चलो नहायें बारिश में -- बाल कविता

02 सितम्बर 2020   |  रेणु   (436 बार पढ़ा जा चुका है)

Pin on Raindrops Keep Fallin...


चलो नहायें बारिश में


लौट कहाँ फिर आ पायेगा ?

ये बालापन अनमोल बड़ा ,
जी भर आ भीगें पानी में
झुलसाती तन धूप बड़ा ;
गली - गली उतरी नदिया
कागज की नाव बहायें बारिश में !
चलो नहायें बारिश में !


झूमें डाल- डाल गलबहियाँ,
गुपचुप करलें कानाबाती
करेंगे मस्ती और मनमानी
सीख आज हमें ना भाती ,

लोट - लोट लिपटें माटी से

और गिर -गिर जाएँ बारिश में !
चलो नहायें बारिश में !


भरेंगी खाली ताल -तलैया

सूखे खेत हरे कर देंगी

अंबर से झरती टप- टप बूँदें

हरेक दिशा शीतल कर देंगी

धुल -धुल होगा गाँव सुहाना

चलो घूम के आयें बारिश में

चलो नहायें बारिश में


घर आँगन तालाब बन गये

छप्पकछैया करें - जी चाहे

उमड़ -घुमडते भाते बादल

ठंडी हवा तन -मन सिहराए

बेकाबू हुआ उमंग भरा मन

चलो नाचें -गायें बारिश में

चलो नहायें बारिश में


चित्र - गूगल से साभार

अगला लेख: हरिकृपाहि केवलम्



हर्ष वर्धन जोग
13 सितम्बर 2020

सुंदर

रेणु
07 सितम्बर 2020

सादर आभार है आलोक जी

आलोक सिन्हा
04 सितम्बर 2020

झूमें डाल- डाल गलबहियाँ,
गुपचुप करलें कानाबाती बहुत मधुर रचना है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
03 सितम्बर 2020
04 सितम्बर 2020
26 अगस्त 2020
29 अगस्त 2020
28 अगस्त 2020
27 अगस्त 2020
25 अगस्त 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x