जहाँ न मैंने तुझे पुकारा

09 अगस्त 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (441 बार पढ़ा जा चुका है)

जहाँ न मैंने तुझे पुकारा

हम ईश्वर को यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ ढूँढ़ते फिरते हैं, लेकिन अपने भीतर झाँककर नहीं देखते... हमारा ईश्वर तो हमारे भीतर ही हमारी आत्मा के रूप में विराजमान है... प्रकृति के हर कण में... हर चराचर में ईश्वर विद्यमान है... जिस दिन उस ईश्वर के दर्शन कर लिए उस दिन से उसे कहीं ढूँढने की आवश्यकता नहीं रह जाएगी... कुछ इसी प्रकार के उलझे सुलझे भाव हैं हमारी आज की इस रचना में... मैंने तो बस तुझे पुकारा... रचना सुनने के लिए कृपया वीडियो देखें... कात्यायनी...

https://youtu.be/_ZnuP4LkdBg

अगला लेख: पर्यूषण पर्व



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अगस्त 2020
परसों यानीपन्द्रह अगस्त को पूरा देश स्वतन्त्रता दिवस की वर्षगाँठ पूर्णहर्षोल्लास के साथ मनाएगा... अपने सहित सभी को स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक बधाईऔर शुभकामनाएँ... स्वतन्त्रता –आज़ादी – व्यक्ति को जब उसके अपने ढंग से जीवंन जीने का अवसर प्राप्त होता है तोनिश्चित रूप से उसका आत्मविश्वास बढ़ने के साथ ही
13 अगस्त 2020
08 अगस्त 2020
श्री कृष्ण जन्म महोत्सवमंगलवार 11 अगस्त को प्रातः नौ बजकर सात मिनट के लगभग बालव करण और वृद्धि योग मेंभाद्रपद कृष्ण अष्टमी तिथि का आरम्भ हो रहा है जो बारह अगस्त को प्रातः ग्यारहबजकर सोलह मिनट तक रहेगी | इस प्रकार ग्यारह अगस्त को स्मार्तों की श्री कृष्णजन्माष्टमी है और बारह अगस्त को वैष्णवों की श्री क
08 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
अलौकिकचरित्र के महामानव श्रीकृष्णमित्रों, आज हम सब भगवान श्रीकृष्ण का जन्ममहोत्सव मना रहे हैं | तो सबसे पहले तो सभी को इस महापर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ | आज कहीं लोगव्रत उपवास आदि का पालन कर रहे होंगे, कहीं भगवान कृष्ण की लीलाओं को प्रदर्शित करती आकर्षक झाँकियाँ सजाईजाएँगी तो कहीं भगवान की लीलाओं का
11 अगस्त 2020
08 अगस्त 2020
मैंने देखा, और मैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, और मैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ...प्रेम खटखटाता रहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपने ऊहापोह में...तभी कहा किसी ने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खोलो या ना खोलो / द्वार टूटेगा, और प्रेम आएगा
08 अगस्त 2020
11 अगस्त 2020
वंशी की वह मधुर ध्वनि... जी हाँ, यदि हम अपने चारों ओरकी ध्वनियों से – चारों ओर के कोलाहल से मुक्त करके मौन का साधन करते हुए अपनेभीतर झाँकने का प्रयास करें तो कान्हा की वह लौकिक दिव्य ध्वनि हमारे मन में गूँजसकती है... ऐसी कुछ उलझी सुलझी भावनाओं के साथ आज स्मार्तों और कल वैष्णवों कीश्री कृष्ण जयन्ती क
11 अगस्त 2020
03 अगस्त 2020
राखी का त्यौहार अनोखा बंधा हुआ कच्चे धागे में भाई बहन काप्यार अनोखा...बांधे बहना राखी, बदले में कोई उपहार न माँगे बना रहे ये प्यार सदा ही, माँगे येवरदान अनोखा...भाई के माथे पर चन्दन का टीका जब करतीबहना सुखी रहो तुम भाई सदा ही, देती ये आशीष अनोखा...कोई न ऐसा प्यारा नाता, जैसा भाई बहन का नाता भोला भाल
03 अगस्त 2020
10 अगस्त 2020
को
कोविड की तानाशाहीहम कहते हैं बुरा न मानोमुँह को छिपाना जरूरी हैअपनेपन में गले न लगाओदूरियाँ बनाना जरूरी हैकोरोना महामारी तोएक भयंकर बीमारी हैकहने को तो वायरस हैपर छुआछूत बीमारी हैहट्टे कट्टे इंसानों पर भी एक अकेला भारी हैआँख मुँह और नाक कान सेकरता छापेमारी हैएक पखवाड़े के भीतर हीअपना जादू चलाता हैकोर
10 अगस्त 2020
19 अगस्त 2020
चीनी मिटटी के पुतले, चमगादड़, कुत्ते, बिल्ली और कीट पतंगे खाने वाले,दुनिया पर राज करने का सपना देखने वाले,नींद कभी न खुलेगी, थक जायेंगे जगाने वाले। www.sahityasangeet.com
19 अगस्त 2020
28 जुलाई 2020
यादो के अनेकरूप होते हैं, अनेकों भाव और अनेकों रंग होते हैं...अपनी पिछली रचना "तुम्हारी याद यों आए" में यादों को इसी प्रकार के कुछउपमानों के साथ चित्रित करने प्रयास था, आज की रचना "ऐसे यादतुम्हारी आए, सूर्य डूब जाने पर जैसे अलबेली संध्या अलसाए..." में भी इसी प्रकार का प्रयास किया गया है... सुधी श्रो
28 जुलाई 2020
30 जुलाई 2020
आप सभी को रक्षा बन्धन के पर्व की बड़ी उत्सुकतासे प्रतीक्षा होगी | आगामी तीन अगस्त को रक्षा बन्धन का उल्लासमय प्रेममय पर्व है | सभीको बहुत बहुत बधाई | पूर्णिमा तिथि का आगमन दो अगस्त को रात्रि साढ़े नौ बजे के लगभग होगा इसलिएव्रत की पूर्णिमा तो दो अगस्त को ही होगी | लेकिन नारियली पूर्णिमा उदया तिथि मेंमा
30 जुलाई 2020
10 अगस्त 2020
रात बेखबर चुपचाप सी है आओ मैं तुम्हे तुमसे रूबरू करवाउंगी मेरे डायरी में लिखे हर एक नज्म के किरदार से मिलाऊँगी मैं तुम्हे बतलाऊँगी की जब तुम नहीं थे फिर भी तुम थे जब कभी कभी दर्द आँखों से टपक जाती थी ..... कागजों पर एक बेरंग तस्वी
10 अगस्त 2020
06 अगस्त 2020
कल पाँच अगस्त को सारा विश्व के महान घटनाका साक्षी बना... और ये घटना थी श्री राम जन्म भूमि अयोध्या में राम मन्दिर भूमिपूजन... हम सभी वास्तव में बहुत सौभाग्यशाली हैं कि हमारे माननीय प्रधान मंत्री जीने सनातन महानुभावों की साक्षी में कल जो वहाँ भूमि पूजन किया हम सबको अपने अपनेनिवास से ही उस यज्ञ में सम्
06 अगस्त 2020
15 अगस्त 2020
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳जय हिन्द🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🌏 🌎 🌍 ।।धरा विचलित है।। 🌎 🌏 🌏🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳धरती माता की पीड़ा- अकथनीय- अतिरेकआर्यावर्त भू - खण्ड संकुचन! भारतीय चेतपच्चहत्तरवें वर्ष में प्रवेश, विश्व-गुरु बन देखवंदे मातरम् अंगिभूत कर दासता भाव फेंकदिवनिशि धरती
15 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x