कल आएगा लेकर नई खुशियाँ

01 मई 2021   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (405 बार पढ़ा जा चुका है)

कल आएगा लेकर नई खुशियाँ

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज समूचा देश कोरोना के आतंक से जूझ रहा है... न जाने कितने परिवारों ने अपने प्रियजनों को खोया है... पूरे के पूरे परिवार कोरोना से संक्रमित होते जा रहे हैं... ऊपर से ऑक्सीजन और दवाओं की कालाबाज़ारी... जमाखोरी... साथ में तरह तरह की अफवाहें... और इस सबका परिणाम है कि आज हर कोई डर के साए में जी रहा है... तो समस्याएँ तो हैं... लेकिन डर किसी समस्या का समाधान नहीं... निराश और भयग्रस्त होने से तो कोई भी बीमारी हमें संक्रमित कर सकती है... तो क्यों न आज में जियें ये सोचकर कि यदि हम सब स्वयं को स्वस्थ रखने में समर्थ रहे तो आने वाले कल में तो बहुत सारे कार्य हमें करने हैं... कल निश्चित रूप से नई खुशियाँ लेकर आएगा... इसी प्रकार के भाव हैं हमारी आज की रचना में...

कल आएगा लेकर नई खुशियाँ

माना आज है घना अँधेरा
नहीं सूझता कोई मार्ग / जाएँ कहाँ
लेकिन है विश्वास / कि कल आएगा लेकर नई खुशियाँ
अभी जो दुःख है / गुज़र जाएगा
और फिर से चहकेंगे सुख के पंछी
गाते हुए राग अनोखा
कल उगेगा सूरज आशा और विश्वास का
अभी जो छाया है निराशा का अँधेरा / छँट जाएगा
और आशा में भरा मन झूम उठेगा
अभी जो छाया है अविश्वास का कुहासा
छँट जाएगा वह भी / जब फैलेगी रक्ताभा उषा की
तब दोस्तों पड़ोसियों के साथ
बढ़ चलेंगे आगे / हाथ थामे विश्वास के साथ एक दूजे का
खिल उठेंगे स्नेह के पुष्प हर दिशा में
जिन्हें देखकर झूम उठेगा प्रफुल्लित मन
पूनम की रात की खिली खिली चाँदनी में
भीग उठेगा तन और मन
पर अभी समय है धीरज धरने का
शान्ति के साथ एकान्तवास का
लगाओ मास्क, हाथों को करो सेनिटाइज
अभी समय है साधना का अकेलेपन की
बिना घबराए, बिना डरे, बिना किसी चिन्ता के
लगाने का अपने मन को अपनी ही खोज में
अभी समय है बिताने का
परिवारजनों के साथ आमोद प्रमोद में
पर भूलना मत पूछना हाल दोस्तों का
भूलना मत हाथ बढ़ाना सहायता का
क्योंकि बहुत जल्दी बीत जाएगा ये भारी समय भी
और तब चमकेगा सूर्य
नवीन आशा, विश्वास, स्नेह, स्वास्थ्य की रश्मियों के
रथ पर होकर सवार
जिसकी सुनहरी धूप से
छँट जाएगा कुहासा सारा
दुःख का, निराशा का, अविश्वास का

सुनने के लिए कृपया वीडियो पर जाएँ... कात्यायनी...

https://youtu.be/gDF3YMTk67M




अगला लेख: बनकर रह जाएगा इतिहास



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अप्रैल 2021
माँ दुर्गा की उपासना केलिए पूजन सामग्री - नारियल साम्वत्सरिक नवरात्र चल रहे हैंऔर समूचा हिन्दू समाज माँ भगवती के नौ रूपों की पूजा अर्चना में बड़े उत्साह,श्रद्धा और आस्था के साथ लीन है | इस अवसर पर कुछ मित्रों के आग्रह पर माँ दुर्गाकी उपासना में जिन वस्तुओं का मुख्य रूप से प्रयोग होता है उनके विषय मे
17 अप्रैल 2021
11 अप्रैल 2021
व्रतऔर उपवासव्रत शब्द का प्रचलित अर्थ है एकप्रकार का धार्मिक उपवास – Fasting – जो निश्चितरूप से किसी कामना की पूर्ति के लिए किया जाता है | यह कामनाभौतिक भी हो सकती है, धार्मिक भी और आध्यात्मिक भी | कुछ लोग अपने मार्ग में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए व्रत रखते हैं, कुछ रोग से मुक्ति के लिए, कुछ लक
11 अप्रैल 2021
27 अप्रैल 2021
हनुमान जयन्तीआज चैत्र पूर्णिमा है... और कोविडमहामारी के बीच आज विघ्नहर्ता मंगल कर्ता हनुमान जी – जो लक्ष्मण की मूर्च्छा दूरकरने के लिए संजीवनी बूटी का पूरा पर्वत ही उठाकर ले आए थे... जिनकी महिमा का कोईपार नहीं... की जयन्ती है… जिसे पूरा हिन्दू समाज भक्ति भाव से मनाता है... कल दिनमें बारह बजकर पैंताल
27 अप्रैल 2021
24 अप्रैल 2021
लि
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save
24 अप्रैल 2021
30 अप्रैल 2021
आज हरकोई डर के साए में जी रहा है | कोरोनाने हर किसी के जीवन में उथल पुथल मचाई हुई है | जिससे भी बात करें हर दिन यही कहता मिलेगा कि आज उसके अमुकरिश्तेदार का स्वर्गवास हो गया कोरोना के कारण, आज उसका अमुक मित्र अथवा परिचित कोरोना की भेंट चढ़ गया | पूरे के पूरे परिवार कोरोना की चपेटमें आए हुए हैं | हर ओ
30 अप्रैल 2021
23 अप्रैल 2021
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
23 अप्रैल 2021
18 अप्रैल 2021
माँ दुर्गा की उपासना केलिए पूजन सामग्री साम्वत्सरिक नवरात्र चल रहे हैंऔर समूचा हिन्दू समाज माँ भगवती के नौ रूपों की पूजा अर्चना में बड़े उत्साह,श्रद्धा और आस्था के साथ लीन है | इस अवसर पर कुछ मित्रों के आग्रह पर माँ दुर्गाकी उपासना में जिन वस्तुओं का मुख्य रूप से प्रयोग होता है उनके विषय में लिखनाआरम
18 अप्रैल 2021
25 अप्रैल 2021
प्रसिद्ध कविवर ने कहा था कि आह से उपजा होग गान नयनों से बही होगी चुपचाप कविता अनजान। कविता तो मन की परतों से निकले भावों की अभव्यक्ति हैं। तो फिर भाव बड़े या कविता का व्याकरण? दोनों ही महत्वपूर्ण। भाव को लयबद्ध कर दे तो कविता सुमधुर गान का रूप ले लेती है जिसे गुनगुनाया जा स
25 अप्रैल 2021
24 अप्रैल 2021
हि
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
24 अप्रैल 2021
13 अप्रैल 2021
माँ दुर्गा के पूजन की विधिआजचैत्र शुक्ल प्रतिपदा के साथ ही नवसंवत्सर का आरम्भ हुआ है और माँ भगवती की उपासनाका पर्व नवरात्र आरम्भ हो चुके हैं | सभी को हिन्दू नव वर्ष तथा साम्वत्सरिकनवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ...कुछमित्रों का आग्रह है कि नवरात्रों में माँ भगवती की उपासना की विधि तथा उसमेंप्रयुक्त
13 अप्रैल 2021
10 अप्रैल 2021
नमस्कारमित्रों, स्वागत है आज फिर से आप सबका हमारेकार्यक्रम “कुछ दिल से - मेरी बातें” में... अभी तेरह अप्रैल से माँ भगवती कीउपासना का पर्व नवरात्र आरम्भ होने जा रहे हैं... नवरात्र... जिसमें पूजा अर्चनाकी जाती है शक्ति की... इस अवसर प्रायः प्रत्येक घर में बहुत ही श्रद्धाभाव सेदेवी के नौ रूपों की उपासन
10 अप्रैल 2021
14 अप्रैल 2021
माँ दुर्गा की उपासना के लिए पूजन सामग्रीसाम्वत्सरिकनवरात्र आरम्भ हो चुके हैं | इस अवसर पर नौ दिनों तक माँ भगवती के नौ रूपों कीपूजा अर्चना की जाती है | कुछ मित्रों ने आग्रह किया था कि माँ दुर्गा की उपासनामें जिन वस्तुओं का मुख्य रूप से प्रयोग होता है उनके विषय में कुछ लिखें | तो, सबसे पहले तो बतानाचा
14 अप्रैल 2021
05 मई 2021
मानवता हैचिन्तातुर बनी बैठी यहाँआज जीवन से सरल है मृत्यु बन बैठी यहाँ और मानवता है चिन्तातुर बनी बैठी यहाँ ||भय के अनगिन बाज उसके पास हैं मंडरा रहे और दुःख के व्याघ्र उसके पास गर्जन कर रहे ||इनसे बचने को नहीं कोई राह मिलती है यहाँ |और मानवता है चिन्तातुर बनी बैठी यहाँ ||श्वासऔर प्रश्वास पर है आज पहर
05 मई 2021
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x