पथ मंज़िल का

04 फरवरी 2021   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (20 बार पढ़ा जा चुका है)

पथ मंज़िल का

मंज़िल की तलाश में जब व्यक्ति निकलता है तो आवश्यक नहीं कि उसका लक्ष्य उसे सरलता से प्राप्त हो जाए... कभी कभी तो बहुत अधिक प्रयास करना पड़ता है... कई बार यही नहीं मालूम होता कि किस मार्ग से आगे बढ़ा जाए... लेकिन एक सत्य यह भी है कि मार्ग में यदि बाधाएँ होती हैं... आड़े तिरछे मोड़ होते हैं... तो वहीं कुछ न कुछ ऐसा भी घटित होता रहता है जो मन के अनुकूल होता है... कुछ इसी प्रकार के उलझे सुलझे से भावों से गुँथी है हमारी आज की रचना... पथ मंज़िल का... पर्वतीय क्षेत्रों से क्योंकि अधिक सम्बन्ध रहा इसीलिए सम्भवतः वही इस रचना में प्रतिध्वनित हो रहा है... कात्यायनी...

https://youtu.be/bNIXDNsRZ3Y

अगला लेख: वाणी वन्दन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जनवरी 2021
को
कोशिशें हज़ार क़ींदर्द अपना छुपाने कीज़ख़्म इतना गहरा थाकि, मुस्कुराहट के पीछे भीरंजीदगी छुप ना सकी कोशिशें हज़ार क़ींआंसुओं के सैलाब को रोकने कीभरा था दिल इतना मगर आँखों के बाँध भी उसे बहने से रोक ना सके कोशिशें हज़ार क़ींयादों को दफ़नाने की प्यार बेंतिहा था मगर कब्र से भी लौट आयी यादें मुझे सताने
23 जनवरी 2021
18 फरवरी 2021
अच्छाजीवनकोई मित्र घर पर आए हुए थे | बातोंबातों में वो कहने लगे “हम तो और कुछ नहीं चाहते, बस इतना चाहते हैं किहमारा बेटा अच्छा जीवन जीये... अब देखो जी वो हमारे साले का बेटा है, अभी तीन चार साल ही तो नौकरी को हुए हैं, और देखोउसके पास क्या नहीं है... एक ये हमारे साहबजादे हैं, इनसेकितना भी कहते रहो कि
18 फरवरी 2021
23 जनवरी 2021
अनकही बातों को अनकही रहने दो जीने दो इसी भ्रम मेंप्यार ना किया ज़ाहिर तुमने भी और मैंने भी के तेरे भी वो ही हालात हैं जो मेरे हैंअनकही बातों कोअनकही ही रहने दो जीने दो इसी भ्रम मेंधड़क रहा है मेरा दिल तेरे सीने मेंतेरा दिल मेरे पास है अनकही बातों को अनकही ही रहने दो र
23 जनवरी 2021
25 जनवरी 2021
ॐ सहनाववतु । सहनौ भुनक्तु । सहवीर्य करवावहै ।तेजस्विनावधीतमस्तुमा विद्विषावहै । - कृष्ण यजुर्वेद हम सबसाथ मिलकर कार्य करें, साथ मिलकर अर्थात एक दूसरे के प्रति स्नेह की भावना मन में रखतेहुए भोग करें, साथ मिलकर शौर्य करें, हमारा अध्ययन तेजस्वी हो, किसी प्रकार काद्वेष भाव मन में न हो... कृष्ण यजुर्वेद
25 जनवरी 2021
16 फरवरी 2021
माँ वर देसरस्वत्यै नमो नित्यं भद्रंकाल्यै नमो नमः वेदवेदान्तवेदांगविद्यास्थानेभ्यः एव च |सरस्वती महाभागे विद्ये कमललोचने विद्यारूपे विशालाक्षि विद्यां देहि नमोSस्तु ते ||माँ सरस्वती विद्या की – ज्ञान और विज्ञान की –समस्त कलाओं की अधिष्ठात्री देवी हैं | और जब व्यक्ति को ज्ञान प्राप्त होता है तब वहअज्
16 फरवरी 2021
16 फरवरी 2021
ऋतु वसन्त अब चहक उठीआज वसन्तपञ्चमी का वासन्ती पर्व है और हम सब माँ वाणी का अभिनन्दन करेंगे | माँ वाणी – सरस्वती – विद्या की – ज्ञान की देवीहैं | ज्ञान का अर्थ है शक्ति प्राप्त करना,सम्मान प्राप्त करना | ज्ञानार्जन करकेव्यक्ति न केवल भौतिक जीवन में प्रगति कर सकता है अपितु मोक्ष की ओर भी अग्रसर होसकता
16 फरवरी 2021
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x