नौकरी का भूत

11 अक्तूबर 2020   |  अभिनव मिश्र"अदम्य"   (434 बार पढ़ा जा चुका है)

नौकरी का भूत

[12/09/2020 ]

*नौकरी का भूत*

(व्यंग्य-कविता)


पढ़ लिख के मैं बड़ा हुआ जब,

ये मन में मैने ठाना ।

जिन सब का था कर्ज पिता पर,

वो मुझको जल्द चुकाना ।

नौकरी की आस को लेकर,

निकला घर से मतवाला ।

सफल सफर करके भैया मैं,

पहुच गया हूँ अम्बाला।

***

दो महिनें तक करी नौकरी ,

मन को थी कुछ ना भायी ।

पता चला कुछ भर्ती निकली,

दिल पे सब की थी छायीं ।

फौजी बनने की मेरे मन,

भी एक लालसा आयी ।

अब तो फौजी बन जाऊंगा,

मन एक उमंग सी छायी ।

***

फ़ौरन बैठ लिया हूँ बस पर,

पहुंचा गया मैं बरेली ।

देखा वहीं लगा रहे लड़के,

एक लम्बी सी रेली ।

नाप जोख में फिट निकला मैं,

रेश लगाने की बारी ।

रेश में भी उत्तीर्ण हुआ मैं,

खुशियां मन में अति भारी ।

***

किन्तु दुबारा नाप जोख की,

फिर से की है तैयारी ।

लम्बाई में कम निकले हम,

दुःख था मन में अति भारी ।

नौकरी आस हुई न पूरी,

वापस अब घर को आया।

जीवन यापन करने को अब,

कॉलेज में है पढ़ाया ।

***

थोड़ी उन्नति करके अब मैं,

खुद का स्कूल चलाता हूँ ।

यही नौकरी है अब मेरी,

खुद का दिल बहलाता हूँ ।

इसी तरह से मैं अपना अब,

जीवन यापन करता हूँ ।

समय कहीं मिलता है मुझको

कविता लिखता रहता हूँ ।


स्वरचित✍️

अभिनव मिश्र"अदम्य"

(शाहजहांपुर)


नौकरी का भूत
नौकरी का भूत

अगला लेख: मेरे प्यारे पापा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2020
गीतमधुमास के दिनों की, कुछ याद आ रही है।महकी हुई फिजाएं, मनको लुभा रही है।जब फूल-फूल तितली, खुशबू बिखेरती थी।महकी हुई हवाएं, संवाद छेड़ती थी।कोयल सदा वनों में, हैं राग प्रीत गाये।मौसम वही सुहाना, मुझको सदा लुभाये।महकी हुई धरा मन, मेरा लुभा रही है।मधुमास के दिनों की, कुछ याद आ रही है।भौंरे क
19 अक्तूबर 2020
13 अक्तूबर 2020
कुपंथी औलादआज के दौर में पुत्र माता पिता को, सदा दे रहे गालियां घात की।वो नहीं जानते नाज से थे पले, मन्नतों से हुए गर्भ से मातु की।ढा रहे वो सितम और करते जुलममारते मातु को और धिक्कारते।डांट फटकार कर एक हैवान बनवृद्ध माँ बाप को घर से निकालते।नौ महीने तुझे गर्भ में माँ रखी, उंगली उसकी पकड़ तू चला हाँथ
13 अक्तूबर 2020
04 अक्तूबर 2020
गरीब औरअसहाय लोगो की डोर किसके हाथ में?यूपी केहाथरस रेप कांड ने पिछले दो चार दिनो में देश के आम लोगो को अपने बोर में सोचने व समझने का मौका दिया कि वे‍ किस तरहकतिपय लोगों की कठपुती बने समाज में जी रहे हैं: यह भी लगभग साफ हो गया कि उनकेऊपर किन लोगों की मर्जी चलती है: मीडिया को भी यह समझने का मौका मिल
04 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
यह कविता मेरे आराध्य पिता जी को समर्पित:-देखो दिवाली फिर से कुछ, यादें लाने वाली है।पर तेरी यादों से पापा, लगती खाली-खाली है।।याद आता है पापा मुझ को साथ में दीप जलाना।कैसे भूलूँ पापा मैं वो, फुलझड़ियां साथ छुटाना।।दीपावली में पापा आप, पटाखे खूब लाते थे।सबको देते बांट पिता जी, हम सब खूब दगाते थे।।तेरे
11 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
देश में हर पन्‍द्रह मिनट में एक लडकी की जिंदगी केसाथ खिलवाड !देश मे हर 15 मिनट के भीतर एक लडकी का जीवन बर्बाद होरहा है: उसके साथ रेप कर कहीं का नहीं रहने दिया जाता: यह बात हम नहीं कह रहे बल्किदेशभर में अपराधों को दर्ज़ करने वाली संस्था राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो(एनसीआरबी) का दावा है: देश मे हो
19 अक्तूबर 2020
10 अक्तूबर 2020
दु
विधा-लावड़ी महंगाई की इस दुनिया में, दुःखित कृषक है बेचाराबदल गयी ये दुनियां देखो, बदला है जीवन सारा उठे अंधेरे प्रात सवेरे डोर हाँथ ले बैलों कीफसल उगाने की चाहत मेंचाल लगा दी खेतों कीन धूप से वो विचलित होतेन छांव की चाहत भरतेकरे परिश्रम कठिन हमेशासदा सभी ऋतुएँ सहतेकठिन परस्थिति में किसान तो, कर लेता
10 अक्तूबर 2020
06 अक्तूबर 2020
वक़्त कब बदल जाए भरोसा ही नहीं है ,वक्त जिंदगी का दाव पर लगा एक जुआ है ;वक्त के साथ जो चला,जिंदगी को उसने भरपूर जिया; जिसने वक्त को ठुकरा दिया,वह कभी सफल ना होपाया। वक्त हमारा कभी मोहताज ना रहा,हम उसके मोहताज रहे;वक्त वक्त की बात है, हर किसी का वक्त बदलता है ; अर्श से
06 अक्तूबर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x