शब्दों की माला

17 जनवरी 2021   |  Tripti Srivastava   (14 बार पढ़ा जा चुका है)

शब्दों की माला


शब्दों की माला


शब्दो की महत्ता
शब्द


जब तक मुझको न था उचित ज्ञान,
शब्दों के प्रयोग से थी मैं अनजान,
न था इन पर मेरा तनिक ध्यान,
न ही थी इनकी मैं कद्रदान।



मंडराते थे ये मेरे आसपास,
छोड़ते न थे कभी मेरा ये साथ,
इनको मुझसे थी यही एक आस,
कभी तो इनका मुझे होगा एहसास।



धीरे से मुझे इनसे प्यार हुआ,
इन शब्दों को मैंने अधिकार दिया,

पूरी कविता पढ़ने के लिए क्लिक करें


शब्दों की माला


जब तक मुझको न था उचित ज्ञान,
शब्दों के प्रयोग से थी मैं अनजान,
न था इन पर मेरा तनिक ध्यान,
न ही थी इनकी मैं कद्रदान।

मंडराते थे ये मेरे आसपास,
छोड़ते न थे कभी मेरा ये साथ,
इनको मुझसे थी यही एक आस,
कभी तो इनका मुझे होगा एहसास।

धीरे से मुझे इनसे प्यार हुआ,
इन शब्दों को मैंने अधिकार दिया,
फिर मैंने इन्हें क्रमवार किया,
भावनाओं से अपनी सवाँर दिया।

जब जज्बातों ने इनको बांध दिया,
और पूरा इन्हें सम्मान दिया,
शब्दों ने कल्पनाओं को आकार दिया,
और मुझको अलग पहचान दिया।

जब शब्दों की माला से मैं अलंकृत हुई,
मुझको एक अलग-सी अनुभूति हुई,
भावनाओं की मेरे अभिव्यक्ति हुई,
मन को मेरे तब 'तृप्ति' हुई।

अब इनका मेल मुझे है भाता,
इनसे जुड़ गया मेरा नाता,
फिर शब्दों की जो बही सरिता,
तो खुद ही बन गयी एक कविता !

--तृप्ति श्रीवास्तव

Jovial Talent: शब्दों की माला....मेरी कलम से

https://www.jovialtalent.co.in/2018/01/blog-post.html?m=1

शब्दों की माला

अगला लेख: जाने वर्ष 2021 आपके लिए कैसा रहेगा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x