मुक्तक, हिंदी दिवस

18 सितम्बर 2020   |  महातम मिश्रा   (429 बार पढ़ा जा चुका है)

हिंदी दिवस की हार्दिक बधाई ( "हिंदी है पहचान हमारी" शब्द साधना सबसे न्यारी"

"मुक्तक"


हिंदी ही पहचान है, हिंदी ही अभिमान।
कई सहेली बोलियाँ, मिलजुल करती गान।
राग पंथ कितने यहाँ, फिर भी भारत एक-
एक सूत्र मनके कई, हिंदी हुनर महान।।-1


एक वृक्ष है बाग का, डाल डाल फलदार।
एक शब्द है ब्रम्ह का, पढ़ न सका संसार।
पूजा तो सबने किया, लिए हाथ में फूल-
किसी किसी को मिल गया, नीर नाव पतवार।।-2


पात पात से वृक्ष है, और बृक्ष से पात।
दिन रोशन करता डगर, और चाँद से रात।
शब्द समंदर से बड़ा, लेकर समुचित भाव-
कनक कटोरा में भरा, कनक सरीखी बात।।-3


वृक्ष डाल पर मगन है, इक दादुर इक मोर।
दोनों के चित राग रस, कनक ढूढ़ता चोर।
मिल जाये कवि को अगर, कनक सरीखा शब्द-
खिल जाए कवि धर्मिता, भाव भंगिमा शोर।।-4


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: जानिए कब नहीं करते लोग मदद



आलोक सिन्हा
19 सितम्बर 2020

बहुत सुन्दर |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x