चलो तुम बताओ

18 दिसम्बर 2020   |  AYESHA MEHTA   (230 बार पढ़ा जा चुका है)

प्यार तो तुमने भी मुझसे किया था

मैं तो तुम्हारा प्यार लिखी

चलो तुम बताओ......

झूठ ही सही मगर

तुमने भी तो मेरी बेबफाई उससे सुनाई होगी

मैं तो तुम्हारी यादों के अंक में

आंसुओं से तकिये पर तुम्हारी तस्वीर बनाती हूँ

चलो तुम बताओ......

अपने दर-ओ -दिवार से मेरा नाम मिटाया तो होगा

उसके सामने मेरी तस्वीर भी तो जलायी होगी

तुम मेरा आखिरी ख्वाब था

तुमसे बिछड़कर मैं तो इन ख्वाबों की पोटली बनाकर

अंधेरे तहखाने में कैद कर दी हूँ

चलो तुम बताओ ....

उसकी गोद में सर ऱखकर फिर एक नया ख्वाब तो सजाया होगा

मैं तो कई रात से जागी हूँ मगर

चलो तुम बताओ..........

अपनी बाँहों में हर रात उसे सुलाया तो होगा

अगला लेख: शायरी



आलोक सिन्हा
19 दिसम्बर 2020

बहुत अच्छी रचना

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x