आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँ

14 नवम्बर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (431 बार पढ़ा जा चुका है)

आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँ

आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँ


आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँ
दीप बनाने वालों के घर में भी दीये जलाएँ
चीनी हो या विदेशी हो सबको ढेंगा दिखाएँ
अपनों के घर में बुझे हुए चूल्हे फिर जलाएँ
अपनें जो रूठे हैं उन्हें हम फिर से गले लगाएँ।


आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँ
जो इस जग में जगमग-जगमग जलता जाए
जो अपनी आभा को इस जग में नित फैलाए
जो जग में फैले अंधकार अज्ञान को नित्य मिटाए
जो घृणा, द्वेष, ईर्ष्या, दलबंदी को दूर भगाए।


आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँ
सबके दिल का रूठा अँधियारा मिट जाए
दीप ज्योति सी जग में अपना अनुराग बढ़ाए
जनजन के मन में पनपे वैमनस्य भाव मिटाए
आओ मिलकर निर्धन को भी पकवान खिलाएँ।


आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँ
जिसके लौ में धर्म-जाति का मतभेद मिटाएँ
अमन-चैन सुख-शांति का चहु ओर संदेश फैलाएँ
आओ मिलकर जग के कल्याण का गुहार लगाएँ
आरोग्य-स्वास्थ्य सम्पदा को जग में फैलाएँ।


आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँ स्वार्थी नेताओं के चंगुल से हम देश बचाएँ
मंदिर मस्जिद की चालों से गुमराह न होने पायें
नस्लवाद के भस्मासुर से जनमानस को बचाएँ
आओ मिलकर हम भारत को भारतवर्ष बनाएँ।
➖ अशोक सिंह 'अक्स'
#अक्स
#पागल_पंथी_का_जुनून
#स्वरचित_हिंदीकविता

आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँ

अगला लेख: अनमोल वचन ➖ 3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 नवम्बर 2020
मेरी एकादशोत्तरशत काव्य रचना (My One Hundred eleventh Poem)"सामान"“घर-घर सामान भरा पड़ा हैहद से ज्यादा भरा पड़ा हैखरीद-खरीद के बटुआ खालीखाली दिमाग में सामान भरा पड़ा है -१हर दूसरे दिन बाहर जाना हैनयी-नयी चीजें लाना हैजरूरत है एक सामान कीढोकर हजार सामान लाना है-२अपने घर में जो रखा हैउसकी खुशी न करना
23 नवम्बर 2020
19 नवम्बर 2020
भारत का स्विट्जरलैंडएक लंबे अरसे के बाद मातारानी के यहाँ से बुलावा आ ही गया। हमनें मातारानी वैष्णोदेवी का दर्शन करने के पश्चात दूसरे दिन हमनें कटरा से ही अगले सात दिन के लिए ट्रैवलर फोर्स रिजर्व कर लिया था। कटरा से सुबह हम सब डलहौजी के लिए रवाना हुए थे। नवंबर माह का अंतिम सप्ताह चल रहा था। सैलानियो
19 नवम्बर 2020
03 नवम्बर 2020
आज ,अखण्ड सौभाग्यवती कामाँ उमा से है वर पाना ऐ चाँद, तुम जल्दी आ जाना || आज पिया के लिये है सजना संवरना अमर रहे सदा मेरा सजना ऐसा वर तुम देते जाना ऐ चाँद ,तुम जल्दी आ जाना || अहसानों के बोझ तले मुझे मत दबाना आज आरजू है यही इबादत में मोहब्बत का विस्तार कराना रहे सदा साथ सजना का ऐसा वर तुम देते जाना
03 नवम्बर 2020
23 नवम्बर 2020
श्
‼️ भगवत्कृपा हि केवलं‼️ओम् नमो भगवते वासुदेवाय श्री राम चरित मानस 🌻अयोध्याकाँड🌻गतांक से आगे... चौपाई-एक कलस भरि आनहिं पानी।अँचइअ नाथ कहहिं मृदु बानी।।सुनि प्रिय बचन प्रीति अति देखी।राम कृपाल सुसील बिसेषी।।जानी श्रमित सीय मन माहीं।घरिक बिलंबु कीन्ह बट छाहीं।।मुदित नारि नर दे
23 नवम्बर 2020
13 नवम्बर 2020
दीपों की जगमग है दिवाली दीपों का श्रृंगार दिवाली है माटी के दीप दिवाली मन में खुशियाँ लाती दिवाली || रंगोली के रंग दिवाली लक्ष्मी संग गणपति का आगमन दिवाली स्नेह समर्पण प्यार भरी मिठास का विस्तार दिवाली अपनों के संग अपनों के रंग में घुल जाने की प्रीति दिवाली हाथी घोड़े मिट्टी के बर्तन फुलझड़ियों का
13 नवम्बर 2020
07 नवम्बर 2020
शरद ऋतु की कोमल मुलायम सी धूप... ध्यान से देखेंगे तो अनगिनतीरूप... रंग और भाव दीख पड़ेंगे... कभी किसी नायिका सी... तो कभी श्वेत कपोत सी...तो कभी रेगिस्तान की मृगमरीचिका सी... कुछ इसी प्रकार के उलझे सुलझे से भावों केसाथ प्रस्तुत है हमारी आज की रचना... धूप शरद की... कात्यायनी...https://youtu.be/hVjKTmk
07 नवम्बर 2020
14 नवम्बर 2020
आज दीपोत्सव की सभी को अनेकशःहार्दिक शुभकामनाएँ...माटी के ये दीप जलानेसे क्या होगा, जला सको तो स्नेह भरे कुछ दीप जलाओ |दीन हीन और निर्बल सबहीके जीवन में स्नेहपगी बाती की उस लौ को उकसाओ ||दीपमालिका मेंप्रज्वलित प्रत्येक दीप की प्रत्येक किरण हम सभी के जीवन में सुख, समृद्धि,स्नेह और सौभाग्य की स्वर्णिम
14 नवम्बर 2020
23 नवम्बर 2020
गि
गिरनार की चढ़ाई (संस्मरण)समय-समय की बात होती है। कभी हम भी गिरनार की चढ़ाई को साधारण समझते थे पर आज तो सोच के ही पसीना छूटने लगता है। आज से आठ वर्ष पूर्व एक विशेष राष्ट्रीय एकता शिविर (Special NIC Camp) में महाराष्ट्र डायरेक्टरेट का प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिला। पूरे बारह दिन का शिविर था। मेरे साथ द
23 नवम्बर 2020
15 नवम्बर 2020
जननायक बिरसा मुंडावैसे तो हम हजारों समाजसुधारकों और स्वतंत्रता सेनानियों को याद करते हैं, उनका जन्मदिन मनाते हैं। पर कुछ ऐसे होते हैं जो अल्पायु जीवनकाल में ही महान कार्य कर जाते हैं पर उनको स्मरण करना सिर्फ औपचारिकता रह जाती है या फिर क्षेत्रीय स्तर पर ही उनकी पहचान सिमटकर रह जाती है। आज मैं बात क
15 नवम्बर 2020
31 अक्तूबर 2020
महाप्रसाद के बदले महादानआप सभी जानते हैं कि कोरोना विषाणु के कारण जनजीवन बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। व्यापार, कारोबार और रोजगार भी अछूता नहीं रहा। कोरोना के कारण पूरे विश्व में भय व्याप्त है। ऐसे में पड़ने वाले त्योहारों का रंग भी फीका पड़ता गया। राष्ट्रीय त्यौहार स्वतंत्रता दिवस का आयोजन तो कि
31 अक्तूबर 2020
09 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 4दाता इतना रहमिए, कि पालन-पोषण होयपेट नित भरता रहे, अतिथि सेवा भी होय।दीनानाथ हैं अंतर्यामी, सहज करें व्यापारबिना तराजू के स्वामी, करें हैं सम व्यवहार।सबकुछ तेरा नाम प्रभु, इंसा की नहीं औकातपल में राजा तू बनाए, पल में रंक बनि जात।नाथ की लीला निराली,क्या स्वामी क्या मालीबाग की रक्षा माली
09 नवम्बर 2020
05 नवम्बर 2020
कि
🌿🎶🙏जय माँ वीणा वादिनी 🙏 आपकी सेवा में प्रस्तुत है -एक नयी आतुकांत रचना- 🍁" *किसी* "🍁आज सुबह "किसी" ने भाव जगा दिए,मैं समझ नहीं पाया उस किरण को,कैसे आई- फिर ''किसी'' बन गई,ये "किसी" शायद एक स्थान है,कोई पदवी है ,उच्च वरीयता प्राप्त कोई ओहदा है,जो हर आदमी इससे बंधा हुआ है,एक संगीत सा बजता
05 नवम्बर 2020
30 अक्तूबर 2020
जीवन को सरल, सहज और उदार बनाओमनुष्य कहने के लिए तो प्राणियों में सबसे बुद्धिमान और समझदार कहलाता है। पर गहन अध्ययन व चिंतन करने पर पता चलता है कि उसके जैसा नासमझ व लापरवाह दूसरा कोई प्राणी नहीं है। विचारकों, चिंतकों, शिक्षाशास्त्रियों और मनीषियों ने बताया कि सीखने की कोई आयु और अवस्था नहीं होती है।
30 अक्तूबर 2020
06 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 3सद्गुरु हम पर प्रसन्न भयो, राख्यो अपने संगप्रेम - वर्षा ऐसे कियो, सराबोर भयो सब अंग।सद्गुरु साईं स्वरूप दिखे, दिल के पूरे साँचजब दुःख का पहाड़ पड़े, राह दिखायें साँच।सद्गुरु की जो न सुने, आपुनो समझे सुजानतीनों लोक में भटके, तबतक गुरु न मिले महान।सद्गुरु की महिमा अनंत है, अहे गुणन की खानभव
06 नवम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x