अनमोल वचन ➖ 5

16 नवम्बर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (467 बार पढ़ा जा चुका है)

अनमोल वचन ➖ 5

अनमोल वचन ➖ 5


दीप से दीप की ज्योति जलाई, दिवाली की ये रीति निभाई

एक कतार में रखि के सजाई, फिर सब कुशल क्षेम मनाई।


पाँच दिनों का त्योहार अनोखा, भाऊबीज तक सजे झरोखा

पकवानों का खुशबू हो चोखा, हर कोई रखता है लेखा-जोखा।


धनतेरस की बात निराली, करते हैं सब अपनी जेबें खाली

कोई खरीदे सोना-चाँदी तो, कोई बर्तन शुभ दिवाली।


दीप जलाकर करें हैं निवेदन, अंधकार मिटि जाए घन

स्वास्थ्य समृद्धि का लाभ मिले, बना रहे सुखमय जीवन।


नरकचतुर्दशी का दीप जलाकर, यम की करें सेवकाई

अकाल काल से छुटकारा पाकर, फिरि जग की करे भलाई।


लक्ष्मी पूजन और सिद्धि आराधना, अमावस्या की रात का सपना

तन मन से जो करे पूजा अर्चना, धन दौलत और पाए खजाना।


मंगलमय हो तुम्हरी दिवाली, यही है मेरी अरदावली

धन आरोग्य संपदा मिली, सुधरे घर की हालत माली।


जैसी सोच वैसी हो प्राप्ति, साधु संत या नर हो भोगी

दुर्भावना त्याग ज्यों करे, संवरे जीवन बनि जाए योगी।


मानव सम कोई जीव नहीं, हो जो परमारथ में लीन

इहलोक परलोक सुधरि जाये, त्यागे स्वार्थ भावना हीन।


दिवाली सम पर्व नहीं, अँधियारे को देत भगाय

प्रकाश पर्व की रात यही, अँधियारा जात नशाय।


➖ अशोक सिंह 'अक्स'

#अक्स

अगला लेख: पीने के पानी की सुविधा न होने से त्रस्त हैं लोग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 नवम्बर 2020
मेरी एकादशोत्तरशत काव्य रचना (My One Hundred eleventh Poem)"सामान"“घर-घर सामान भरा पड़ा हैहद से ज्यादा भरा पड़ा हैखरीद-खरीद के बटुआ खालीखाली दिमाग में सामान भरा पड़ा है -१हर दूसरे दिन बाहर जाना हैनयी-नयी चीजें लाना हैजरूरत है एक सामान कीढोकर हजार सामान लाना है-२अपने घर में जो रखा हैउसकी खुशी न करना
23 नवम्बर 2020
05 नवम्बर 2020
सबसे सरल, सहज और दुर्बल प्राणी 'शिक्षक'आप हमेशा से ही इस समाज में एक ऐसे वर्ग, समुदाय या समूह को देखते आये हैं जो कमजोर, दुर्बल या स्वभाव से सरल होता है और दुनिया वाले या अन्य लोग उसके साथ कितनी जटिलता, सख्ती या बेदर्दी से पेश आते हैं। वो बेचारा अपना दुःख भी खुलकर व्यक्त नहीं कर पाता है। वैसे तो उसे
05 नवम्बर 2020
14 नवम्बर 2020
आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँआओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँदीप बनाने वालों के घर में भी दीये जलाएँचीनी हो या विदेशी हो सबको ढेंगा दिखाएँअपनों के घर में बुझे हुए चूल्हे फिर जलाएँअपनें जो रूठे हैं उन्हें हम फिर से गले लगाएँ।आओ हम सब मिलकर ऐसा दीप जलाएँजो इस जग में जगमग-जगमग जलता जाएजो अपनी आभा को इस जग म
14 नवम्बर 2020
06 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 3सद्गुरु हम पर प्रसन्न भयो, राख्यो अपने संगप्रेम - वर्षा ऐसे कियो, सराबोर भयो सब अंग।सद्गुरु साईं स्वरूप दिखे, दिल के पूरे साँचजब दुःख का पहाड़ पड़े, राह दिखायें साँच।सद्गुरु की जो न सुने, आपुनो समझे सुजानतीनों लोक में भटके, तबतक गुरु न मिले महान।सद्गुरु की महिमा अनंत है, अहे गुणन की खानभव
06 नवम्बर 2020
30 नवम्बर 2020
पी
पीने के पानी की सुविधा न होने से त्रस्त हैं लोगमुंबई उपनगर से लगा हुआ और तेजी से विकास की ओर आग्रसर हो रहे नालासोपारा (पश्चिम) स्थित यशवंत गौरव कॉम्प्लेक्स इलाके में लोग पिछले पाँच-सात साल से रह रहे हैं और अभीतक मूलभूत सुविधाओं के लिए तरश रहे हैं।इस इलाके का बहुत तेजी से विस्तार हुआ है। लोंगों ने अप
30 नवम्बर 2020
13 नवम्बर 2020
गरीब की दीवाली दीवाली के दिए जले हैं घर-घर में खुशहाली है।पर इस गरीब की दीवाली लगती खाली खाली है।पैसा वालों के घर देखोअच्छी लगे सजावट है।इस गरीब के घर को देखोटूटी- फूटी हालत है।हाय-हाय बेदर्द विधातागला गरीबी घोट रही।बच्चों के अब ख्वाब घरौंदेलाचारी में टूट रही।जेब पड़ी है खाली मेरीकैसे पर्व मनाऊं म
13 नवम्बर 2020
06 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 3सद्गुरु हम पर प्रसन्न भयो, राख्यो अपने संगप्रेम - वर्षा ऐसे कियो, सराबोर भयो सब अंग।सद्गुरु साईं स्वरूप दिखे, दिल के पूरे साँचजब दुःख का पहाड़ पड़े, राह दिखायें साँच।सद्गुरु की जो न सुने, आपुनो समझे सुजानतीनों लोक में भटके, तबतक गुरु न मिले महान।सद्गुरु की महिमा अनंत है, अहे गुणन की खानभव
06 नवम्बर 2020
14 नवम्बर 2020
आज दीपोत्सव की सभी को अनेकशःहार्दिक शुभकामनाएँ...माटी के ये दीप जलानेसे क्या होगा, जला सको तो स्नेह भरे कुछ दीप जलाओ |दीन हीन और निर्बल सबहीके जीवन में स्नेहपगी बाती की उस लौ को उकसाओ ||दीपमालिका मेंप्रज्वलित प्रत्येक दीप की प्रत्येक किरण हम सभी के जीवन में सुख, समृद्धि,स्नेह और सौभाग्य की स्वर्णिम
14 नवम्बर 2020
08 नवम्बर 2020
'कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है'कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। जहाँ एक तरफ दावा किया जा रहा था कि अब कोरोना का खात्मा होने को आया है और सबकुछ खोल दिया गया, भले ही कुछ शर्तें रख दी गई। हमेशा सरकार प्रशासन सूचना जारी करने तक को अपनी जिम्मेदारी मानती है और उसीका निर्वहन करती है। जैसे सिगरेट के पैकेट प
08 नवम्बर 2020
19 नवम्बर 2020
भारत का स्विट्जरलैंडएक लंबे अरसे के बाद मातारानी के यहाँ से बुलावा आ ही गया। हमनें मातारानी वैष्णोदेवी का दर्शन करने के पश्चात दूसरे दिन हमनें कटरा से ही अगले सात दिन के लिए ट्रैवलर फोर्स रिजर्व कर लिया था। कटरा से सुबह हम सब डलहौजी के लिए रवाना हुए थे। नवंबर माह का अंतिम सप्ताह चल रहा था। सैलानियो
19 नवम्बर 2020
09 नवम्बर 2020
अनमोल वचन ➖ 4दाता इतना रहमिए, कि पालन-पोषण होयपेट नित भरता रहे, अतिथि सेवा भी होय।दीनानाथ हैं अंतर्यामी, सहज करें व्यापारबिना तराजू के स्वामी, करें हैं सम व्यवहार।सबकुछ तेरा नाम प्रभु, इंसा की नहीं औकातपल में राजा तू बनाए, पल में रंक बनि जात।नाथ की लीला निराली,क्या स्वामी क्या मालीबाग की रक्षा माली
09 नवम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x