कुंडलिया

15 जनवरी 2021   |  महातम मिश्रा   (311 बार पढ़ा जा चुका है)

"कुंडलिया"


गुड़तिल मिलकर खाइये, सुंदर बने विचार

स्वाद भरी खिचड़ी भली, मकर महा त्यौहार

मकर महा त्यौहार, पतंगा उड़े गगन में

क्यारी महके फूल, सुबासित पवन चमन में

कह 'गौतम' कविराज, रहो रे घर में हिलमिल

सीख दे रहे धान, मिलाकर रखना गुड़तिल।।


महातम मिश्र 'गौतम' गोरखपुरी

अगला लेख: मुक्तक



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
गी
28 जनवरी 2021
मु
28 जनवरी 2021
पि
15 जनवरी 2021
हा
15 जनवरी 2021
"
12 जनवरी 2021
कु
15 जनवरी 2021
दो
15 जनवरी 2021
गी
28 जनवरी 2021
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x