बिटिया दिवस

24 जनवरी 2021   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (18 बार पढ़ा जा चुका है)

बिटिया दिवस

आज Daughter’s day है, यानी बिटिया दिवस... सर्वप्रथम सभी को Daughter’s day की बधाई... आज एक बार अपनी उलझी सुलझी सी बातों के साथ आपके सामने हैं... हमारी आज की रचना का शीर्षक है तू कभी न दुर्बल हो सकती... अपनी आज की रचना प्रस्तुत करें उससे पहले दो बातें... हमारी प्रकृति वास्तव में नारी रूपा है... जाने कितने रहस्य इसके गर्भ में समाए हुए हैं… शक्ति के न जाने कितने स्रोत प्रकृति ने अपने भीतर धारण किये हुए हैं… जिनसे मानव मात्र प्रेरणा प्राप्त करता है... और जब सारी प्रकृति ही शक्तिरूपा है तो भला नारी किस प्रकार दुर्बल या अबला हो सकती है ? नारी हमेशा से सशक्त और स्वावलम्बी रही शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्तरों पर, और आज की नारी तो आर्थिक स्तर भी पूर्ण रूप से सशक्त है… यहाँ तक कि आज की तारीख़ में उसे न तो पुरुष पर निर्भर रहने की आवश्यकता है न ही वह किसी रूप में पुरुष से कमतर है… पूरी रचना सुनने के लिए कृपया वीडियो देखें... कात्यायनी...

https://youtu.be/2euCOc4xOpc

अगला लेख: गणतन्त्र दिवस की बधाई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x