कोरोना की काली भयावह रात

24 अक्तूबर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (423 बार पढ़ा जा चुका है)

कोरोना की काली भयावह रात

कोरोना की वो काली भयावह रात

माना कि आज है कोरोना की काली भयावह रात
दरअसल मिली है अपने कट्टर पड़ोसी से सौगात
यूँ ही कोई देता है अर्जित अपनी थाती व विरासत
सच पूछो तो ये है करनी यमराज के साथ मुलाक़ात..।

नींद भी आती नहीं, आते नहीं सपनें
बेसब्री बढ़ती जाती है याद आते हैं अपनें
समाचारपत्रों में पढ़कर भयावहता की खबरें
दम फूलने लगा है और सांस उखड़ने लगें हैं..।

मास्क पहन-पहनकर ऑक्सिजन घटने लगा
ये क्या धुंकनी सी चलने लगी और मैं खाँसने लगा
एम्बुलेंस वाले आए और मुझे उठाकर ले जाने लगे
हाथ जोड़ा गिड़गिड़ाया पर सभी कन्नी काटने लगे..।

सगे संबंधी और दोस्त यार कोई भी पास नहीं आया
बस उसी क्षण छूट गया इस दुनिया से सारी मोहमाया
अस्पताल में भर्ती हुआ हकीकत में बस थोड़ा सर्दी हुआ
परिजन तो यूँ घबराए जैसे कभी लौट के ना आए...।

ऐसा लगता जैसे सभी करते हों बस चल बसने का इंतज़ार
दूसरी तरफ अस्पताल में चल रहा था कमाई का व्यापार
सच मानों, कोरोना ने मनुष्य को उसकी औकात दिखा दिया
दरअसल जीवन के असली रूप से मुलाकात करवा दिया..।

इत्तेफ़ाक से दुबारा घर लौटकर आने का सौभाग्य जो मिला
कॉलोनी वालों का दूर से ही छुआछूत वाला प्यार जो मिला
एम्बुलेंस से निकलते ही जनसमूह ने पुष्प वर्षा क्या किया
आँखों से आँसू निकल आए स्वागत करताल से ज्यों किया..।

मैंनें भी कसम खा लिया अब किसी से हाथ न मिलाऊँगा
अब दूर - दूर से ही मैं राम - राम चिल्लाऊँगा
मैंनें भी ठान लिया अब किसी को भी घर न बुलाऊँगा
मोबाईल फोन पर ही मैं अब अतिथि धर्म निभाऊँगा..।

➖ अशोक सिंह
☎️ 9867889171
#स्वरचित_हिंदीकविता
#पागल_पंथी_का_जुनून

अगला लेख: अनमोल वचन ➖ 3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अक्तूबर 2020
"उठो बहना शमशीर उठा लो..."उठो बहना शमशीर उठा लोसोयी सरकार न जागेगीहर घर में है दुःशासन बैठाऔर कब तक तू भागेगी...?समय आ गया फिर बन जाओतुम झाँसी की रानीशमशीर उठाकर लिख डालोएकदम नई कहानीमरते दम तक याद रहेसबको एकदम जुबानी....।उठो बहना शमशीर उठा लोबन जाओ तुम मरदानीकोई नज़र
14 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
सप्तक के स्वरों की स्थापना सर्वप्रथम महर्षि भरत के द्वारा मानीजाती है | वे अपने सप्त स्वरों को षड़्ज ग्रामिक स्वर कहते थे | षड़्ज ग्राम सेमध्यम ग्राम और मध्यम ग्राम से पुनः षड़्ज ग्राम में आने के लिये उन्हें दो स्वरस्थानों को और मान्यता देनी पड़ी, जिन्हें ‘अंतर गांधार’ और ‘काकली निषाद’ कहा गया| महर्
11 अक्तूबर 2020
08 नवम्बर 2020
'कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है'कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। जहाँ एक तरफ दावा किया जा रहा था कि अब कोरोना का खात्मा होने को आया है और सबकुछ खोल दिया गया, भले ही कुछ शर्तें रख दी गई। हमेशा सरकार प्रशासन सूचना जारी करने तक को अपनी जिम्मेदारी मानती है और उसीका निर्वहन करती है। जैसे सिगरेट के पैकेट प
08 नवम्बर 2020
10 अक्तूबर 2020
प्रेमबन जाएगाध्यानप्रेम, एकऐसा अनूठा भाव जिसका न कोई रूप न रंग... जो स्वतः ही आ जाता है मन के भीतर...कैसे... कब... कहाँ... कुछ नहीं रहता भान... हाँ, करने लगे यदिमोल भाव... तो रह जाना होता है रिक्त हस्त... इसी प्रकार के कुछ उलझे सुलझे से भावहैं हमारी आज की रचना में... जो प्रस्तुत है सुधी पाठकों के लि
10 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
भक्तों ने पुकारा और मैया चली आईभक्तों ने पुकारा और मैया चली आईदर्शन देकर के मैया आपन कृपा बरसाई......जब-जब नवरात्रि आई, माई के दरबार सजाईघर में ही दरबार लगाई, स्वागत में मंगलाचार गाई....माँ के दरबार में..आज मंगलाचार है..सबका स्वागत सत्कार हैहो रही जयजयकार है माँ अंबे का सत्कार हैमाता भवानी आई हैं सं
19 अक्तूबर 2020
13 अक्तूबर 2020
स्नेह बिना जीवन वास्तव में सूना है...स्नेह चाहे मित्र का हो... जीवन साथी का हो... ईश्वर के प्रति हो... स्नेहदान सेही जीवन ज्योति प्रज्वलित रहती है... तथा जीवन का पथ प्रकाशमान बना रहता है... कुछइसी प्रकार के उलझे सुलझे से भावों के साथ प्रस्तुत है हमारी आज की रचना,,, सोने से पहले कुछ गा दो...कात्यायनी
13 अक्तूबर 2020
23 अक्तूबर 2020
मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं...मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं..दुनिया के सताए लोग यहाँ सीने से लगाए जाते हैं।मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं।संसार मिला है रहने को यहाँ दुःख ही दुःख है सहने कोपर भर-भर के अमृत के प्याले यहाँ रोज पिलाये जाते हैं।मातारानी
23 अक्तूबर 2020
31 अक्तूबर 2020
महाप्रसाद के बदले महादानआप सभी जानते हैं कि कोरोना विषाणु के कारण जनजीवन बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। व्यापार, कारोबार और रोजगार भी अछूता नहीं रहा। कोरोना के कारण पूरे विश्व में भय व्याप्त है। ऐसे में पड़ने वाले त्योहारों का रंग भी फीका पड़ता गया। राष्ट्रीय त्यौहार स्वतंत्रता दिवस का आयोजन तो कि
31 अक्तूबर 2020
11 अक्तूबर 2020
चाहतीहूँ ,उकेरना ,औरत के समग्र रूपको, इस असीमित आकाश में !जिसके विशालहृदय में जज़्बातों का अथाह सागर,जैसे संपूर्ण सृष्टि कीभावनाओं का प्रतिबिंब !उसकेव्यक्तित्व कीगहराई में कुछ रंग बिखर गए हैं । कहींव्यथा है ,कहीं मानसिक यंत्रणा तो कहींआत्म हीनता की टीस लिए!सदियोंसे आज
11 अक्तूबर 2020
12 अक्तूबर 2020
"चले आना प्रभुजी चले आना..."कभी परशुराम बन केकभी बलराम बन केअहंकार मिटाने चले आनाचले आना प्रभुजी चले आना...कभी घनश्याम बन केकभी श्यामघन बन केधरती को भिगाने चले आनाचले आना प्रभुजी चले आना....कभी राम बन केकभी श्याम बन केपाप मिटाने चले आनाचले आना प्रभुजी चले आना....कभी किसान बन केकभी नौजवान बन केअमन चै
12 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x