सड़क

25 अगस्त 2020   |  AYESHA MEHTA   (1725 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरे गाँव से उसके शहर तक

बस एक ही सड़क है ा

हम दोनों की खामोशियाँ

इन सुनसान सड़कों से ही गुजरती है ा

मगर हम दोनों कभी नहीं मिलते

क्योंकि हमारी दिशाएँ विपरीत है ा

अगर वक्त की मेहरबानी से

कभी मिल भी जाये तो

वह मुझे पहचानेगा कैसे ?

मेरे गालों की झुर्रियां और बालों में सफेदी

और उसके झिलमिलाई सी आँखों की रौशनी में

हम दिखेंगे कैसे ?

वह मेरे कदमों की आहट पहचानता है

और मैं उसके धड़कनों की रफ़्तार सुन सकती हूँ

मगर उम्र के इस पड़ाव में

दोनों ही आहट मद्धिम हो जाएगी

हम दोनों तन्हाई का लिबास पहन

बिना महसूस किये एक दूसरे को

उसी सुनसान सड़क से गुज़र जायेंगें

अगला लेख: रात बेखबर चुपचाप सी है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x