सरदार पटेल

02 नवम्बर 2020   |  अभिनव मिश्रा"अदम्य"   (423 बार पढ़ा जा चुका है)

सरदार पटेल

विधा- दोहा

विषय-लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल


दृढ़ संकल्पो से सदा, खेला जिसने खेल।

उस युगद्रष्टा को कहे, जग सरदार पटेल ।


निज कर्मों से ही किया, सपनों को साकार।

रियासतों से ही दिया, नव भारत आकार।


आन्दोलन नेतृत्व कर, हित में रहा किसान।

बहनों ने सरदार कह, किया सदा सम्मान।


चारित्रिक दृढ़ से पड़ा, लौह पुरुष था नाम।

विघटनकारी तत्व को, सदा मिटाना काम।


विषम परिस्तिथ में सदा, अटल रहे जज्बात।

दृढ़ संकल्पों से भरा, सदा तुम्हारा गात।


जूनागढ़ षड्यंत्र का, तुमने किया विनाश।

लोगों के मन में जगी, नयी उमंगे आस।


युगों-युगों गाते रहें, अमर कीर्ति का गान।

अखण्ड भारत का बढ़े, इसी तरह से मान।


आज़ादी में देश की, नायक रहे महान।

रहे आचरण के धनी, भारत की थे शान।


अभिनव मिश्र"अदम्य

शाहजहांपुर, उत्तरप्रदेश


सरदार पटेल
सरदार पटेल

अगला लेख: मेरे प्यारे पापा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
24 अक्तूबर 2020
13 नवम्बर 2020
19 अक्तूबर 2020
मा
15 नवम्बर 2020
02 नवम्बर 2020
06 नवम्बर 2020
19 अक्तूबर 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x