आराध्य पिता जी

11 अक्तूबर 2020   |  अभिनव मिश्र"अदम्य"   (444 बार पढ़ा जा चुका है)

आराध्य पिता जी

यह कविता मेरे आराध्य पिता जी को समर्पित:-


देखो दिवाली फिर से कुछ, यादें लाने वाली है।

पर तेरी यादों से पापा, लगती खाली-खाली है।।


याद आता है पापा मुझ को साथ में दीप जलाना।

कैसे भूलूँ पापा मैं वो, फुलझड़ियां साथ छुटाना।।


दीपावली में पापा आप, पटाखे खूब लाते थे।

सबको देते बांट पिता जी, हम सब खूब दगाते थे।।


तेरे बिन पापा घर में सब, दीवाली तो मनाते हैं।

साथ बिताये जो पल तुमसे, याद बहुत अब आते हैं।।

गौरी गणेश का पूजन कर, पापा तिलक लगाते थे।

रक्षा सूत्र बांधते हाथ में, फिर हम दीप जलाते थे।।


आज भी माँ ने मीठा व पकवान भी सब बनाया है।

सब कुछ तो वैसा है पापा, आप कमी का साया है।।


माँ के चेहरे पर भी देख, छायी आज उदासी है।

रोती है वो छुपके-छुपके, सबसे सदा छुपाती है।।


देख उदासी अम्मा की तब, सब रंगत खो जाती है।

घर में देखो आज सभी को,याद पिता की आती है।।


हम सब के चेहरों पर देख, छायी आज उदासी है।

समझाए कौन यहां अब तो,सबकी आंख रुलासी है।।

ऐसे हर त्योहारों में गम की छा जाए ख़ुमारी है।

बड़े भाई के कंधों पर, सारी जिम्मेदारी है।।


मिलकर के सब भैया ने ही, घर का भार संभाला है।

अवशोष मुझे इतना है" नहीं खुशी देखने वाला है।।


हम सब मिलकर वन्दन करते, और नित शीश झुकाते हैं।

कार्य कोई करने से पहले, आशीष आपका पाते हैं।।


■अभिनव मिश्र"अदम्य

अगला लेख: मेरे प्यारे पापा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
गीतमधुमास के दिनों की, कुछ याद आ रही है।महकी हुई फिजाएं, मनको लुभा रही है।जब फूल-फूल तितली, खुशबू बिखेरती थी।महकी हुई हवाएं, संवाद छेड़ती थी।कोयल सदा वनों में, हैं राग प्रीत गाये।मौसम वही सुहाना, मुझको सदा लुभाये।महकी हुई धरा मन, मेरा लुभा रही है।मधुमास के दिनों की, कुछ याद आ रही है।भौंरे क
19 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x