तन्हाई ये तन्हाई

16 अगस्त 2020   |  Arun choudhary(sir)   (423 बार पढ़ा जा चुका है)

तन्हाई ये तन्हाई , डरा देती है ये तन्हाई;

ज़िन्दगी में कई बार,गुजरा हूं इस तन्हाई से;

दिल धड़कता है,जब सामना होता है तन्हाई से।

बचपन से ही उठ गया, मां बाप का वह साया;

वृद्धावस्था से जूझ रहे, नाना नानी का मिला साया;

बालपन से ही तन्हा था,मिली मामा की छत्रछाया;

किशोरावस्था में कई दोस्त बने,मिला मुझे हमसाया।

नाना नानी की मौत के बाद,फिर से मिली मुझे तन्हाई;

दूर शहर हॉस्टल में पहुंच, शुरू हुई फिर एक कहानी;

दोस्त बिछुड़े ,परिवार छूटा,फिर मैं रह गया तन्हा तन्हा;

मां बाप,नाना नानी,मामा और दोस्तों से हो गई जुदाई;

तन्हाई ये तन्हाई, डरा देती हैं ये वीरान सी तन्हाई।

नए दोस्त मिले,नई दुनिया मिली,दूर हुई फिर तन्हाई;

स्कूली शिक्षा पूरी होते ही ,कॉलेज में प्रवेश की तैयारी;

महानगर पहुंच शुरू हुई, एक नई खिलंदड़ी ज़िन्दगी ;

तब आयी मेरी ज़िन्दगी में,एक बयार ले सुन्दर सी बंदगी।

तन्हाई के दूर होते ही ,शुरू हुई अलग प्रेम की अनुभूति;

पंख लगा कर समय उड़ चला,पता ही नहीं चली उसकी गति;

कब हम दोनों के बीच ,एक दूसरे के प्रति हो गई प्रीति।

अचानक से वह कहीं चली गई,कोहरे की धुंध में जैसे खो गई;

पता चला उसकी तय हो गई शादी,चंद दिनों बाद होगी उसकी बिदाई;

आखिर एक बार फिर ,मेरी जिंदगी में घर कर गई ये तन्हाई।

अपनी कमजोरी को ताकत बनाओ,यह मैंने सुना था बहुत;

मैंने भी इसी तन्हाई को बना अपना साथी,रच दिया साहित्य बहुत।

तन्हाई ये तन्हाई ,अब ना डरा पाती मुझे ये तन्हाई।

अगला लेख: ज़िन्दगी के पल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अगस्त 2020
ख़
ये खामोशियां,ये खामोशियां,बहुत कुछ कह गई ;ये खामोशियां।गुस्से के बाद की खामोशियां ,क्या क्या कहती है;कोई जान ना पाता,क्या कह रही है ये खामोशियां।दो अनजान मिलें तो कुछ कहती है खामोशियां;बहुत कुछ आंखें बयां
08 अगस्त 2020
29 अगस्त 2020
ख़
हां मैंने भी बुना है एक सुन्दर सा ख़्वाब,किसी ने कहा मुझे इजाज़त नहीं है देखने की ख़्वाब;ये क्या बात हुई तुम बुन तो लो अपने अपने ख़्वाब।लेकिन देख नहीं सकते, तुम अमल होते ये
29 अगस्त 2020
17 अगस्त 2020
ज़
ज़िन्दगी का सफर ,बहुत रोमांच भरा है;इसमें सुख और दुख दोनों का सामना है;मजा इसी में है यारों कि दुख के बाद सुख का आमना है।ज़िन्दगी के हर लम्हे को हसीन पलों में कैद कर लो;दुख के समय इन्हे याद कर , पारी उसकी समेट लो।ज़िन्दगी जिंदादिली से जियो यारों,अपने साथ बीते हसीन पलों को क्यों खो दो।
17 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x