अनमोल वचन

28 अक्तूबर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (418 बार पढ़ा जा चुका है)

अनमोल वचन

अनमोल वचन


श्रद्धा सम भक्ति नहीं, जो कोई जाने मोल
हीरा तो दामों मिले, श्रद्धा-भक्ति अनमोल।


दयावान सबसे बड़ा, जिय हिय होत उदार
तीनहुँ लोक का सुख मिले, करे जो परोपकार।


स्वार्थी सारा जग मिले, उपकारी मिले न कोय
सज्जन से सज्जन मिले, अमन चैन सुख होय।


सब कुछ होत है श्रम से, नित श्रम करो तुम धाय
सीधी उँगली घी न निकसे, तो टेढ़ो होत उपाय।


खूबसूरती मन मा होत है, बिनु यहि प्रेम न होय
जाहिं खूबसूरती न बसे, जीवन नर्क सम होय।


ईश को खोजन जो चला, मिला न ईश्वर ठौर
ठोकर लागि जब गिरा, मिला ईश ताहिं ठौर।


➖ अशोक सिंह
☎️ 9867889171
#स्वरचित_हिंदीकविता
#पागल_पंथी_का_जुनून
#अक्स

अगला लेख: अनमोल वचन ➖ 3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अक्तूबर 2020
महाप्रसाद के बदले महादानआप सभी जानते हैं कि कोरोना विषाणु के कारण जनजीवन बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। व्यापार, कारोबार और रोजगार भी अछूता नहीं रहा। कोरोना के कारण पूरे विश्व में भय व्याप्त है। ऐसे में पड़ने वाले त्योहारों का रंग भी फीका पड़ता गया। राष्ट्रीय त्यौहार स्वतंत्रता दिवस का आयोजन तो कि
31 अक्तूबर 2020
13 अक्तूबर 2020
लो
लोट आओ है गाँधी तेरा भारत तुझे पुकारे स्वराज का सपना अधूरा स्वराज के दुलारे।
13 अक्तूबर 2020
23 अक्तूबर 2020
मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं...मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं..दुनिया के सताए लोग यहाँ सीने से लगाए जाते हैं।मातारानी के दरबार में दुःख दर्द मिटाए जाते हैं।संसार मिला है रहने को यहाँ दुःख ही दुःख है सहने कोपर भर-भर के अमृत के प्याले यहाँ रोज पिलाये जाते हैं।मातारानी
23 अक्तूबर 2020
07 नवम्बर 2020
ऑर्गेनिक खेती और हैड्रोपोनिक खेती का बढ़ता चलनहालही में मैंने 4 नवंबर, 2020 के अंक में छपा एक लेख पढ़ा जिसका शीर्षक था 'लेक्चरर की नौकरी छोड़ बनें किसान' मिट्टी नहीं पानी में उगती हैं फल और सब्जियाँ। यह कारनामा गुरकीरपाल सिंह नामक व्यक्ति ने कर दिखाया। जो एक कंप्यूटर इंजीनियर थे और लेक्चरर पद पर नौकरी
07 नवम्बर 2020
14 अक्तूबर 2020
मा
तेरी सुंदरता और भी बढ़ जाती है जब माथे पर लगी होती है बिंदी निकालने वाले तो चाँदनी की भी निकालते है चिंदी कलम भी गर्व महसूस करती है जब कागज पर लिखते है हिंदी हिंदी के शब्द सुनकर तोप्राचीन काल में मोहिनी हुई थी जिंदी संस्कृत की पुत्री है सिंधी की बहन मेरी मात्र भाषा और मेरी माँ है हिंद
14 अक्तूबर 2020
24 अक्तूबर 2020
कोरोना की वो काली भयावह रातमाना कि आज है कोरोना की काली भयावह रातदरअसल मिली है अपने कट्टर पड़ोसी से सौगातयूँ ही कोई देता है अर्जित अपनी थाती व विरासतसच पूछो तो ये है करनी यमराज के साथ मुलाक़ात..।नींद भी आती नहीं, आते नहीं सपनेंबेसब्री बढ़ती जाती है याद आते हैं अपनेंसमाचारपत्रों में पढ़कर भयावहता की खबरे
24 अक्तूबर 2020
06 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 3सद्गुरु हम पर प्रसन्न भयो, राख्यो अपने संगप्रेम - वर्षा ऐसे कियो, सराबोर भयो सब अंग।सद्गुरु साईं स्वरूप दिखे, दिल के पूरे साँचजब दुःख का पहाड़ पड़े, राह दिखायें साँच।सद्गुरु की जो न सुने, आपुनो समझे सुजानतीनों लोक में भटके, तबतक गुरु न मिले महान।सद्गुरु की महिमा अनंत है, अहे गुणन की खानभव
06 नवम्बर 2020
20 अक्तूबर 2020
करियर चौराहे पर बैठामैं रास्तों को गिन रहा कभी रास्ते को नापता ,तो कभी चुपके से रास्तों में झांकता जाना तो मुझे करियर बनाने को है लेकिन यह रास्तेयह संकट मुसीबतें मुझे रोकने के लिए लगातार ताक रहे हैहर रास्ते में एक घोड़ा लिए बुद्धिमान खड़े हैसबके पास दिखाने को प्रमाण है यह देखिए जनाब हमारे घोड़े पर
20 अक्तूबर 2020
01 नवम्बर 2020
हिंदी पाठ्यपुस्तक, मूल्यमापन एवं आराखड़ा प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्नमहाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक शिक्षण मंडल और बालभारती के संयुक्त तत्वावधान में बहुप्रतीक्षित बारहवीं की हिंदी पाठ्यपुस्तक, मूल्यमापन एवं आराखड़ा संबंधित प्रशिक्षण कार्यक्रम दिनांक 1 नवंबर, 2020 को सुबह 11.30 बजे संपन्न हुआ
01 नवम्बर 2020
19 अक्तूबर 2020
भक्तों ने पुकारा और मैया चली आईभक्तों ने पुकारा और मैया चली आईदर्शन देकर के मैया आपन कृपा बरसाई......जब-जब नवरात्रि आई, माई के दरबार सजाईघर में ही दरबार लगाई, स्वागत में मंगलाचार गाई....माँ के दरबार में..आज मंगलाचार है..सबका स्वागत सत्कार हैहो रही जयजयकार है माँ अंबे का सत्कार हैमाता भवानी आई हैं सं
19 अक्तूबर 2020
16 अक्तूबर 2020
16 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x