नौकरी का भूत

11 अक्तूबर 2020   |  अभिनव मिश्र"अदम्य"   (443 बार पढ़ा जा चुका है)

नौकरी का भूत

[12/09/2020 ]

*नौकरी का भूत*

(व्यंग्य-कविता)


पढ़ लिख के मैं बड़ा हुआ जब,

ये मन में मैने ठाना ।

जिन सब का था कर्ज पिता पर,

वो मुझको जल्द चुकाना ।

नौकरी की आस को लेकर,

निकला घर से मतवाला ।

सफल सफर करके भैया मैं,

पहुच गया हूँ अम्बाला।

***

दो महिनें तक करी नौकरी ,

मन को थी कुछ ना भायी ।

पता चला कुछ भर्ती निकली,

दिल पे सब की थी छायीं ।

फौजी बनने की मेरे मन,

भी एक लालसा आयी ।

अब तो फौजी बन जाऊंगा,

मन एक उमंग सी छायी ।

***

फ़ौरन बैठ लिया हूँ बस पर,

पहुंचा गया मैं बरेली ।

देखा वहीं लगा रहे लड़के,

एक लम्बी सी रेली ।

नाप जोख में फिट निकला मैं,

रेश लगाने की बारी ।

रेश में भी उत्तीर्ण हुआ मैं,

खुशियां मन में अति भारी ।

***

किन्तु दुबारा नाप जोख की,

फिर से की है तैयारी ।

लम्बाई में कम निकले हम,

दुःख था मन में अति भारी ।

नौकरी आस हुई न पूरी,

वापस अब घर को आया।

जीवन यापन करने को अब,

कॉलेज में है पढ़ाया ।

***

थोड़ी उन्नति करके अब मैं,

खुद का स्कूल चलाता हूँ ।

यही नौकरी है अब मेरी,

खुद का दिल बहलाता हूँ ।

इसी तरह से मैं अपना अब,

जीवन यापन करता हूँ ।

समय कहीं मिलता है मुझको

कविता लिखता रहता हूँ ।


स्वरचित✍️

अभिनव मिश्र"अदम्य"

(शाहजहांपुर)


नौकरी का भूत
नौकरी का भूत

अगला लेख: मेरे प्यारे पापा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अक्तूबर 2020
वक़्त कब बदल जाए भरोसा ही नहीं है ,वक्त जिंदगी का दाव पर लगा एक जुआ है ;वक्त के साथ जो चला,जिंदगी को उसने भरपूर जिया; जिसने वक्त को ठुकरा दिया,वह कभी सफल ना होपाया। वक्त हमारा कभी मोहताज ना रहा,हम उसके मोहताज रहे;वक्त वक्त की बात है, हर किसी का वक्त बदलता है ; अर्श से
06 अक्तूबर 2020
15 अक्तूबर 2020
जंगली जानवरों पर करंट कनेक्‍शन !छत्‍तीसगढ के जंगलों में अवैध शिकार, लकड़ी की कटाई और अवैध परिवहन अब एक समस्‍या बनती जा रही है: हालाकि सरकार की तरफ से इस पर लगाम लगाने सहित कई उपाय भी किये जा रहे हैं किन्‍तु लगता है यह पर्याप्‍त्‍ नहीं है:हाल के दिनों में जो घटनाएं सामने आई है वह यह निष्‍कर्ष निकालता
15 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
22 अक्तूबर 2020
हरिगीतिका छन्द,2212 2212 2, 212 2212हे! मात! नत मस्तक नमन नित,वन्दना कात्यायनी।अवसाद सारे नष्ट कर हे, मात! मोक्ष प्रदायनी।हे! सौम्य रूपा चन्द्र वदनी, रक्त पट माँ धरिणी।हे! शक्तिशाली नंदिनी माँ, सिंह प्रिय नित वाहिनी।माथे मुकुट है स्वर्ण का शुभ, पुष्प कर में धारिणी।हे! मात!नत मस्तक नमन नित,वन्दना कात
22 अक्तूबर 2020
05 अक्तूबर 2020
मैडम जीकुछ देर खामोशकहीं खोई सी बैठी रहीं नीलिमा जी... फिर एक लम्बी साँस भरकर बोलीं “ये बाहर जातेथे तो मैं यहाँ देहरादून आ जाती थी | बेटी भी बाहर ही पढ़ रही थी न, तो मैं अकेलीबम्बई में क्या करती ? अब ये जितने भी हाइली एजुकेटेड लोग होते हैं उनकी तोमीटिंग्स विदेशों में होती ही रहती हैं | आप भी जाती हों
05 अक्तूबर 2020
20 अक्तूबर 2020
कहानी ही तो थीख़त्म तो होनी ही थीशुरू हुए थे जो अल्फ़ाज़उन्हें विराम तो लगना थ-अश्विनी कुमार मिश्रा
20 अक्तूबर 2020
01 अक्तूबर 2020
एक और हैवानियत….अंघेरी रात में पुलिस ने जलाई चिता?हृाथरस में इंसानों के बीच मौजूद राक्षसो ने फिर अपना असली रूप दिखाया और हम एक बार फिर वही डायलाग दोहरा रहे हैं जो इससे पहले मानवता को शर्मसार करने की अन्‍य घटनाओं के समय हुआ: कडी सजा देगे
01 अक्तूबर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x