वह पुरानी किताब

31 अगस्त 2020   |  Arun choudhary(sir)   (342 बार पढ़ा जा चुका है)

धूल से पटी पड़ी एक किताब को झटक,

उसके पुराने पन्नों को धीरे से पलटते रहा;

अतीत को वर्तमान के झरोखे से झांकते रहा।

मै पिछले कई वर्षों का हिसाब देखता रहा,

अंधेरे में गुजारे कई दिनों को याद करता हुआ;

सोचता रहा क्या ये उजियारा दिन हमेशा का हुआ।

वक़्त ने मुझे अपने आप को तलाशने का मौका ना दिया,

गुलाम भारत को स्वतंत्र होते हुए मैंने नजदीक से देखा;

मात्र ग्यारह वर्ष की आयु का वह बालक स्वतंत्र भारत में प्रवेश कर गया।

इन सत्तर वर्षों में देश ने बहुत कुछ पाया और खोया है,

ईमानदार नेताओं के साथ ईमानदारी को गंवाया है;

भ्रष्ट आचरण से ओतप्रोत बाहुबली नेताओं को पाया है।

राष्ट्रद्रोही ,स्वार्थी ,बेईमान,घूसखोर,अधिकारियों को देखा,

शिक्षा के नक्सलियों को हमारा इतिहास बदलते देखा है;

देश की प्रगतिशील नींव में उन मीडिया हाउस को मट्ठा डालते देखा है।

आज मैंने अपने आप को उस पुरानी किताब के पन्ने पलटते पाया है,

देश की सेना पे उंगली उठाने वालों ,शिक्षा के परिसरों में राष्ट्रद्रोही नारे लगाते पाया है।

सेना का मनोबल दुगना होते देखा,खिलाड़ियों का उत्साह भी देखा;

लोगों में राष्ट्रभाबना और राष्ट्रप्रेम को जागृत होते देखा।

युवाओं को आगे बढ़ते पाया,नारी शक्ति को समृद्ध होते पाया;

अंतरिक्ष में तेजी से उड़ान भरते,चिकित्सा और तकनीक में तेजी से बढ़ते पाया।

एक बार फिर देश को विकसित महाशक्ति बनते देखा,

उस पुरानी किताब की धूल झटक कर देश को विश्व गुरु बनते देखा।


अगला लेख: भीड में दोस्त



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 सितम्बर 2020
गु
प्राचीन शिक्षा पद्धति का विलोपन, नवीन शिक्षा पद्धति का आगमन; ऋषि मुनियों द्वारा प्रदत्त शिक्षा ,गुरुकुल पद्धति वाली शिक्षा को नमन;आश्रम में रह कर गुरु और गुरुमाता की सेवा करते हुए शिष्यों का होता अध्ययन;किताबी ज्ञान के साथ साथ वास्तव में मिल
05 सितम्बर 2020
04 सितम्बर 2020
अकेले ही आया था वह इस धरा पर,जाएगा भी अकेले ही इस धरा से; सबसे पहले मां साथ आयी,फिर पिता ने हाथ पकड़ा,और बाद में जुड़ गया परिवार से।थोड़ा बड़ा हुआ आसपड़ोस का हुआ सामना,कभी इस घर तो कभी उस घर खेलने लगा ;और बड़ा होने पर स्कूल में प्रवेश के साथ
04 सितम्बर 2020
30 अगस्त 2020
ये
ये आंखें मस्तानी है,उसे चंचल चितवन की दी गई उपमा है; कभी झुकती पलकों के नीचे से झांकती दिखती ये उपमा है।कभी मदहोशी का आलम बिखेरती,नशीली,नखराली,शोख चंचल;तो कभी निस्तब्ध,गंभीरता को ओढ़े अपने में खोई सी रहती यह न
30 अगस्त 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x