मौन

23 सितम्बर 2020   |  Sarita bisht   (411 बार पढ़ा जा चुका है)

मौन

मौन होकर उस आनंद की अनुभूति करना चाहता हूँ

लाखों वर्षों से जिसके लिए भटक रहा हूँ।

जग मन विलास है....

प्रभु हृदय-हुलास है;

यह भाव निरंतर आ रहा है,

चिर -शांति का द्वार लग रहा है।

अनुभूतियाँ जीवन की अनेक हैं..

अनेक हैं धरातल भी..

मौन का धरातल हृदय-पटल है

सत् चित् आनंद जहाँ हर एक पल है।

मौन रहकर उस असीम

शांति को पाना चाहता हूँ...

जिसके लिए मैं चला आया,

साक्षी बनूँ हर एक पल का,

अंतस्थ से यह भाव अब जाग गया।


अगला लेख: कहानी (चटोरी जिव्हा को साधु का दंड)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x