कुपंथी औलाद

13 अक्तूबर 2020   |  अभिनव मिश्रा"अदम्य"   (372 बार पढ़ा जा चुका है)

कुपंथी औलाद

कुपंथी औलाद


आज के दौर में पुत्र माता पिता को, सदा दे रहे गालियां घात की।
वो नहीं जानते नाज से थे पले, मन्नतों से हुए गर्भ से मातु की।

ढा रहे वो सितम और करते जुलम
मारते मातु को और धिक्कारते।
डांट फटकार कर एक हैवान बन
वृद्ध माँ बाप को घर से निकालते।

नौ महीने तुझे गर्भ में माँ रखी, उंगली उसकी पकड़ तू चला हाँथ की।
वो नहीं जानते नाज से थे पले, मन्नतों से हुए गर्भ से मातु की।।

भूल आये कहीं प्यार वो बाप का
मातु की मामिता भूल आये सदा।
तू जरा शर्म कर क्यों बने जानवर
दूध का कर्ज तूने किया ना अदा।।

जो संजोये थे सपने औलाद से, आस टूटी है उनके सभी ख्वाब की।
वो नहीं जानते नाज से थे पले, मन्नतों से हुए गर्भ से मातु की।।

आस टूटी पिता की बढ़ी पीर है
सोंचता ये कुपुत्र मुझे है मिला।
प्यार से जो तुझे एक जीवन दिया
है मिला आज मुझको उसी का सिला।।

है कलेजा फटा वृद्ध माँ बाप का, देख करतूत ऐसी सन्तान की।
वो नहीं जानते नाज से थे पले, मन्नतों से हुए गर्भ से मातु की।

रो रही आज माता सितम ढा रहे सुत
न देगी कभी जन्म फिर पुत्र को।
संपदा आज लेके करें सुत यही
मारते हैं सदा काँपते बाप को।।

छोड़ आते उन्हें वृद्ध आश्रम कहीं, मानते हैं नहीं बात वो बाप की।
वो नहीं जानते नाज से थे पले, मन्नतों से हुए गर्भ से मातु की।।

■अभिनव मिश्र"अदम्य

अगला लेख: अभिनव मिश्र



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x