सागर की लहरें....

11 अगस्त 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (1928 बार पढ़ा जा चुका है)

सागर की लहरें...


सागर की लहरें किनारे से बार-बार टकराती

चीखती उफान मारती रह-रहकर इतराती

मन की बेचैनी विह्वलता साफ झलकती

सदियों से जीवन की व्यथा रही छिपाती

पर किनारे पहुँचते ही शांत सी हो जाती

वह अनकही बात बिना कहे लौट जाती

अपने स्पर्श से मन आल्हादित कर जाती

संग खेलने के लिए उत्साहित हो उकसाती

जैसे ही हाथ बढ़ाता छूकर चली जाती

वहाँ बैठे रहने का एक वजह छोड़ जाती।


इक शाम मुझे देखकर थोड़ी सी मुस्कुरायी

किनारे बैठा देखकर पास तक चली आयी

अकेले मेरे साथ बतियाने में जरा शरमाई

बलखाती लहराती चाल से थोड़ा भरमाई

चिंतित तन्मय भाव को भाँप कर फरमाई

यों अकेले में उदास क्यों बैठे हो मेरे भाई

न कोई साथी दोस्त अरे कहाँ गई भौजाई

चेहरे की उदासी बयां कर दी हुई लड़ाई

दिनरात की किचकिच ने ही बात बढ़ाई

वहाँ बैठे रहने का उसे वजह समझ में आई।


आजकल लोंगों का नजरिया बदलने लगा

माँ-बाप के प्रति बेटे का रवैया बदलने लगा

शादी के बाद फौरन चूल्हा अलग होने लगा

जोरू के चक्कर में परिवार बिखरने लगा

भाई-भाई के बीच का मनमुटाव बढ़ने लगा

राम-लक्ष्मण का वह मिसाल अब मिटने लगा

राम के लिए भरत का त्याग भी बिसरने लगा

श्रवण कुमार भी तो अब पैतरा बदलने लगा

इंसान भी राम-रहीम के चक्कर में फंसने लगा

इंसान का फितरत देखो कितना बदलने लगा।


लहरों ने मुस्कुराते हुए अपने स्वभाव को बतलाया

इंसान का दिया हुआ सारा माल वैसे ही लौटाया

किनारे पर जमा हुए कूड़े कचरे को दिखलाया

विसर्जन के नाम पर इंसान ने गंदगी था फैलाया

फूल माला नारियल के संग दीपक था जलाया

बप्पा की मूर्ति गहरे पानी में ले जाकर डुबाया

उलाहना भरे शब्दों ने दिल को झकझोर दिया

सागर में विसर्जन न करने का संकल्प किया

लहरों ने हाथ मिलाकर स्वच्छता का वचन लिया

सागर किनारे बैठे रहने का मुझे भी वजह मिला।


सागर की लहरें जोर-जोर से करने लगी थी गर्जना

किनारों से टकरा -टकराकर उसका सिर पटकना

अतिक्रमण से तंग आकर यों नराजगी दिखलाना

मुखरित प्रबल स्वर में उसका अपनी व्यथा सुनाना

समुद्री किनारों पर आ-आकर इंसानों का बस जाना

बार-बार पीछे हटने को सिमटने को मजबूर करना

आखिर कब तक और कितना है अत्याचार सहना

मैंने सदियों से साथ दिया है ले लो रामसेतु का बनना

सीने पर बड़ी-बड़ी जहाजों युद्धपोतों का भार उठाना

विश्व के कोने-कोने तक प्रमुदित सुरक्षित पहुँचाना

फिर क्यों इंसान चाहे है…. मेरे अस्तित्व को मिटाना

इंसानी स्वार्थवृत्ति से जायज़ है लहरों का आहत होना।


➖ प्रा. अशोक सिंह…..✒️

अगला लेख: स्वस्थ रहना है तो....



लाजवाब

अशोक सिंह
02 सितम्बर 2020

साधुवाद🙏

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2020
तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि
01 अगस्त 2020
28 जुलाई 2020
को
कोरोना देव की कृपाजीवन का नाहीं कौनों ठिकानामरै के चाहिय बस कौनों बहाना बुढ़न ठेलन का बाटै आना जानाजवनकेउ का नाहीं बाटै ठिकानारोग ब्याधि का बाटै ताना बानाफैलल बा भाई वायरस कोरोनाझटके पटके में होला रोना धोनाकितना मरि गयेन बिना कोरोनामेहर माई बाप के बाटै भाई रोनाअस्पताल वाले पैसा लूटत बानाभागल भागल बीर
28 जुलाई 2020
12 अगस्त 2020
स्
स्वस्थ रहना है तो….स्वस्थ रहना है तो नियम का पालन अर्थात अनुशासन को जीवन में अपनाना होगा। कहा जाता है कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी संपत्ति है। बिल्कुल सही है। यदि स्वास्थ्य अच्छा नहीं होगा तो खुशी व प्रसन्नता कहाँ से मिलेगी। कहने का तात्पर्य यह है कि खुशी व प्रसन्नता के लिए सुख सुविधाओं का व शारीरिक सुख
12 अगस्त 2020
12 अगस्त 2020
बा
प्रकृति और जीवन विश्व के दो महाद्वीपों के कुछ हिस्सों में हाथियों का साम्राज्य है। एशिया महाद्वीप में ऍलिफ़स और उसके संतान मैक्सिमस, इन्डिकस और सुमात्रेनस का साम्राज्य है और अफ्रीका में लॉक्सोडॉण्टा और उसके संतान अफ़्रीकाना और साइक्लोटिस का। गर्मियों के दिन शुरू होने वाले थे। मैक्सिमस, इन्डि
12 अगस्त 2020
16 अगस्त 2020
ऐसा भी दिन आएगा कभी सोचा न था….सृष्टि के आदि से लेकर आजतक न कभी ऐसा हुआ था और शायद न कभी होगा….। जो लोग हमारे आसपास 80 वर्ष से अधिक आयु वाले जीवित बुजुर्ग हैं, आप दस मिनिट का समय निकालकर उनके पास बैठ जाइए और कोरोना की बात छेड़ दीजिए। आप देखेंगे कि आपका दस मिनिट का समय कैसे दो से तीन घंटे में बदल गया
16 अगस्त 2020
15 अगस्त 2020
अब नहीं रहा.....NO more...ईश्वर की लीला ईश्वर ही जानें..देता है तो जी भर देता हैलेता है तो कमर तोड़ देता हैपरीक्षा भी लेता है तो कितना कठिन, दुष्कर, प्राणघातकसबकुछ छीन लेता है- प्राण तकजिसने सबकुछ झेलाकभी कुछ न बोलाउफ़ तक न कियासँभलने का समय आया तोउसी के साथ इतना बड़ा अन्यायआखिर क्यों...?क्या इस क्यों.
15 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x