महागौरी माता

24 अक्तूबर 2020   |  अभिनव मिश्र"अदम्य"   (397 बार पढ़ा जा चुका है)

महागौरी माता

विधाता छन्द

1222 1222 1222 1222

सुनो माता महागौरी, यही अरदास लाया हूँ।

मिले दर्शन मुझे मैया, लिए इक आस आया हूँ।

करूँ गुणगान मैं तेरा, चढ़ाऊँ पुष्प माला माँ।

करो उद्धार अब मेरा, कृपा कर दृष्टि डालो माँ।


तुम्हीं लक्ष्मी तुम्हीं दुर्गा, तुम्हीं तो मात! काली हो।

दुखी जो द्वार पर आये, न जाए हाथ खाली वो।

करे जो मातु की पूजा, भरें भंडार उनके ही।

न आये कष्ट जीवन में, मिले खुशियां भरे धन भी।


■अभिनव मिश्र"अदम्य"

अगला लेख: मेरे प्यारे पापा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अक्तूबर 2020
दु
विधा-लावड़ी महंगाई की इस दुनिया में, दुःखित कृषक है बेचाराबदल गयी ये दुनियां देखो, बदला है जीवन सारा उठे अंधेरे प्रात सवेरे डोर हाँथ ले बैलों कीफसल उगाने की चाहत मेंचाल लगा दी खेतों कीन धूप से वो विचलित होतेन छांव की चाहत भरतेकरे परिश्रम कठिन हमेशासदा सभी ऋतुएँ सहतेकठिन परस्थिति में किसान तो, कर लेता
10 अक्तूबर 2020
06 नवम्बर 2020
प्रतियोगिता के सम्मान पत्र
06 नवम्बर 2020
10 अक्तूबर 2020
दु
विधा-लावड़ी महंगाई की इस दुनिया में, दुःखित कृषक है बेचाराबदल गयी ये दुनियां देखो, बदला है जीवन सारा उठे अंधेरे प्रात सवेरे डोर हाँथ ले बैलों कीफसल उगाने की चाहत मेंचाल लगा दी खेतों कीन धूप से वो विचलित होतेन छांव की चाहत भरतेकरे परिश्रम कठिन हमेशासदा सभी ऋतुएँ सहतेकठिन परस्थिति में किसान तो, कर लेता
10 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
यह कविता मेरे आराध्य पिता जी को समर्पित:-देखो दिवाली फिर से कुछ, यादें लाने वाली है।पर तेरी यादों से पापा, लगती खाली-खाली है।।याद आता है पापा मुझ को साथ में दीप जलाना।कैसे भूलूँ पापा मैं वो, फुलझड़ियां साथ छुटाना।।दीपावली में पापा आप, पटाखे खूब लाते थे।सबको देते बांट पिता जी, हम सब खूब दगाते थे।।तेरे
11 अक्तूबर 2020
02 नवम्बर 2020
विधा- दोहाविषय-लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल दृढ़ संकल्पो से सदा, खेला जिसने खेल।उस युगद्रष्टा को कहे, जग सरदार पटेल ।निज कर्मों से ही किया, सपनों को साकार।रियासतों से ही दिया, नव भारत आकार।आन्दोलन नेतृत्व कर, हित में रहा किसान।बहनों ने सरदार कह, किया सदा सम्मान।चारित्रिक दृढ़ से पड़ा, लौह पुरुष था ना
02 नवम्बर 2020
19 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
13 अक्तूबर 2020
कुपंथी औलादआज के दौर में पुत्र माता पिता को, सदा दे रहे गालियां घात की।वो नहीं जानते नाज से थे पले, मन्नतों से हुए गर्भ से मातु की।ढा रहे वो सितम और करते जुलममारते मातु को और धिक्कारते।डांट फटकार कर एक हैवान बनवृद्ध माँ बाप को घर से निकालते।नौ महीने तुझे गर्भ में माँ रखी, उंगली उसकी पकड़ तू चला हाँथ
13 अक्तूबर 2020
22 अक्तूबर 2020
हरिगीतिका छन्द,2212 2212 2, 212 2212हे! मात! नत मस्तक नमन नित,वन्दना कात्यायनी।अवसाद सारे नष्ट कर हे, मात! मोक्ष प्रदायनी।हे! सौम्य रूपा चन्द्र वदनी, रक्त पट माँ धरिणी।हे! शक्तिशाली नंदिनी माँ, सिंह प्रिय नित वाहिनी।माथे मुकुट है स्वर्ण का शुभ, पुष्प कर में धारिणी।हे! मात!नत मस्तक नमन नित,वन्दना कात
22 अक्तूबर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x