रेत पे उकेरी आकृति

23 अगस्त 2020   |  Arun choudhary(sir)   (304 बार पढ़ा जा चुका है)

रेत पर उकेरी गई आकृति,मेरा वजूद इतना सा ही कुछ समय का;

कलाकार ने उकेरा बड़ी शिद्दत से,चित्रण कर दिया अपनी भावनाओं का।

मैं बनी इतनी सुन्दर कि, मुझे मिटाने के लिए खड़े तैयार है दुश्मन;

चलती हवा और लहरें पानी की,करती इंतजार कब हम करें इसे तमाम।

विज्ञापनों में लगी आकृतियां ईश्या करती,क्योंकि आसपास मेरे भीड़ जो होती;

लोगों की भीड़ करती मेरी तारीफ़,कलाकार को देती संतुष्टि अपनी बनायी जो कृति।

रेत पे उकेरी गई आकृति हूं,मेरी जिंदगी है बस क्षणिक सी;

कब पानी की लहरें समेट ले मुझे,या फिर हवा बना ले सहेली सी।

कुछ लोग मुझे कर लेते कैद अपने कैमरे में,तो मैं हो जाती सभी की थोड़े समय में;

लेकिन असलियत तो यह है ,मेरी जीवन की कहानी तो मिट जाती चंद लम्हों में।

धन्य है वह कलाकार जो बार बार ,परिश्रम कर उकेरता है मुझे;

कई बार मिटने के बाद भी,इस रेत पर एक बार फिर नया जीवन देता है मुझे।

अगला लेख: ज़िन्दगी के पल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 अगस्त 2020
तिनका तिनका चुन कर लायी , बनाने के लिए एक घरौंदा; जल्दी ही बारिश आने वाली है,समय कम है जल्दी बने घरौंदा।सामग्री एकत्र कर ली है,बस चुन चुन के तिनका बुनने की तैयारी;मै और मेरा साथी दोनों मिल,करते एक सुन्दर आशियाने की तैयारी।बड़ी मुश्किल से जगह
21 अगस्त 2020
05 सितम्बर 2020
गु
प्राचीन शिक्षा पद्धति का विलोपन, नवीन शिक्षा पद्धति का आगमन; ऋषि मुनियों द्वारा प्रदत्त शिक्षा ,गुरुकुल पद्धति वाली शिक्षा को नमन;आश्रम में रह कर गुरु और गुरुमाता की सेवा करते हुए शिष्यों का होता अध्ययन;किताबी ज्ञान के साथ साथ वास्तव में मिल
05 सितम्बर 2020
08 अगस्त 2020
ख़
ये खामोशियां,ये खामोशियां,बहुत कुछ कह गई ;ये खामोशियां।गुस्से के बाद की खामोशियां ,क्या क्या कहती है;कोई जान ना पाता,क्या कह रही है ये खामोशियां।दो अनजान मिलें तो कुछ कहती है खामोशियां;बहुत कुछ आंखें बयां
08 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x