माँ कात्यायनी वन्दना

22 अक्तूबर 2020   |  अभिनव मिश्र"अदम्य"   (423 बार पढ़ा जा चुका है)

माँ कात्यायनी वन्दना

हरिगीतिका छन्द,
2212 2212 2, 212 2212
हे! मात! नत मस्तक नमन नित,वन्दना कात्यायनी।
अवसाद सारे नष्ट कर हे, मात! मोक्ष प्रदायनी।

हे! सौम्य रूपा चन्द्र वदनी, रक्त पट माँ धरिणी।
हे! शक्तिशाली नंदिनी माँ, सिंह प्रिय नित वाहिनी।
माथे मुकुट है स्वर्ण का शुभ, पुष्प कर में धारिणी।
हे! मात!नत मस्तक नमन नित,वन्दना कात्यायनी।

हे! दुष्ट वंशे नाशिनी माँ, दैत्य दानव घातिनी।
कर दूर मेरे कष्ट माता, पावनी सुखदायिनी।
निज दास के भी दूर करदे, शोक भय माँ नाशिनी।
हे! मात! नत मस्तक नमन नित,वन्दना कात्यायनी।

हे! विश्व की संचलिनी माँ, भगवती मनमोहिनी।
माँ! कर कृपा सुख हो हमें वर, दान दो वरदायिनी।
अपराध सब करदे क्षमा करुणामयी माँ कामनी।
हे!मात! नत मस्तक नमन नित, वन्दना कात्यायनी।


■अभिनव मिश्र"अदम्य"

शाहजहांपुर,(उ०प्र०)

अगला लेख: मेरे प्यारे पापा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अक्तूबर 2020
दु
विधा-लावड़ी महंगाई की इस दुनिया में, दुःखित कृषक है बेचाराबदल गयी ये दुनियां देखो, बदला है जीवन सारा उठे अंधेरे प्रात सवेरे डोर हाँथ ले बैलों कीफसल उगाने की चाहत मेंचाल लगा दी खेतों कीन धूप से वो विचलित होतेन छांव की चाहत भरतेकरे परिश्रम कठिन हमेशासदा सभी ऋतुएँ सहतेकठिन परस्थिति में किसान तो, कर लेता
10 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
तु
कवितातुम्हारी याद तुम यादों से विस्मृत हो जाओ सम्भव नहीं है ये ,तुम पटल से उतर जाओ स्वीकृत नहीं है ये । न करो याद तुमफ़र्क पड़ता है क्या ?न करो विश्वास तुमसमय रुकता है क्या ?श्वास तो चलते हैंहृदय भी धड़कता है दोनों ही के स्पंदन मेंध्वनि हो या प्रतिध्वनि तुमसे ही होकर आती
19 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
गीतमधुमास के दिनों की, कुछ याद आ रही है।महकी हुई फिजाएं, मनको लुभा रही है।जब फूल-फूल तितली, खुशबू बिखेरती थी।महकी हुई हवाएं, संवाद छेड़ती थी।कोयल सदा वनों में, हैं राग प्रीत गाये।मौसम वही सुहाना, मुझको सदा लुभाये।महकी हुई धरा मन, मेरा लुभा रही है।मधुमास के दिनों की, कुछ याद आ रही है।भौंरे क
19 अक्तूबर 2020
13 अक्तूबर 2020
कुपंथी औलादआज के दौर में पुत्र माता पिता को, सदा दे रहे गालियां घात की।वो नहीं जानते नाज से थे पले, मन्नतों से हुए गर्भ से मातु की।ढा रहे वो सितम और करते जुलममारते मातु को और धिक्कारते।डांट फटकार कर एक हैवान बनवृद्ध माँ बाप को घर से निकालते।नौ महीने तुझे गर्भ में माँ रखी, उंगली उसकी पकड़ तू चला हाँथ
13 अक्तूबर 2020
15 अक्तूबर 2020
जंगली जानवरों पर करंट कनेक्‍शन !छत्‍तीसगढ के जंगलों में अवैध शिकार, लकड़ी की कटाई और अवैध परिवहन अब एक समस्‍या बनती जा रही है: हालाकि सरकार की तरफ से इस पर लगाम लगाने सहित कई उपाय भी किये जा रहे हैं किन्‍तु लगता है यह पर्याप्‍त्‍ नहीं है:हाल के दिनों में जो घटनाएं सामने आई है वह यह निष्‍कर्ष निकालता
15 अक्तूबर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x