जात आदमी के

18 जनवरी 2021   |  अजय अमिताभ सुमन   (14 बार पढ़ा जा चुका है)

आसाँ नहीं समझना हर बात आदमी के,

कि हँसने पे हो जाते वारदात आदमी के।

सीने में जल रहे है अगन दफ़न दफ़न से ,

बुझे हैं ना कफ़न से अलात आदमी के?


ईमां नहीं है जग पे ना खुद पे है भरोसा,

रुके कहाँ रुके हैं सवालात आदमी के?

दिन में हैं बेचैनी और रातों को उलझन,

संभले नहीं संभलते हयात आदमी के।


दो गज जमीं तक के छोड़े ना अवसर,

ख्वाहिशें बहुत हैं दिन रात आदमी के।

बना रहा था कुछ भी जो काम कुछ न आते,

जब मौत आती मुश्किल हालात आदमी के।


खुदा भी इससे हारा इसे चाहिए जग सारा,

अजीब सी है फितरत खयालात आदमी के।

वक्त बदलने पे वक़्त भी तो बदलता है,

पर एक नहीं बदलता ये जात आदमी के।


अजय अमिताभ सुमन

अगला लेख: ईश्वर का प्रमाण



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x