मैं सड़क....

09 अगस्त 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (462 बार पढ़ा जा चुका है)

मैं सड़क …


अरे साहब

कोरोना महामारी के कारण

फुर्सत मिली

आपबीती सुनाने का

मौका मिला।


सदियों से सेवाव्रती

दिन-रात सजग तैनात

सीनें पर सरपट दौड़ती

गाड़ियों का अत्याचार।


हाँ साहब.. 'अत्याचार'

तेजगति से बेतहाशा

चीखती - चिल्लाती

भागती गाड़ियाँ..।


क्षमता से अधिक

बोझ लादे…

आवश्यकता से अधिक

रफ़्तार में भागती गाड़ियाँ...।


मेरे चिथड़े उड़ जाते हैं

दरारे आ जाती हैं

बड़े-बड़े गड्ढे बन जाते हैं

पूरी तरह टूट जाता हूँ...।


पीडब्लूडी वाले आते हैं

मरम्मत कर जाते हैं

मरम्मत क्या..थूकपट्टी.. मतलब

मरहम पट्टी लगा जाते हैं।


शुक्र हो विज्ञान और तकनीकी का

डामरीकरण होने लगा

वरना धूल - मिट्टी से तो

मेरा दम घुटने लगता था।


बारिश में तो

गज़ब का नज़ारा होता

गड्ढे में पानी होता या पानी में गड्ढा

परखना आसान नहीं था।


समय ने करवट लिया

जमाना नई तकनीकी का आया

सीमेंटीकरण कांक्रीट

धूल-धक्कड़ से छुटकारा मिला।


पर साहब स्थिति और बदतर होते

मैंनें इन्हीं आँखों से देखा है

गाड़ियों के साथ-साथ

इंसानों के भी परखच्चे उड़ते देखा है।


सड़क अच्छी होने पर

इंसान बेकाबू हो जाता है

सरपट गाड़ी को दौड़ाता है

जैसे यमराज के पास जाने की जल्दी हो...।


आवश्यकता से अधिक रफ़्तार

समय से पहले पहुंचनें की हड़बड़ी

यमलोक के रास्ते पर ले जाती है

पलक झपकते ही यमराज के दर्शन कराती है।


आये दिन आप भी समाचार में

दुर्घटना की खबरें पढ़ते या सुनते होंगें

किसी का पूरा परिवार उजड़ गया

तो किसी का परिवार हुआ अनाथ ...।


दुर्घटना में जो बचा भी तो

अंधा लूला या लँगड़ा बन जाता है

विकलांग जीवन को बाध्य होकर

जिंदा बोझ बन जाता है।


सच कहूँ तो सारा ठीकरा

सड़क के ही सिर पर फूटता है

कोई इंसान को दोष नहीं देता…

खैर ये त्रासदी झेलने की आदत हो गई है।


दरअसल ये हुनर

मैंनें भी आजकल के नेताओं से सीखा है

खाल मोटी कर लो, आरोप लगने दो…

क्या फर्क पड़ता है…?


फर्क तो बहुत पड़ता है.. साहब

पर दुर्भाग्य यह है कि

संविधान भी तो बूढ़ा हो चला है

न्याय मिलने में पीढ़ियाँ चली जाती हैं….।

➖ प्रा. अशोक सिंह...🖋️

अगला लेख: स्वस्थ रहना है तो....



अति सुन्दर लेखनी

अशोक सिंह
02 सितम्बर 2020

धन्यवाद बंधुवर..🙏

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अगस्त 2020
को
कोविड की तानाशाहीहम कहते हैं बुरा न मानोमुँह को छिपाना जरूरी हैअपनेपन में गले न लगाओदूरियाँ बनाना जरूरी हैकोरोना महामारी तोएक भयंकर बीमारी हैकहने को तो वायरस हैपर छुआछूत बीमारी हैहट्टे कट्टे इंसानों पर भी एक अकेला भारी हैआँख मुँह और नाक कान सेकरता छापेमारी हैएक पखवाड़े के भीतर हीअपना जादू चलाता हैकोर
10 अगस्त 2020
01 अगस्त 2020
हि
हिंदी साहित्य के धरोहर "मुंशी प्रेमचंद"जनमानस का लेखक, उपन्यासों का सम्राट और कलम का सिपाही बनना सबके बस की बात नहीं है। यह कारनामा सिर्फ मुंशी प्रेमचंद जी ने ही कर दिखाया। सादा जीवन उच्च विचार से ओतप्रोत ऐसा साहित्यकार जो साहित्य और ग्रामीण भारत की समस्याओं के ज्यादा करीब रहा। जबकि उस समय भी लिखने
01 अगस्त 2020
16 अगस्त 2020
ऐसा भी दिन आएगा कभी सोचा न था….सृष्टि के आदि से लेकर आजतक न कभी ऐसा हुआ था और शायद न कभी होगा….। जो लोग हमारे आसपास 80 वर्ष से अधिक आयु वाले जीवित बुजुर्ग हैं, आप दस मिनिट का समय निकालकर उनके पास बैठ जाइए और कोरोना की बात छेड़ दीजिए। आप देखेंगे कि आपका दस मिनिट का समय कैसे दो से तीन घंटे में बदल गया
16 अगस्त 2020
29 जुलाई 2020
बप्पा को लाना हमारी जिम्मेदारी है...अबकी बरस तो कोरोना महामारी हैउत्सव मनाना तो हमारी लाचारी हैरस्में निभाना तो हमारी वफादारी हैबप्पा को लाना तो हमारी जिम्मेदारी है।अबकी बरस हम बप्पा को भी लायेंगेंसादगी से हम सब उत्सव भी मनायेंगेंसामाजिक दूरियाँ हम सब अपनायेंगेंमास्क सेनिटाइजर प्रयोग में लायेंगें।दू
29 जुलाई 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x