जीवन की रामकहानी

12 फरवरी 2021   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (426 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन की रामकहानी

जीवन और मरण निरन्तर चलती रहने वाली प्रक्रियाएँ हैं... मरण के बाद भी जीवन की रामकहानी समाप्त नहीं होने पाती... किसी नवीन रूप में फिर से आगे बढ़ चलती है... यही है संहार और निर्माण की सतत चलती रहने वाली प्रक्रिया... इसी प्रकार के उलझे सुलझे से विचारों से युक्त है हमारी आज की रचना... अभी शेष है...

कितने ही दिन मास वर्ष युग कल्प थक गए कहते कहते

पर जीवन की रामकहानी कहते कहते अभी शेष है ||

हर क्षण देखो घटता जाता साँसों का यह कोष मनुज का

और उधर बढ़ता जाता है वह देखो व्यापार मरण का ||

सागर सरिता सूखे जाते, चाँद सितारे टूटे जाते

पर पथराई आँखों में कुछ बहता पानी अभी शेष है ||

पूरी रचना सुनने के लिए कृपया वीडियो पर जाएँ...

https://youtu.be/wl4N-4QL-M8

अगला लेख: वाणी वन्दन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x