हूँ ...साहब

सुन सुनकर तानें और फटकार

पगार न देनें की धमकी सरकार

आखिर क्यों…?

पापी पेट का सवाल है..

वे नाक बंद कर के निकालते हैं

घर से बाहर

हम सिर पर उठाकर ले जाते हैं

बस्साते कूड़े कचरे को

कोई गंदगी फैलाता है

पर मेहतर ही साफ करता है...।


खैर छोड़ो साहब..

मानवता खो गई है

चंद पैसों की चकाचौंध में

शूट बूट और टाई की रौब में

अहंकार में सब अंधे हैं…

नहीं दिखता…

भूखे पेट दोपहर तक का काम

न चाय-पानी

न तेल-साबुन का दाम

हमारे लिए बदबू ही खुशबू है

दो वक्त की रोटी ही ऐशोआराम

बिना मेहनत के खाना है हराम।


साहब…

सम्मान है सबसे बड़ा ईनाम

पर यहाँ लगते हैं इल्जाम

चप्पल जूते की चोरी का

मेहनत के बदले कामचोरी का

बुरा नहीं मानियेगा साहब

दरअसल

महल में रहने वाले का दिल

है झोपड़ा सा…

झोपड़े में रहनेवाले का दिल

है महल सा…

ये सच है साहब

हम भेंट के नहीं

दरअसल पेट से भूखे हैं

भूख मिट जाए तो

हम गाली भी हँस के सुन लेते हैं।


➖ प्रा. अशोक सिंह..🖋️

अगला लेख: स्वस्थ रहना है तो....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 जुलाई 2020
बप्पा को लाना हमारी जिम्मेदारी है...अबकी बरस तो कोरोना महामारी हैउत्सव मनाना तो हमारी लाचारी हैरस्में निभाना तो हमारी वफादारी हैबप्पा को लाना तो हमारी जिम्मेदारी है।अबकी बरस हम बप्पा को भी लायेंगेंसादगी से हम सब उत्सव भी मनायेंगेंसामाजिक दूरियाँ हम सब अपनायेंगेंमास्क सेनिटाइजर प्रयोग में लायेंगें।दू
29 जुलाई 2020
09 अगस्त 2020
हम ईश्वर को यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ ढूँढ़ते फिरते हैं, लेकिन अपने भीतरझाँककर नहीं देखते... हमारा ईश्वर तो हमारे भीतर ही हमारी आत्मा के रूप मेंविराजमान है... प्रकृति के हर कण में... हर चराचर में ईश्वर विद्यमान है... जिसदिन उस ईश्वर के दर्शन कर लिए उस दिन से उसे कहीं ढूँढने की आवश्यकता नहीं रहजाएगी... कुछ
09 अगस्त 2020
09 अगस्त 2020
मै
मैं सड़क …अरे साहबकोरोना महामारी के कारणफुर्सत मिलीआपबीती सुनाने कामौका मिला।सदियों से सेवाव्रतीदिन-रात सजग तैनातसीनें पर सरपट दौड़ती गाड़ियों का अत्याचार।हाँ साहब.. 'अत्याचार'तेजगति से बेतहाशाचीखती - चिल्लातीभागती गाड़ियाँ..।क्षमता से अधिकबोझ लादे…आवश्यकता से अधिकरफ़्तार में भागती गाड़ियाँ...।मेरे चिथड़े
09 अगस्त 2020
24 जुलाई 2020
यात्री मार्ग और लक्ष्ययदि मैं देखतीरही बाहरतलाशती रही यहाँ वहाँ येन केन प्रकारेणमन की शान्ति और आनन्द कोतो होना पड़ेगा निराशक्योंकि कोई बाहरी वस्तु, सम्बन्ध, या कुछभी औरनहीं दे सकता आनन्द के वो क्षण / शान्तिके वो पलजो मिलेंगे मुझे केवल अपने ही भीतरइसीलिए तो करती हूँ प्रयास झाँकने का अपनेभीतर...डूब जा
24 जुलाई 2020
27 जुलाई 2020
साप्ताहिक प्रतियोगिता में "प्रथम" सर्वोतकृष्ठ चयनित रचनासमुह का नाम:- साहित्यिक मित्र मंडल जबलपुर ( एम. पी.)पटल संख्या: १-२-३-४-५-६-७ एवम् ८संपर्क:- 9708055684 / 7209833141शीर्षक: आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧आँखों के किनारे ठहरा एक आंसूभक्तों का सर्वश्रेष्ठ धन है गिरते आंसू🌹🌹🌹
27 जुलाई 2020
10 अगस्त 2020
को
कोविड की तानाशाहीहम कहते हैं बुरा न मानोमुँह को छिपाना जरूरी हैअपनेपन में गले न लगाओदूरियाँ बनाना जरूरी हैकोरोना महामारी तोएक भयंकर बीमारी हैकहने को तो वायरस हैपर छुआछूत बीमारी हैहट्टे कट्टे इंसानों पर भी एक अकेला भारी हैआँख मुँह और नाक कान सेकरता छापेमारी हैएक पखवाड़े के भीतर हीअपना जादू चलाता हैकोर
10 अगस्त 2020
10 अगस्त 2020
रात बेखबर चुपचाप सी है आओ मैं तुम्हे तुमसे रूबरू करवाउंगी मेरे डायरी में लिखे हर एक नज्म के किरदार से मिलाऊँगी मैं तुम्हे बतलाऊँगी की जब तुम नहीं थे फिर भी तुम थे जब कभी कभी दर्द आँखों से टपक जाती थी ..... कागजों पर एक बेरंग तस्वी
10 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
सा
सागर की लहरें...सागर की लहरें किनारे से बार-बार टकरातीचीखती उफान मारती रह-रहकर इतरातीमन की बेचैनी विह्वलता साफ झलकतीसदियों से जीवन की व्यथा रही छिपाती पर किनारे पहुँचते ही शांत सी हो जातीवह अनकही बात बिना कहे लौट जातीअपने स्पर्श से मन आल्हादित कर जातीसंग खेलने के लिए उत्साहित हो उकसातीजैसे ही हाथ बढ़
11 अगस्त 2020
16 अगस्त 2020
ऐसा भी दिन आएगा कभी सोचा न था….सृष्टि के आदि से लेकर आजतक न कभी ऐसा हुआ था और शायद न कभी होगा….। जो लोग हमारे आसपास 80 वर्ष से अधिक आयु वाले जीवित बुजुर्ग हैं, आप दस मिनिट का समय निकालकर उनके पास बैठ जाइए और कोरोना की बात छेड़ दीजिए। आप देखेंगे कि आपका दस मिनिट का समय कैसे दो से तीन घंटे में बदल गया
16 अगस्त 2020
01 अगस्त 2020
हि
हिंदी साहित्य के धरोहर "मुंशी प्रेमचंद"जनमानस का लेखक, उपन्यासों का सम्राट और कलम का सिपाही बनना सबके बस की बात नहीं है। यह कारनामा सिर्फ मुंशी प्रेमचंद जी ने ही कर दिखाया। सादा जीवन उच्च विचार से ओतप्रोत ऐसा साहित्यकार जो साहित्य और ग्रामीण भारत की समस्याओं के ज्यादा करीब रहा। जबकि उस समय भी लिखने
01 अगस्त 2020
15 अगस्त 2020
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳जय हिन्द🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🌏 🌎 🌍 ।।धरा विचलित है।। 🌎 🌏 🌏🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳धरती माता की पीड़ा- अकथनीय- अतिरेकआर्यावर्त भू - खण्ड संकुचन! भारतीय चेतपच्चहत्तरवें वर्ष में प्रवेश, विश्व-गुरु बन देखवंदे मातरम् अंगिभूत कर दासता भाव फेंकदिवनिशि धरती
15 अगस्त 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
12 अगस्त 2020
कान्हां आयोकृष्ण मथुरा जमुना पार आयोगोकुल जा बहुत रे धूम मचायोसथियन संग सारो माखन चुरा खायोगइयन को सारे दिन गोपाल चरायोबांसुरियां धुन सुन जग बउरायोगोपियन को प्यारो बहोत भायोदेवकी माता को कन्हिया जायोयशोदा पलना डाल झुलायोकालिया नाग को मार भगायोगोबरधन उठा इंद्र को हरायोमामा कंस को बहुत डरायोपूतना क
12 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x