सामयिक आह्वान

26 नवम्बर 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (428 बार पढ़ा जा चुका है)

सामयिक आह्वान

★☆सामयिक आह्वान☆★


विकल्प नहीं है कोई
इस भयावह विषाणु से बचने का
सात्विक आहार-विचार-
व्यवहार दुनिया को गहने का
'भैक्सिन' वा 'दवा' का प्रलाप है
मात्र कहने- .सुनने का
आई सी यू - भेंटिलेटर में
रह बच निकलना- कहने का
माया द्विप चल रहा १नंबर पर-
भ्रामक समाचार है पढ़ने का
सारे भारत को जाँचें-
१०करोड़ पोजिटिव निश्चय मिलने का
कवि गाता पंचम में-
घर में रहो सुरक्षित-
मन हो गर बचने का
साधारण सर्दी न गई आज तक-
यह कोरोना अब नहीं जाने का


डॉ. कवि कुमार निर्मल
ग्रीन जोन- बेतिया (बिहार)

अगला लेख: इत्तेफाक



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 नवम्बर 2020
आज दीपोत्सव की सभी को अनेकशःहार्दिक शुभकामनाएँ...माटी के ये दीप जलानेसे क्या होगा, जला सको तो स्नेह भरे कुछ दीप जलाओ |दीन हीन और निर्बल सबहीके जीवन में स्नेहपगी बाती की उस लौ को उकसाओ ||दीपमालिका मेंप्रज्वलित प्रत्येक दीप की प्रत्येक किरण हम सभी के जीवन में सुख, समृद्धि,स्नेह और सौभाग्य की स्वर्णिम
14 नवम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x