गुम हूँ उसके याद में.....

07 दिसम्बर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (29 बार पढ़ा जा चुका है)

गुम हूँ उसके याद में....


गुम हूँ उसके याद में, जिसे चाहा था कभी
गोदी में सुलाकर जिसने, दुलारा था कभी
प्रसव-वेदना की पीड़ा से, जाया था कभी
दुःख सहकर उसने, पाला-पोसा था कभी
रात-रात भर जागकर, सुलाया था कभी।

गुम हूँ उसके याद में, जिसने दुनिया में लाया था कभी
अपने सपनों को तोड़-तोड़कर, जिलाया था कभी
खुद भूखी रह-रहकर के, मुझे खिलाया था कभी
मोह माया में फँसकर के, मुझे भुला दिया तभी
बातों से मूर्च्छा आ जाती, दूरी बना लिया तभी।

गुम हूँ उसके याद में, जिसनें गुमराह कर दिया
वफादारी के बदले में, उसने धोखा जो दे दिया
विश्वास किया था उनपे, पर विश्वासघात हो गया
मेरी बातें रास नहीं आती, बर्बाद जो कर दिया
ज़मीन ज़ायदाद व जान से, अपना हाथ धो लिया।

गुम हूँ उसके याद में, जिसने बर्बाद कर दिया
मन बढ़ाकर उसका, जीना हराम कर दिया
किसका हिस्सा कैसा हिस्सा, राग क्या अलापा
शरणागत में धोखा हो गया, फैला दिया फिर स्यापा
मैं शिकवा करूँ क्या गैरों से, मुझे अपनों ने ही लूटा।

गुम हूँ उसके याद में, जिसने बलि चढ़ा दिया
जिसने जाया उसने ही, बलि का बकरा बना दिया
धृतराष्ट्र बन गए पुत्रमोह में, कुल विध्वंस करा दिया
लालच की बलि-बेदी पर, अपने तनय को चढ़ा दिया
निष्कलंक कुल के माथे पर, अमिट कलंक जड़ दिया।

➖अशोक सिंह 'अक्स'
#अक्स


अगला लेख: एक मसीहा जग में आया....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 नवम्बर 2020
जीवन में सुख और दुःख ये दोनोंचक्रनेमि क्रम से आते जाते ही रहते हैं... उसी प्रकार जैसे दिवस के बाद सन्ध्या काआगमन होता है... उसके बाद निशा का... और पुनः दिवस का... चलता रहता है यही क्रम...तो क्यों किसी भी कष्ट की अथवा विपरीत घड़ी में चिन्तित होकर बैठा जाए...? क्यों नप्रयास किया जाए पुनः आगे बढ़ने का...
26 नवम्बर 2020
12 दिसम्बर 2020
जब-जब मैं उसे पुकारूँ...जब-जब मैं उसे पुकारूँवो दौड़ी-दौड़ी चली आएआँधी हो या तूफान होवो कभी ना घबराए...।ऐसी प्यारी निंदिया....सभी के भाग्य में आएअकेलेपन की रुसवाई मेंकभी भी ना सताए...।निंदिया को मैं पुकारूँसपनों की बाट जोहूँसपना लगती अति सुहानीएकदम परियों सी कहानी।परियों की कहानी अलबेलीजो होती है एकदम
12 दिसम्बर 2020
18 दिसम्बर 2020
प्यार तो तुमने भी मुझसे किया था मैं तो तुम्हारा प्यार लिखीचलो तुम बताओ...... झूठ ही सही मगर तुमने भी तो मेरी बेबफाई उससे सुनाई होगी मैं तो तुम्हारी यादों के अंक मेंआंसुओं से तकिये पर तुम्हारी तस्वीर बनाती हूँ चलो तुम बताओ......अपने दर-ओ
18 दिसम्बर 2020
29 नवम्बर 2020
सवेरे - सवेरे उठकर देखासुनहरी किरण छिटके देखाचिड़िया अभी-अभी थी आईनव सृष्टि की गीत सुनाई।मन भी उमंग जोश से भराहर पल लगता था सुनहरासुगंधित संगीतमय वातावरणअंधकार के पट का अनावरण।मैंने किरणों से कहा,मुझे थोड़ी सी ऊर्जा दोगीचिड़िया से कहा,गाने का तजुर्बा दोगीनव किसलय दल से कहा,जीवन स्नेह से भर दोगीफूलों की
29 नवम्बर 2020
08 दिसम्बर 2020
एक मसीहा जग में आया....एक मसीहा जग में आयादलितों का भगवान बनाराजनीति मन को ना भायाज्ञानसाधना ही आधार बना।निर्धनता को धता बतायाछात्रवृत्ति से अरमान सजोयाकाला पलटन में स्थान मिलागुरू से पूरा सम्मान मिला।अर्थशास्त्र जो मन को भायाडॉक्टरेट की डिग्री दिलवायावर्णव्यवस्था थी मन में चुभतीशोध प्रबंध उस पर ही
08 दिसम्बर 2020
05 दिसम्बर 2020
शामत मुझ पर ही आनी है...शादी अपनों की होया किसी बेगाने कीखर्चा उतना ही है जीश्रीमतीजी के जाने की। जब देखो तब सुनाती रहती हैंखर्च ही क्या है? खर्च ही क्या है?सुन – सुनकर कान पक गयादुकानों के चक्कर काटते-काटतेसच मानों पूरा दिन बीत गया….जेब खाली होकर क्रेडिट पर आ गया। सोचा छोड़ो अब तो झंझट छूटातभी खनकती
05 दिसम्बर 2020
30 नवम्बर 2020
पी
पीने के पानी की सुविधा न होने से त्रस्त हैं लोगमुंबई उपनगर से लगा हुआ और तेजी से विकास की ओर आग्रसर हो रहे नालासोपारा (पश्चिम) स्थित यशवंत गौरव कॉम्प्लेक्स इलाके में लोग पिछले पाँच-सात साल से रह रहे हैं और अभीतक मूलभूत सुविधाओं के लिए तरश रहे हैं।इस इलाके का बहुत तेजी से विस्तार हुआ है। लोंगों ने अप
30 नवम्बर 2020
01 दिसम्बर 2020
अबला की चाहचाह नहीं मैं अनपढ़ गँवार रहअनजान के माथे थोपी जाऊँबस चाह नहीं मैं बीज की तरहजब जहाँ चाहे वहाँ बोयी जाऊँचाह नहीं सूत्र बंधन की भीबंधि दहेज प्रथा की बलि चढ़ी जाऊँबस चाह नहीं है इस जग मेंअधिकारों से वंचित रह जाऊँ....!चाह मेरी बस इतनी सी है...बाला बनकर जनमूं जग मेंजीने का हो अधिकार मेरादादा-दाद
01 दिसम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x