मेरी जलती हुई कहानी

14 नवम्बर 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (438 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरी जलती हुई कहानी

आज दीपोत्सव की सभी को अनेकशः हार्दिक शुभकामनाएँ...

माटी के ये दीप जलाने से क्या होगा, जला सको तो स्नेह भरे कुछ दीप जलाओ |

दीन हीन और निर्बल सबही के जीवन में स्नेहपगी बाती की उस लौ को उकसाओ ||

दीपमालिका में प्रज्वलित प्रत्येक दीप की प्रत्येक किरण हम सभी के जीवन में सुख, समृद्धि, स्नेह और सौभाग्य की स्वर्णिम आभा प्रसारित करे…. आज की अपनी उलझी सुलझी सी बातों में प्रस्तुत कर रहे हैं दीपावली के शुभावसर पर प्रज्वलित दीप की जलती हुई कहानी... उसी की जुबानी... कात्यायनी...

https://youtu.be/WVW1S79oFnc

मिट्टी का तन, पल भर जीवन, सदा मोम सा गलता रहता |

जलती बाती धरे हृदय पर सदा स्नेह में जलता रहता ||

धूमशिखा भी दीप्त दीप्ति से मिल बन जाती ज्योति सुहानी |

मैं हूँ दीप, सुनाऊँ तुमको अपनी जलती हुई कहानी...

सुख दुःख दोनों जीवन साथी, एक दिया है एक है बाती |

किन्तु स्नेह के बिना व्यर्थ है दीप और दीपक की बाती ||

स्नेह भरा है यह तन मेरा, ज्वाला से है पूर्ण जवानी |

मैं हूँ दीप, सुनाऊँ तुमको अपनी जलती हुई कहानी...

होती है दीवाली भू पर, जगर मगर दीपक जलते हैं |

जैसे इस नीले अम्बर में झिलमिल तारकदल खिलते हैं ||

मुझसे ही है रैन अमावस की पूनम सी हुई सुहानी |

मैं हूँ दीप, सुनाऊँ तुमको अपनी जलती हुई कहानी...

जाने कितनी नववधुओं का मैंने प्रथम मिलन देखा है |

कितने कोमल गीत सुने हैं, कितना पग नर्तन देखा है ||

अंगों की थिरकन देखी है, नयनों की चितवन अलसानी |

मैं हूँ दीप, सुनाऊँ तुमको अपनी जलती हुई कहानी...

मैंने मेहर सलीम अनेकों अपनी आँखों मिलते देखे |

और शेख़ अफ़ग़न भी कितने अपनी आँखों मिटते देखे ||

बहुत मरमरी बाहें देखीं, कितनी ही सूरत नूरानी |

मैं हूँ दीप, सुनाऊँ तुमको अपनी जलती हुई कहानी...

साधक योगी, विरह वियोगी, मैं दोनों का बना सहारा |

मैंने जग को राह दिखाने में ही अपना जीवन हारा ||

चाहे कितना क्षीण रहा, पर तन से नहीं पराजय मानी |

मैं हूँ दीप, सुनाऊँ तुमको अपनी जलती हुई कहानी...

किन्तु विचित्र विधाता, कितना अद्भुत यह विधान है तेरा |

जो सारे जग को प्रकाश दे, उसी दीप के तले अँधेरा ||

यह ही तो है उल्टी माया, और भाग्य की है मनमानी |

मैं हूँ दीप, सुनाऊँ तुमको अपनी जलती हुई कहानी...

सभी ओर मेरा प्रकाश है, सबकी आँखों में लौ मेरी |

सारा तेज तेज है मेरा, और सकल दाहकता मेरी ||

देखा मेरा सदा सभी ने स्नेहपूर्ण तन ज्योति सुहानी |

सुनी नहीं है किन्तु किसी ने मेरी जलती हुई कहानी ||

मैं हूँ दीप, सुनाऊँ तुमको अपनी जलती हुई कहानी...

अगला लेख: सूर्य का वृश्चिक में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 नवम्बर 2020
शुक्र का तुला राशि में गोचर कल कार्तिक शुक्ल द्वितीया कौलव करणऔर सुकर्मा योग में अर्द्धरात्र्योत्तर (आज प्रातः) एक बजकर दो मिनट के लगभग समस्तसांसारिक सुख, समृद्धि,विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीति तथा समाज में मान प्रतिष्ठा मेंवृद्धि आदि का कारक शुक्र चित्रा नक्षत्र में रहत
17 नवम्बर 2020
01 नवम्बर 2020
धन्वन्तरीत्रयोदशीॐ नमो भगवते महासुदर्शनायवासुदेवाय धन्वन्तरयेअमृतकलशहस्ताय सर्वभयविनाशायसर्वरोगनिवारणाय |त्रिलोकपथाय त्रिलोकनाथाय श्रीमहाविष्णुस्वरूपायश्री धन्वन्तरीस्वरूपायश्रीश्रीश्री औषधचक्राय नारायणाय नमः ||ॐ नमो भगवते धन्वन्तरयेअमृतकलशहस्ताय सर्व आमयविनाशनाय त्रिलोकनाथायश्रीमहाविष्णुवे नम: ||कर
01 नवम्बर 2020
03 नवम्बर 2020
गोवर्धन पूजा और अन्नकूटपाँच पर्वों की श्रृंखला दीपावली कीचतुर्थ कड़ी होती है कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा यानी दीपावली के अगले दिन की जाने वालीगोवर्धन पूजा और अन्नकूट | इस वर्ष पन्द्रह नवम्बर को प्रातः 10:36 के लगभग प्रतिपदातिथि का आरम्भ होगा जो सोलह नवम्बर को प्रातः सात बजकर छह मिनट तक रहेगी | गोवर्धनपूजा
03 नवम्बर 2020
05 नवम्बर 2020
कि
🌿🎶🙏जय माँ वीणा वादिनी 🙏 आपकी सेवा में प्रस्तुत है -एक नयी आतुकांत रचना- 🍁" *किसी* "🍁आज सुबह "किसी" ने भाव जगा दिए,मैं समझ नहीं पाया उस किरण को,कैसे आई- फिर ''किसी'' बन गई,ये "किसी" शायद एक स्थान है,कोई पदवी है ,उच्च वरीयता प्राप्त कोई ओहदा है,जो हर आदमी इससे बंधा हुआ है,एक संगीत सा बजता
05 नवम्बर 2020
15 नवम्बर 2020
साहित्य मित्र मंडल, जबलपुर(व्हाट्सऐप्प्स् समुह संख्या: १ - ८)रविवासरीय प्रतियोगिता में ''श्रेष्ठ सृजन सम्मान ''हेतु चयनित मेरी रचनादिनांक: १५.११. २०२०विषय: रोशनी का त्योहार🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔रौशनी का त्योहार दीपावाली- सबको है भाता।।कोई लक्ष्मी पूजन करता, कोई बड़ा
15 नवम्बर 2020
28 अक्तूबर 2020
दू
दूर ना जाना ,पास आनाविचारों के सागर में संग ग़ोता लगाना मनमोहक सपने दिखाना सपनों में मंजिल को खोजते हुए रास्तों से इश्क हो जाना मंजिल के मिल जाने पर भी रास्तों से मोह न जाना यह कुछ वैसा ही है जैसे मृत्यु रुपी मंजिल तक जानाऔर पथ रूपी जिंदगी से लगन लग जाना।
28 अक्तूबर 2020
27 अक्तूबर 2020
शरद पूर्णिमासोमवार तीस अक्तूबर को आश्विन मास की पूर्णिमा, जिसेशरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है - का मोहक पर्व है | औरइसके साथ ही पन्द्रह दिनों बाद आने वाले दीपोत्सव की चहल पहल आरम्भ हो जाएगी |सोमवार को सायं पौने छह बजे के लगभग पूर्णिमा तिथि आरम्भ होगी जो 31अक्तूबर को रात्रि 8:19 तक रहेगी | इस दिन
27 अक्तूबर 2020
13 नवम्बर 2020
आज धन्वन्तरी त्रयोदशी –जिसे धनतेरस भी कहा जाता है – का पर्व है, और कल दीपमालिका के साथ धन की दात्रीमाँ लक्ष्मी का आह्वाहन किया जाएगा... धन, जो है उत्तमस्वास्थ्य का उल्लास… धन, जो है ज्ञान विज्ञान का आलोक… धन,जो है स्नेह-प्रेम-दया आदि सद्भावों का प्रकाश… सभी का जीवन इससमस्त प्रकार के वैभव से समृद्ध र
13 नवम्बर 2020
13 नवम्बर 2020
आज धन्वन्तरी त्रयोदशी –जिसे धनतेरस भी कहा जाता है – का पर्व है, और कल दीपमालिका के साथ धन की दात्रीमाँ लक्ष्मी का आह्वाहन किया जाएगा... धन, जो है उत्तमस्वास्थ्य का उल्लास… धन, जो है ज्ञान विज्ञान का आलोक… धन,जो है स्नेह-प्रेम-दया आदि सद्भावों का प्रकाश… सभी का जीवन इससमस्त प्रकार के वैभव से समृद्ध र
13 नवम्बर 2020
17 नवम्बर 2020
मेष,वृषभ और मिथुन राशि के जातकों के लिए गुरु का मकर में गोचरसोमवार 29 मार्च 2020, चैत्र शुक्ल षष्ठी को 27:55 (अर्द्धरात्र्योत्तरतीन बजकर पचपन मिनट) के लगभग आयुष्मान योग और कौलव करण में गुरुदेव का गोचर मकरराशि में हुआ था | लेकिन 14 मई 2020 कोरात्रि 7:47 के लगभग वक्री होते हुए गुरु तीस जून 2020को सूर्
17 नवम्बर 2020
13 नवम्बर 2020
आज धन्वन्तरी त्रयोदशी –जिसे धनतेरस भी कहा जाता है – का पर्व है, और कल दीपमालिका के साथ धन की दात्रीमाँ लक्ष्मी का आह्वाहन किया जाएगा... धन, जो है उत्तमस्वास्थ्य का उल्लास… धन, जो है ज्ञान विज्ञान का आलोक… धन,जो है स्नेह-प्रेम-दया आदि सद्भावों का प्रकाश… सभी का जीवन इससमस्त प्रकार के वैभव से समृद्ध र
13 नवम्बर 2020
14 नवम्बर 2020
आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँआओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँदीप बनाने वालों के घर में भी दीये जलाएँचीनी हो या विदेशी हो सबको ढेंगा दिखाएँअपनों के घर में बुझे हुए चूल्हे फिर जलाएँअपनें जो रूठे हैं उन्हें हम फिर से गले लगाएँ।आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँजो इस जग में जगमग-जगमग जलता जाएजो अपनी आभा को इस जग म
14 नवम्बर 2020
18 नवम्बर 2020
सूर्योपासना का पर्व छठ पूजाआदिदेवनमस्तुभ्यं प्रसीद मम भास्कर, दिवाकर नमस्तुभ्यं, प्रभाकरनमोस्तुते |सप्ताश्वरथमारूढ़ंप्रचण्डं कश्यपात्मजम्, श्वेतपद्यधरं देव तं सूर्यप्रणाम्यहम् ||कोरोना के आतंक के बीच दीपावली के पाँचों पर्व हर्षोल्लास के साथ सम्पन्नहो चुके हैं और आज का
18 नवम्बर 2020
13 नवम्बर 2020
गरीब की दीवाली दीवाली के दिए जले हैं घर-घर में खुशहाली है।पर इस गरीब की दीवाली लगती खाली खाली है।पैसा वालों के घर देखोअच्छी लगे सजावट है।इस गरीब के घर को देखोटूटी- फूटी हालत है।हाय-हाय बेदर्द विधातागला गरीबी घोट रही।बच्चों के अब ख्वाब घरौंदेलाचारी में टूट रही।जेब पड़ी है खाली मेरीकैसे पर्व मनाऊं म
13 नवम्बर 2020
02 नवम्बर 2020
नरक चतुर्दशी / रूप चतुर्दशी / लक्ष्मी पूजन / दीपोत्सव पाँचपर्वों की श्रृंखला “दीपावली” की दूसरी कड़ी है नरक चतुर्दशी, जिसे छोटी दिवाली अथवा रूप चतुर्दशी केनाम से भी जाना जाता है और प्रायः यह लक्ष्मी पूजन से पहले दिन मनाया जाता है |किन्तु यदि सूर्योदय में चतुर्दशी तिथि हो और उसी दिन अपराह्न मेंअमावस्य
02 नवम्बर 2020
31 अक्तूबर 2020
अहोईअष्टमी व्रतआश्विन शुक्लपक्ष आरम्भ होते ही पर्वों की धूम आरम्भ हो जाती है | पहले शारदीय नवरात्र, बुराई और असत्य परअच्छाई तथा सत्य की विजय का प्रतीक पर्व विजया दशमी उसके बाद शरद पूर्णिमा औरआदिकवि वाल्मीकि की जयन्ती, फिर कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा सेकार्तिक स्नान आरम्भ हो जाता है | कल कार्तिक कृष्ण प्र
31 अक्तूबर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x