बारामती का शेर....

20 दिसम्बर 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (462 बार पढ़ा जा चुका है)

बारामती का शेर....

बारामती का शेर....

बारामती के लोंगों ने बस एक ही नाम को है पूजा
शरद पवार नाम मान्यवर हर गली शहर में है गूँजा
साहब महाराष्ट्र की धरती पर ऐसा नाम कहाँ है दूजा
राजनीति गलियारे में भी वही नाम जाता है पूजा।


बड़े महारथी पाँव चूमते झुक झुककर भाई जिसके
गाथा क्या गाऊँ मैं भाई उसके चरित्र की महिमा के
बोल कभी बड़ बोलन के भाई लगे नहीं हैं काका के
जिसने उनको अपना समझा वे बने रहे उन सबके।


प्रणय बंधन से पहले जिसने एक बच्चे का प्रण किया
प्रतिभा ताई धन्य हो गई पति का पूरा संकल्प किया
दुहिता प्रिया को पाकर के निज जीवन कर्म सम्पूर्ण किया
बेटी को ही बेटे जैसा सदा दोंनों ने ही सम्मान दिया।


धन्य हुए गुरु द्रोण को पाकर जिसने नया मुकाम दिया
राजनीति के गलियारे में दादा शंकर ने पहचान दिया
शुरू हुआ जो फिर कारवां उसे नया आयाम मिला
मुख्यमंत्री के सिंहासन से राजनीति को एक भीष्म मिला।


सोच समझ अदम्य साहस के धनी हैं शरद पवार जी
चार बार मुख्यमंत्री पद का धारण किया है ताज जी
जैसे होनहार विरवान के तो होत हैं चिकने पात जी
वैसे ही शरद जी के हाथ में सोहे राजनीति की डोर जी।


स्वास्थ्य पर इनके ग्रहण लगा और व्याधियों ने जब घेरा
डॉक्टरों ने छह महीनें का समय दिया सोचा न होगा सवेरा
कर्क रोग को मात दे दिया और लगा दिया जज़्बे का पहरा
बारामती का शेर थक गया पर तन मन से कभी न हारा।


"दादा अजीत पवार जिसे कहते हैं काका
भाई वे राजनीति के सबसे बड़े हैं आका
दिल्ली सिंहासन भी देख जिसे था कांपा
ऐसे दबंग नेता जिनका दल है राकांपा.।"

➖ अशोक सिंह 'अक्स'
#अक्स
#स्वरचित_हिंदीकविता

अगला लेख: एक मसीहा जग में आया....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 दिसम्बर 2020
गु
गुम हूँ उसके याद में....गुम हूँ उसके याद में, जिसे चाहा था कभीगोदी में सुलाकर जिसने, दुलारा था कभीप्रसव-वेदना की पीड़ा से, जाया था कभीदुःख सहकर उसने, पाला-पोसा था कभीरात-रात भर जागकर, सुलाया था कभी।गुम हूँ उसके याद में, जिसने दुनिया में लाया था कभीअपने सपनों को तोड़-तोड़कर, जिलाया था कभीखुद भूखी रह-रहक
07 दिसम्बर 2020
12 दिसम्बर 2020
जब-जब मैं उसे पुकारूँ...जब-जब मैं उसे पुकारूँवो दौड़ी-दौड़ी चली आएआँधी हो या तूफान होवो कभी ना घबराए...।ऐसी प्यारी निंदिया....सभी के भाग्य में आएअकेलेपन की रुसवाई मेंकभी भी ना सताए...।निंदिया को मैं पुकारूँसपनों की बाट जोहूँसपना लगती अति सुहानीएकदम परियों सी कहानी।परियों की कहानी अलबेलीजो होती है एकदम
12 दिसम्बर 2020
18 दिसम्बर 2020
प्यार तो तुमने भी मुझसे किया था मैं तो तुम्हारा प्यार लिखीचलो तुम बताओ...... झूठ ही सही मगर तुमने भी तो मेरी बेबफाई उससे सुनाई होगी मैं तो तुम्हारी यादों के अंक मेंआंसुओं से तकिये पर तुम्हारी तस्वीर बनाती हूँ चलो तुम बताओ......अपने दर-ओ
18 दिसम्बर 2020
05 दिसम्बर 2020
शामत मुझ पर ही आनी है...शादी अपनों की होया किसी बेगाने कीखर्चा उतना ही है जीश्रीमतीजी के जाने की। जब देखो तब सुनाती रहती हैंखर्च ही क्या है? खर्च ही क्या है?सुन – सुनकर कान पक गयादुकानों के चक्कर काटते-काटतेसच मानों पूरा दिन बीत गया….जेब खाली होकर क्रेडिट पर आ गया। सोचा छोड़ो अब तो झंझट छूटातभी खनकती
05 दिसम्बर 2020
22 दिसम्बर 2020
तुम शेर बन अड़े रहो....कोरोना अभी गया नहीं...शेर बन अड़े रहो, घर में ही डटे रहोशेरनी भी साथ हो, शावक भी पास होबाहर हवा ठीक नहीं, निकलना उचित नहींशेर बन अड़े रहो, घर में ही डटे रहो...।दूध की मांग हो या सब्जी की पुकार होभले राशन की कमी हो, तुम फिकर करो नहींतुम निडर खड़े रहो, बिल्कुल डरो नहींशेर बन अड़े रहो
22 दिसम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x