तुमको काली भी बनना है।

15 मार्च 2021   |  Rahul Vinchurkar   (442 बार पढ़ा जा चुका है)

मारीच संग मिल रावण ने मायाजाल बिछाया था

स्वर्ण मृग का भेष बदल सीता को ललचाया था

राम के क्षत होने का उसने स्वांग रचाया था

विप्र बन छल से सीता को लक्ष्मण-रेखा पार कराया था

वर्तमान में भी रावण जैसे कपटी पाए जाते है

स्वर्ण मृग और साधु बन सीता को हर ले जाते है

इन कपटियो के अंत हेतु अब प्रत्यंचा को कसना है

अब तुम्हे सीता नहीं दुर्गा स्वरुप बनना है।


पांडवो की मति भ्रष्ट कर उसको दांव पे लगवाया था

भरी सभा में दुर्योधन ने केशो से खिचवाया था

जंघा पर बैठाने का पाप मन में लाया था

दुश्शासन से बोल उसका चीर हरण करवाया था

वर्तमान में भी दुर्योधन जैसे विक्षिप्त पाए जाते है

मर्यादाएं लाँघ कर द्रौपदियो का चरित्र हनन कर जाते है

इन विक्षिप्तों के नाश हेतु अब गदा-गांडीव को धरना है

अब तुम्हे द्रौपदी नहीं चंडी स्वरुप बनना है।


बनना है अन्नपूर्णा तुम्हे और रौद्रमुखी भी बनना है

चण्ड-मुंडो के नाश हेतु तुमको चामुंडा भी बनना है

बनना है जगदम्बा तुम्हे और काल-जयी भी बनना है

अरुणासुरो के अंत हेतु तुमको भ्रामरी भी बनना है

बनना है लक्ष्मी तुम्हे और नारायणी भी बनना है

रक्तबीजो के संहार हेतु तुमको काली भी बनना है।


तुमको काली भी बनना है।

अगला लेख: होली



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x