सवेरे सवेरे उठकर देखा

29 नवम्बर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (418 बार पढ़ा जा चुका है)

सवेरे - सवेरे उठकर देखा
सुनहरी किरण छिटके देखा
चिड़िया अभी-अभी थी आई
नव सृष्टि की गीत सुनाई।

मन भी उमंग जोश से भरा
हर पल लगता था सुनहरा
सुगंधित संगीतमय वातावरण
अंधकार के पट का अनावरण।

मैंने किरणों से कहा,
मुझे थोड़ी सी ऊर्जा दोगी
चिड़िया से कहा,
गाने का तजुर्बा दोगी
नव किसलय दल से कहा,
जीवन स्नेह से भर दोगी
फूलों की खुशबू से कहा,
हर्षोल्लास से भर दोगी...!

हाँ - हाँ की प्रतिध्वनि,
जैसे हाँ - हाँ भर दूँगी...!
स्वर अचकाया था
भावुकता से लड़खड़ाया था..!
अनुभव से परे का व्यवहार
जीवन प्रकृति का प्यार।

जो भाग्यशाली कर्मवीर हो
त्याग नींद जल्दी उठते हों...!
बेफिक्र हो दुनिया में जीते हों
वे ही जीवन में आनंदरस पीते हैं
अनकहा व अनसुनी स्वर सुनाई दी
मुझे इसकी है परम आवश्यकता।

सवेरे की शीतल हवा
जैसे हो अमरता की दवा
घासों की हरियाली
जैसे जीवन की खुशहाली।

ऐसे ही मिलती है
मुट्ठी भर जीने की आस
भरता गजब का उल्लास
अँधियारा छट मिलता उजास।

मैं धन्य-धन्य हो उठा बंधुवर
कृतज्ञ हो उठता हूँ आज
पा ऊर्जा, तजुर्बा, स्नेह व ख़ुशीहाली
बिन माँगे मिलती हैं चीजें निराली
सुकून व असीम शांति..।

पर ये क्या....!
सबकुछ होते हुए भी
दुःखी क्यों...?
आँखों में मोती से आँसू
आखिर क्यों...?

अंतर्मन ने कहा ➖
पगले ये कृतज्ञता का भाव है
दुःख के नहीं खुशी के आँसू हैं
प्रकृति कितनी लुभावनी है
परम दयालु और प्राणदायिनी है ।

➖ अशोक सिंह 'अक्स'
#अक्स


अगला लेख: एक मसीहा जग में आया....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 नवम्बर 2020
साहित्य मित्र मंडल, जबलपुर(व्हाट्सऐप्प्स् समुह संख्या: १ - ८)रविवासरीय प्रतियोगिता में ''श्रेष्ठ सृजन सम्मान ''हेतु चयनित मेरी रचनादिनांक: १५.११. २०२०विषय: रोशनी का त्योहार🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔रौशनी का त्योहार दीपावाली- सबको है भाता।।कोई लक्ष्मी पूजन करता, कोई बड़ा
15 नवम्बर 2020
23 नवम्बर 2020
गि
गिरनार की चढ़ाई (संस्मरण)समय-समय की बात होती है। कभी हम भी गिरनार की चढ़ाई को साधारण समझते थे पर आज तो सोच के ही पसीना छूटने लगता है। आज से आठ वर्ष पूर्व एक विशेष राष्ट्रीय एकता शिविर (Special NIC Camp) में महाराष्ट्र डायरेक्टरेट का प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिला। पूरे बारह दिन का शिविर था। मेरे साथ द
23 नवम्बर 2020
23 नवम्बर 2020
मेरी एकादशोत्तरशत काव्य रचना (My One Hundred eleventh Poem)"सामान"“घर-घर सामान भरा पड़ा हैहद से ज्यादा भरा पड़ा हैखरीद-खरीद के बटुआ खालीखाली दिमाग में सामान भरा पड़ा है -१हर दूसरे दिन बाहर जाना हैनयी-नयी चीजें लाना हैजरूरत है एक सामान कीढोकर हजार सामान लाना है-२अपने घर में जो रखा हैउसकी खुशी न करना
23 नवम्बर 2020
14 नवम्बर 2020
आज दीपोत्सव की सभी को अनेकशःहार्दिक शुभकामनाएँ...माटी के ये दीप जलानेसे क्या होगा, जला सको तो स्नेह भरे कुछ दीप जलाओ |दीन हीन और निर्बल सबहीके जीवन में स्नेहपगी बाती की उस लौ को उकसाओ ||दीपमालिका मेंप्रज्वलित प्रत्येक दीप की प्रत्येक किरण हम सभी के जीवन में सुख, समृद्धि,स्नेह और सौभाग्य की स्वर्णिम
14 नवम्बर 2020
30 नवम्बर 2020
पी
पीने के पानी की सुविधा न होने से त्रस्त हैं लोगमुंबई उपनगर से लगा हुआ और तेजी से विकास की ओर आग्रसर हो रहे नालासोपारा (पश्चिम) स्थित यशवंत गौरव कॉम्प्लेक्स इलाके में लोग पिछले पाँच-सात साल से रह रहे हैं और अभीतक मूलभूत सुविधाओं के लिए तरश रहे हैं।इस इलाके का बहुत तेजी से विस्तार हुआ है। लोंगों ने अप
30 नवम्बर 2020
01 दिसम्बर 2020
अबला की चाहचाह नहीं मैं अनपढ़ गँवार रहअनजान के माथे थोपी जाऊँबस चाह नहीं मैं बीज की तरहजब जहाँ चाहे वहाँ बोयी जाऊँचाह नहीं सूत्र बंधन की भीबंधि दहेज प्रथा की बलि चढ़ी जाऊँबस चाह नहीं है इस जग मेंअधिकारों से वंचित रह जाऊँ....!चाह मेरी बस इतनी सी है...बाला बनकर जनमूं जग मेंजीने का हो अधिकार मेरादादा-दाद
01 दिसम्बर 2020
29 नवम्बर 2020
प्
एक छोटा सा टुकड़ा प्यार का भर जाता अक्सर जीने का उत्साह दिल में महक से हो जाता गुलजार ये संसार भी निश्छल प्यार मेंकौन कहता है कि प्यार बुरा होता है जीने की उम्मीद जगा जाता दिल में ।फना हो जाती है अक्सर मोहब्बत मोह्हबत के इंतजार में रुसबा हो जाता है दिल किसी के इकरार में कौन कहता है कि प्यार बुरा होता
29 नवम्बर 2020
07 दिसम्बर 2020
गु
गुम हूँ उसके याद में....गुम हूँ उसके याद में, जिसे चाहा था कभीगोदी में सुलाकर जिसने, दुलारा था कभीप्रसव-वेदना की पीड़ा से, जाया था कभीदुःख सहकर उसने, पाला-पोसा था कभीरात-रात भर जागकर, सुलाया था कभी।गुम हूँ उसके याद में, जिसने दुनिया में लाया था कभीअपने सपनों को तोड़-तोड़कर, जिलाया था कभीखुद भूखी रह-रहक
07 दिसम्बर 2020
08 दिसम्बर 2020
एक मसीहा जग में आया....एक मसीहा जग में आयादलितों का भगवान बनाराजनीति मन को ना भायाज्ञानसाधना ही आधार बना।निर्धनता को धता बतायाछात्रवृत्ति से अरमान सजोयाकाला पलटन में स्थान मिलागुरू से पूरा सम्मान मिला।अर्थशास्त्र जो मन को भायाडॉक्टरेट की डिग्री दिलवायावर्णव्यवस्था थी मन में चुभतीशोध प्रबंध उस पर ही
08 दिसम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x