आकर तनिक मुझको सुलाओ

29 अक्तूबर 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (399 बार पढ़ा जा चुका है)

आकर तनिक मुझको सुलाओ

जीवन की भाग दौड़ में उलझा मन... न जाने कितने उतारों चढ़ावों से थकित मन कभी न कभी ऐसी कामना अवश्य करता है कि कोई उसका अपना उसे मीठी तान सुनाकर ऐसी नींद सुला दे कि थकित मन को कुछ पलों के लिए विश्राम प्राप्त हो जाए... कुछ ऐसे ही उलझे सुलझे से भाव हैं हमारी आज की रचना में... जिसका शीर्षक है “आकर तनिक मुझको सुलाओ”... कात्यायनी...

थक चुकी हूँ मैं बहुत, आकर तनिक मुझको सुलाओ |

कोई मीठी तान तुम गाकर तनिक मुझको सुनाओ ||

कल सकल जग में अनोखा प्रात फिर आ जाएगा

कोई प्यारा स्वप्न पल में फिर कहीं खो जाएगा |

टूट ना जाए अनोखा स्वप्न, मुझको ना जगाओ

कोई मीठी तान तुम गाकर तनिक मुझको सुनाओ ||

सूर्य कर देगा उजाला निज करों से जब जगत में

व्यक्त कर पाऊँगी कैसे भाव उर के मुक्त स्वर में |

कह सकूँ मैं बात मन की, तनिक यह दीपक बढ़ाओ

कोई मीठी तान तुम गाकर तनिक मुझको सुनाओ ||

है अँधेरा बहुत, लेकिन राग का दीपक जला है

और मेरा थकित मन इस राग में अब खो चला है |

है मुझे स्वीकार सम्मोहन, न अब वापस बुलाओ

कोई मीठी तान तुम गाकर तनिक मुझको सुनाओ ||

काल के हर बाण का आघात सहना है कठिन

साँस की लड़ियों का इसमें जुड़के रहना है कठिन |

साथ छूटे ना तनिक, यों मन के तारों को मिलाओ

कोई मीठी तान तुम गाकर तनिक मुझको सुनाओ ||

https://youtu.be/cCH1zwqRp9E

अगला लेख: नवम नवरात्र



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अक्तूबर 2020
द्वितीया ब्रह्मचारिणीनवदुर्गा– द्वितीय नवरात्र - देवी के ब्रह्मचारिणी रूप की उपासनाकल आश्विन शुक्लद्वितीया – दूसरा नवरात्र – माँ भगवती के दूसरे रूप की उपासना का दिन | देवी कादूसरा रूप ब्रह्मचारिणी का है – ब्रह्म चारयितुं शीलं यस्याः सा ब्रह्मचारिणी – अर्थात् ब्रह्मस्वरूप की प्राप्ति करना जिसका स्वभा
17 अक्तूबर 2020
23 अक्तूबर 2020
नवमनवरात्र – देवी के सिद्धिदात्री तथा अन्नपूर्णा रूपों की उपासनारविवार 25 अक्तूबर को आश्विन शुक्लनवमी तिथि है – नवम तथा अन्तिम नवरात्र – देवी के सिद्धिदात्री रूप की उपासना –दुर्गा विसर्जन | नवमी तिथि का आरम्भ शनिवार को हो जाएगा लेकिन सूर्योदय से लगभगचौंतीस मिनट के बाद
23 अक्तूबर 2020
16 अक्तूबर 2020
छायावाद के चार प्रमुख स्तम्भोंमें से एक महानकवि निराला... नवगीत केउद्भावक और प्रवर्तक... कल महाप्राण निराला जी की पुण्य तिथि के अवसर पर कुछ पंक्तियाँ श्रद्धांजलिस्वरूप प्रस्तुत की थीं... जो आज आप सबों के साथ साँझा कर रहे हैं... निराला जीजैसा भावुक और उदारमना कवि वास्तव में समस्त जगती के प्राणों में
16 अक्तूबर 2020
15 अक्तूबर 2020
काव्य मैराथन में आज सप्तम दिवस कीरचना प्रस्तुत कर रहे हैं, जिसका शीर्षक है “तूकभी न दुर्बल हो सकती”... अपनी आज की रचना प्रस्तुत करें उससे पहले दो बातें...हमारी प्रकृति वास्तव में नारी रूपा है... जाने कितने रहस्य इसके गर्भ में समाएहुए हैं… शक्ति के न जाने कितने स्रोत प्रकृति ने अपने भीतर धारण किये हु
15 अक्तूबर 2020
20 अक्तूबर 2020
पञ्चम नवरात्र – देवी के स्कन्दमाता रूप की उपासना केलिए मन्त्रसौम्या सौम्यतराशेष सौम्येभ्यस्त्वति सुन्दरी,परापराणां परमा त्वमेव परमेश्वरी |कल आश्विन शुक्ल पञ्चमी – पञ्चमनवरात्र – देवी के पञ्चम रूप की उपासना - स्कन्दमाता रूप की उपासना - देवी कापञ्चम स्वरूप स्कन्दमाता के रूप में जाना जाता है और नवरात्र
20 अक्तूबर 2020
05 नवम्बर 2020
कि
🌿🎶🙏जय माँ वीणा वादिनी 🙏 आपकी सेवा में प्रस्तुत है -एक नयी आतुकांत रचना- 🍁" *किसी* "🍁आज सुबह "किसी" ने भाव जगा दिए,मैं समझ नहीं पाया उस किरण को,कैसे आई- फिर ''किसी'' बन गई,ये "किसी" शायद एक स्थान है,कोई पदवी है ,उच्च वरीयता प्राप्त कोई ओहदा है,जो हर आदमी इससे बंधा हुआ है,एक संगीत सा बजता
05 नवम्बर 2020
19 अक्तूबर 2020
है
है मनुष्य इतना घमंड ना कर प्रकृति का तू दमन ना कर यह जग सबका है पशु पक्षियो को खत्म ना कर यह जीव जंतु दुश्मन नहीं तेरे साथी है इनके बिना तू कुछ नहीं यह तेरे जीवन के बाराती है पंछी चाहे कितना ही ऊंचा उड़ जाए खाने के लिए धरती पर झोली फैलाए
19 अक्तूबर 2020
20 अक्तूबर 2020
करियर चौराहे पर बैठामैं रास्तों को गिन रहा कभी रास्ते को नापता ,तो कभी चुपके से रास्तों में झांकता जाना तो मुझे करियर बनाने को है लेकिन यह रास्तेयह संकट मुसीबतें मुझे रोकने के लिए लगातार ताक रहे हैहर रास्ते में एक घोड़ा लिए बुद्धिमान खड़े हैसबके पास दिखाने को प्रमाण है यह देखिए जनाब हमारे घोड़े पर
20 अक्तूबर 2020
19 अक्तूबर 2020
शुक्र का कन्या राशि में गोचर शुक्रवार तेईस अक्तूबर आश्विन शुक्लअष्टमी को विष्टि करण और धृति योग में प्रातः 10:45 के लगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारकशुक्र शत्रु ग्रह सूर्य की सिंह राशि से निक
19 अक्तूबर 2020
20 अक्तूबर 2020
करियर चौराहे पर बैठामैं रास्तों को गिन रहा कभी रास्ते को नापता ,तो कभी चुपके से रास्तों में झांकता जाना तो मुझे करियर बनाने को है लेकिन यह रास्तेयह संकट मुसीबतें मुझे रोकने के लिए लगातार ताक रहे हैहर रास्ते में एक घोड़ा लिए बुद्धिमान खड़े हैसबके पास दिखाने को प्रमाण है यह देखिए जनाब हमारे घोड़े पर
20 अक्तूबर 2020
06 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 3सद्गुरु हम पर प्रसन्न भयो, राख्यो अपने संगप्रेम - वर्षा ऐसे कियो, सराबोर भयो सब अंग।सद्गुरु साईं स्वरूप दिखे, दिल के पूरे साँचजब दुःख का पहाड़ पड़े, राह दिखायें साँच।सद्गुरु की जो न सुने, आपुनो समझे सुजानतीनों लोक में भटके, तबतक गुरु न मिले महान।सद्गुरु की महिमा अनंत है, अहे गुणन की खानभव
06 नवम्बर 2020
15 अक्तूबर 2020
सु
सुबह से शाम हो रही है न्याय के लिए आँखें रो रही है कभी निर्भया तो कभी हाथरस जैसी घटनाए हर रोज हो रही है लगता है आज कल धरती पर मानव तो है लेकिन मानवता धीरे धीरे जग से खो रही है किसको फर्क पड़ता है यहां न्यायपालिका में लाखों मुकदमे विचाराधीन है निर्दोष भी कारा गृह में मौन है अब यह गाँधी का देश नहीं है
15 अक्तूबर 2020
16 अक्तूबर 2020
छायावाद के चार प्रमुख स्तम्भोंमें से एक महानकवि निराला... नवगीत केउद्भावक और प्रवर्तक... कल महाप्राण निराला जी की पुण्य तिथि के अवसर पर कुछ पंक्तियाँ श्रद्धांजलिस्वरूप प्रस्तुत की थीं... जो आज आप सबों के साथ साँझा कर रहे हैं... निराला जीजैसा भावुक और उदारमना कवि वास्तव में समस्त जगती के प्राणों में
16 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x