शामत मुझ पर ही आनी है....

05 दिसम्बर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (24 बार पढ़ा जा चुका है)

शामत मुझ पर ही आनी है....

शामत मुझ पर ही आनी है...

शादी अपनों की हो

या किसी बेगाने की

खर्चा उतना ही है जी

श्रीमतीजी के जाने की।

जब देखो तब सुनाती रहती हैं

खर्च ही क्या है? खर्च ही क्या है?

सुन – सुनकर कान पक गया

दुकानों के चक्कर काटते-काटते

सच मानों पूरा दिन बीत गया….

जेब खाली होकर क्रेडिट पर आ गया।

सोचा छोड़ो अब तो झंझट छूटा

तभी खनकती आवाज सुनाई दी

अभी तो बाकी है घड़ी – सोनाटा

गुड़िया के कानों का झुमका….

कमर का करधन भी था टूटा

बस एक बिछिया भी झन्नाटा।

हाय राम! बजट तो ढीला हो गया

छह महीनें का कर्ज भी लद गया

जानें से पहले ही बेड़ा गर्क हो गया

हवाई जहाज का टिकिट जो लिया

दिल तो पूरी तरह से बैठ गया….

आँखों के आगे अँधेरा सा छा गया।

ये क्या! सांस अब उखड़ने लगी

रह रहकर त्योरियाँ भी चढ़ने लगी

अचानक दोनों आँखे फड़कने लगी

वो सजधजकर तैयार होने लगी…।

मेरे पास आकर बोलती हैं

माना कि बेगाने की शादी है

पर ये हाथ रोकड़े का आदी है

बस आपसे रोकड़े की मुनादी है

तिजोरी पहले से ही खुलवा दी है।

अपनों की बात तुम छोड़ो

ये तो बेगाने की शादी है

ज्यादा समान नहीं खरीदी

अरमानों को भी सुला दी है।

मैंने भी कुछ यूँ फरमाया –

हाँ भाग्यवान! बेगाने की शादी है

पर मेरी तो पूरी बरबादी है……

शादी अपनों की हो या बेगानों की

शामत मुझपर ही तो आनी है…।

➖ अशोक सिंह ‘अक्स’

#अक्स

अगला लेख: एक मसीहा जग में आया....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 नवम्बर 2020
मेरी एकादशोत्तरशत काव्य रचना (My One Hundred eleventh Poem)"सामान"“घर-घर सामान भरा पड़ा हैहद से ज्यादा भरा पड़ा हैखरीद-खरीद के बटुआ खालीखाली दिमाग में सामान भरा पड़ा है -१हर दूसरे दिन बाहर जाना हैनयी-नयी चीजें लाना हैजरूरत है एक सामान कीढोकर हजार सामान लाना है-२अपने घर में जो रखा हैउसकी खुशी न करना
23 नवम्बर 2020
29 नवम्बर 2020
प्
एक छोटा सा टुकड़ा प्यार का भर जाता अक्सर जीने का उत्साह दिल में महक से हो जाता गुलजार ये संसार भी निश्छल प्यार मेंकौन कहता है कि प्यार बुरा होता है जीने की उम्मीद जगा जाता दिल में ।फना हो जाती है अक्सर मोहब्बत मोह्हबत के इंतजार में रुसबा हो जाता है दिल किसी के इकरार में कौन कहता है कि प्यार बुरा होता
29 नवम्बर 2020
26 नवम्बर 2020
जीवन में सुख और दुःख ये दोनोंचक्रनेमि क्रम से आते जाते ही रहते हैं... उसी प्रकार जैसे दिवस के बाद सन्ध्या काआगमन होता है... उसके बाद निशा का... और पुनः दिवस का... चलता रहता है यही क्रम...तो क्यों किसी भी कष्ट की अथवा विपरीत घड़ी में चिन्तित होकर बैठा जाए...? क्यों नप्रयास किया जाए पुनः आगे बढ़ने का...
26 नवम्बर 2020
23 नवम्बर 2020
श्
‼️ भगवत्कृपा हि केवलं‼️ओम् नमो भगवते वासुदेवाय श्री राम चरित मानस 🌻अयोध्याकाँड🌻गतांक से आगे... चौपाई-एक कलस भरि आनहिं पानी।अँचइअ नाथ कहहिं मृदु बानी।।सुनि प्रिय बचन प्रीति अति देखी।राम कृपाल सुसील बिसेषी।।जानी श्रमित सीय मन माहीं।घरिक बिलंबु कीन्ह बट छाहीं।।मुदित नारि नर दे
23 नवम्बर 2020
14 दिसम्बर 2020
नसीब अपना-अपनाकिसी ने सच कहा है साहबदुनिया में सभी लेकर आते हैंनसीब अपना-अपना....।विधिना ने जो लिख दियातकदीर छठी की रात मिटाए से भी नहीं मिटतालकीर खींची जो हाथ....।नसीब में होता है तोबिना माँगे मोती मिल जाता हैनसीब में न होने परमाँगने से भीख भी नहीं मिलती है।ये तो नसीब का ही खेल हैरात का सपना सुबह स
14 दिसम्बर 2020
18 दिसम्बर 2020
प्यार तो तुमने भी मुझसे किया था मैं तो तुम्हारा प्यार लिखीचलो तुम बताओ...... झूठ ही सही मगर तुमने भी तो मेरी बेबफाई उससे सुनाई होगी मैं तो तुम्हारी यादों के अंक मेंआंसुओं से तकिये पर तुम्हारी तस्वीर बनाती हूँ चलो तुम बताओ......अपने दर-ओ
18 दिसम्बर 2020
08 दिसम्बर 2020
एक मसीहा जग में आया....एक मसीहा जग में आयादलितों का भगवान बनाराजनीति मन को ना भायाज्ञानसाधना ही आधार बना।निर्धनता को धता बतायाछात्रवृत्ति से अरमान सजोयाकाला पलटन में स्थान मिलागुरू से पूरा सम्मान मिला।अर्थशास्त्र जो मन को भायाडॉक्टरेट की डिग्री दिलवायावर्णव्यवस्था थी मन में चुभतीशोध प्रबंध उस पर ही
08 दिसम्बर 2020
04 दिसम्बर 2020
वक़्त का तराजूवक़्त वह तराजू है साहबजो बुरे वक़्त में अपनों का वजन बता देता हैपराये को साथ लाकर खड़ा कर देता हैवक़्त ही वह मरहम है साहबजो गहरे से गहरे घाव को भी फौरन भर देता हैऔर भरे हुए घाव को कुरेदकर हरा कर देता हैवक़्त ही सबसे बड़ा गुरू है साहबजटिल पाठ को भी पल भर में समझा देता हैमूर्ख को भी विद्वता का
04 दिसम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x