कैसे वक़्त ने पलटा खाया

11 सितम्बर 2020   |  Ashvini Kumar Mishra   (432 बार पढ़ा जा चुका है)

कैसे वक़्त ने पलटा खाया

कैसे वक़्त ने पलटा खाया

लोगो की नज़र में

कल तक जो डॉक्टर भगवान था

आज वो डाकु हो गया

हर नुक्कड़ हर चौराहे पर चर्चा आम हैं

डॉक्टर नही शैतान हैं

लोगो की लाज हया शर्म सब मर गई

कैसे वक़्त ने पलटा खाया

जब खुद बीमार ना हुए तब तक

डॉक्टर का महत्व ना समझ आया

नुक्कड़ छुटा चौराहा छुटा

छुटी फोकट की बात

अस्पताल में डॉक्टर ही दिखा भगवान

कैसे वक़्त ने पलटा खाया

-अश्विनी कुमार मिश्रा

अगला लेख: समय की बहती धारा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 सितम्बर 2020
कुछ महीने पहले स्कूल की एक कॉपी मिली...उंगलियां पन्ने पलटने को हुई।दफ़्तर को देर हो रही थी,उंगलियों से कहा फिर कभी सही...कॉपी ने कहा ज़रा ठहर कर तो देख लो,9वीं क्लास की चौथी बेंच से झांक लो!"फिर कभी सही"आज याद आया तो देखा...कॉपी रूठ कर फिर से खो गई...#ज़हन
04 सितम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x