हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

14 सितम्बर 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (2643 बार पढ़ा जा चुका है)

हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

अभी 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस था और आज हिन्दी दिवस है... हमने अपने सदस्यों से आग्रह किया क्यों न इस अवसर पर एक काव्य गोष्ठी का आयोजन किया जाए... तो आज उसी गोष्ठी के साथ आपके सामने उपस्थित हैं... यदि हम ज़ूम पर या किसी भी तरह से ऑनलाइन गोष्ठी करते हैं तो वहाँ कुछ समस्याओं का हमने अनुभव किया है... जिनमें सबसे बड़ी समस्या नेटवर्क की होती है... यही सोचकर हमने अपने कुछ सदस्यों से निवेदन किया कि वे अपनी रचनाओं के वीडियो हमें प्रेषित करें... बड़े उत्साह से कुछ लोगों ने अपनी रचनाएँ हमें भेजी हैं... स्वागत है उन सभी सदस्यों का आज के इस कार्यक्रम में – कुछ समय बिताएँ अपने शिक्षकों और मातृभाषा के साथ... देखने के लिए वीडियो पर जाएँ... डॉ पूर्णिमा शर्मा...

https://youtu.be/TKzlm6qALek

अगला लेख: शुक्र का सिंह में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 सितम्बर 2020
पुष्प बनकर क्या करूँगी, पुष्प का सौरभ ही दे दो |दीप बनकर क्या करूँगी, दीप का आलोक दे दो ||हर नयन में देखना चाहूँ अभय मैं हर भवन में बाँटना चाहूँ हृदय मैं बंध सके ना वृन्त डाल पात से जो थक सके ना धूप वारि वात से जो भ्रमर बनकर क्या करूँगी, भ्रमर का गुंजार दे दो ||रचना सुनने के लिए कृपया वीडियो देखने क
09 सितम्बर 2020
08 सितम्बर 2020
मैं शीश झुकाऊँ मानव कोइस जीवन को मैं केवल सपना क्यों समझूँ,हरभोर उषा की किरण जगाती है मुझको…हरशाम निशा की बाहों में मुस्काता हैचंदा, मस्ती छाती मुझको||रचना सुनने के लिए देखें वीडियो... कात्यायनी...https://youtu.be/txYk946TuoI
08 सितम्बर 2020
06 सितम्बर 2020
तू
तु वो बाग़ की कोमल कली हैतुझे तोड़ा अधर्मी वो बली हैजिसे तूने तन मन से माना हैउसने ही तुझे ये पापी दाग़ में साना हैमैं माली हूँ बाग़ से टूटे कली कातु कर भरोसा मेरे साँस कीतेरा छोड़ अब किसका होने वाली हूँतुझे डर किस बात कीदेख मुझे हज़ारों ग़म है फिर भी मतवाली हूँतु छंद है मेरे पंक्तियों की मैं नशा
06 सितम्बर 2020
05 सितम्बर 2020
वो मुझे कहने लगातेरे इश्क़ में बहने लगावक़्त की बात है फिर तुझसे हुई मुलाक़ात हैंकर लेंगे हम आहिस्ता आहिस्ता तुझ पर भी भरोसा अब जो उसका आश खोने लगाहम है तेरे लिए बेशक ग़ैर हैमगर हमें तो आज भी भरोसा है जैसे चाँद को तारों से इश्क़ होने लगा
05 सितम्बर 2020
05 सितम्बर 2020
गै
जा मिल कर उनसे मोहब्बत की बातेंतु ख़ुश है उसके साथ तो तेरा क्या करे हम बात तुझे ऐहशास क्या होगा मेरे दिल पर जो बिता वो विश्वास क्या होगा किसी को मत तड़पा इतना डर मुझे लगता है कही तुझे हुआ तो वो अवकाश क्या होगा
05 सितम्बर 2020
06 सितम्बर 2020
स्त्री अभिलाषा चाह नहीं मैं क्रूर व्यक्ति,अनपढ़ संग थोपी जाऊं । चाह नहीं पौधे की तरह, जब चाहे जहां रोपी जाऊं ।। चाह नहीं शादी की है, जो दहेज प्रथा में मर जाऊं । चाह नहीं अपने अधिकारों, से वंचित रह जाऊं ।। हम अवला को कुछ और नहीं,
06 सितम्बर 2020
24 सितम्बर 2020
गीता औरदेहान्तरप्राप्तिश्राद्ध पक्ष में श्रद्धा के प्रतीक श्राद्ध पर्व काआयोजन प्रायः हर हिन्दू परिवार में होता है | पितृविसर्जनीअमावस्या के साथ इसका समापन होता है और तभी से माँ दुर्गा की उपासना के साथ त्यौहारोंकी श्रृंखला आरम्भ हो जाती है – नवरात्र पर्व, विजयादशमी,शरद पूर्णिमा आदि करते करते माँ लक्
24 सितम्बर 2020
05 सितम्बर 2020
मैं शब्द रूचि उन बातों की जो भूले सदा ही मन मोले-2अँगड़ाई हूँ मैं उस पथ का जो चले गए हो पर शोले-2हर बूँदो को हर प्यासे तक पहुँचाने का आधार हूँ मैं-2मैं बड़ी रात उन आँखो का जो जागे हो बिना खोलें-2जो कभी नहीं बोला खुल कर वो आशिक़ की जवानी हूँ।-2मीरा की पीर बिना बाँटे राधा के श्याम सुहाने हैं।-2
05 सितम्बर 2020
27 सितम्बर 2020
शुक्र का सिंह में गोचर कोरोना महामारी का प्रकोप अभी भी थमानहीं है, किन्तु जन जीवन धीरे धीरे पटरी पर लौटने का प्रयास आरम्भकर रहा है – कुछ निश्चित और विशेष सावधानियों के साथ | इसी स्थिति में कल सोमवार, अधिक आश्विन शुक्ल द्वादशी को अर्द्धरात्र्योत्तर एक बजकर तीन मिनट केलगभग बव करण और धृति योग में समस्त
27 सितम्बर 2020
07 सितम्बर 2020
तु
कल मिलने आइ वो,मेरा पसंदीदा पकवान लाई वो।हम दोनो बहुत सारी बातें किये,उसकी और मेरे नयन ने भी मुलाक़ातें किए।अचानक से पूछी मुझसे.ये बताओ, मुझमे और इश्क़ में क्या अंतर हैं?मैंने कहाँ, तुझमें और तेरे इश्क़ में अंतर है इतना,तु ख़्वाब है और वो है सपना।अब वो नाराज़ हो गईं,रोते-रोते मेरे हाई कँधो पर सो गईं
07 सितम्बर 2020
21 सितम्बर 2020
अभी दो तीन पूर्व हमारी एक मित्र के देवर जी का स्वर्गवास हो गया... असमय...शायद कोरोना के कारण... सोचने को विवश हो गए कि एक महामारी ने सभी को हरा दिया...ऐसे में जीवन को क्या समझें...? हम सभी जानते हैं जीवन मरणशील है... जो जन्माहै... एक न एक दिन उसे जाना ही होगा... इसीलिए जीवन सत्य भी है और असत्य भी...
21 सितम्बर 2020
03 सितम्बर 2020
☁️⛈️⛅🌥️ 🌈इंद्र सभा 🌈⛅⛈️☁️🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈इंद्र सभा स्वर्ग की धारणा पर आधारित गल्प है।स्वर्ग - नर्क की धारणा धर्मभीरुता- त्रुटिपूर्ण है।। सुकृतों का पलड़ा जब भारी होता है।कहते उस प्राणि को स्वर्ग मिलता है।।कुकृत किये तो नर्क का भागी बनता है।प्रश्न गूढ़! हर मानव दोनों कर्म करता है।।"तारक ब्रह
03 सितम्बर 2020
25 सितम्बर 2020
हम अक्सर दूसरों को उपदेश देते हैं कि हमें अपने अहंकार को नष्टकरना चाहिए, हमें अपने क्रोध पर विजय प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए | सही बात है, ऐसा होना चाहिए यदि जीवन में सुख और शान्तिकी अभिलाषा है | लेकिन हम इन आदर्शों को स्वयं के जीवन मेंकितना उतार पाते हैं सोचने वाली बात यह है | देखा जाए तोकर्म
25 सितम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x