कल आएगा लेकर नई खुशियाँ

01 मई 2021   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (408 बार पढ़ा जा चुका है)

कल आएगा लेकर नई खुशियाँ

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज समूचा देश कोरोना के आतंक से जूझ रहा है... न जाने कितने परिवारों ने अपने प्रियजनों को खोया है... पूरे के पूरे परिवार कोरोना से संक्रमित होते जा रहे हैं... ऊपर से ऑक्सीजन और दवाओं की कालाबाज़ारी... जमाखोरी... साथ में तरह तरह की अफवाहें... और इस सबका परिणाम है कि आज हर कोई डर के साए में जी रहा है... तो समस्याएँ तो हैं... लेकिन डर किसी समस्या का समाधान नहीं... निराश और भयग्रस्त होने से तो कोई भी बीमारी हमें संक्रमित कर सकती है... तो क्यों न आज में जियें ये सोचकर कि यदि हम सब स्वयं को स्वस्थ रखने में समर्थ रहे तो आने वाले कल में तो बहुत सारे कार्य हमें करने हैं... कल निश्चित रूप से नई खुशियाँ लेकर आएगा... इसी प्रकार के भाव हैं हमारी आज की रचना में...

कल आएगा लेकर नई खुशियाँ

माना आज है घना अँधेरा
नहीं सूझता कोई मार्ग / जाएँ कहाँ
लेकिन है विश्वास / कि कल आएगा लेकर नई खुशियाँ
अभी जो दुःख है / गुज़र जाएगा
और फिर से चहकेंगे सुख के पंछी
गाते हुए राग अनोखा
कल उगेगा सूरज आशा और विश्वास का
अभी जो छाया है निराशा का अँधेरा / छँट जाएगा
और आशा में भरा मन झूम उठेगा
अभी जो छाया है अविश्वास का कुहासा
छँट जाएगा वह भी / जब फैलेगी रक्ताभा उषा की
तब दोस्तों पड़ोसियों के साथ
बढ़ चलेंगे आगे / हाथ थामे विश्वास के साथ एक दूजे का
खिल उठेंगे स्नेह के पुष्प हर दिशा में
जिन्हें देखकर झूम उठेगा प्रफुल्लित मन
पूनम की रात की खिली खिली चाँदनी में
भीग उठेगा तन और मन
पर अभी समय है धीरज धरने का
शान्ति के साथ एकान्तवास का
लगाओ मास्क, हाथों को करो सेनिटाइज
अभी समय है साधना का अकेलेपन की
बिना घबराए, बिना डरे, बिना किसी चिन्ता के
लगाने का अपने मन को अपनी ही खोज में
अभी समय है बिताने का
परिवारजनों के साथ आमोद प्रमोद में
पर भूलना मत पूछना हाल दोस्तों का
भूलना मत हाथ बढ़ाना सहायता का
क्योंकि बहुत जल्दी बीत जाएगा ये भारी समय भी
और तब चमकेगा सूर्य
नवीन आशा, विश्वास, स्नेह, स्वास्थ्य की रश्मियों के
रथ पर होकर सवार
जिसकी सुनहरी धूप से
छँट जाएगा कुहासा सारा
दुःख का, निराशा का, अविश्वास का

सुनने के लिए कृपया वीडियो पर जाएँ... कात्यायनी...

https://youtu.be/gDF3YMTk67M




अगला लेख: माँ दुर्गा की उपासना के लिए पूजन सामग्री



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अप्रैल 2021
माँ दुर्गा की उपासना केलिए पूजन सामग्री - नारियल साम्वत्सरिक नवरात्र चल रहे हैंऔर समूचा हिन्दू समाज माँ भगवती के नौ रूपों की पूजा अर्चना में बड़े उत्साह,श्रद्धा और आस्था के साथ लीन है | इस अवसर पर कुछ मित्रों के आग्रह पर माँ दुर्गाकी उपासना में जिन वस्तुओं का मुख्य रूप से प्रयोग होता है उनके विषय मे
17 अप्रैल 2021
23 अप्रैल 2021
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
23 अप्रैल 2021
18 अप्रैल 2021
बा
रात छोटी सीप्रियतम के संगबात छोटी सी।बड़ी हो गईरिवाजों की दीवारखड़ी हो गई।बात छोटी सीकलह की वजहजात छोटी सी।हरी हो गईउन्माद की फसलघात होती सी।कड़ी हो गईबदलाव की नईमात छोटी सी।बरी हो गईरोक तिमिर- रथप्रात छोटी सी।
18 अप्रैल 2021
08 मई 2021
माँ तेरी गोदीमें सर रख सो जाऊँ मैं पल भर को, तो लोरी तू गा देना, दिल को कुछ तो राहत मिल जाएगी | तेरे आँचल कीछाया से बढ़कर नहीं जहाँ की खुशियाँ, सर पर तेरा हाथरहे तो मंज़िल मुझको मिल जाएगी ||कल मातृ दिवस है, मेरी अपनी माँ के साथसाथ संसार की हर माँ को समर्पित हैं कुछ पंक
08 मई 2021
15 मई 2021
नमस्कार मित्रों... आज सभी कोरोना के कारणडरे हुए हैं... एक ऐसा वायरस जिसके रूप में एक अदृश्य शक्ति ने हर किसी को घरोंमें कैद किया हुआ है... किन्तु यह भी सत्य है कि ऐसी कोई रात नहीं जिसकी सुबह नहो... इसीलिए है विश्वास कि शीघ्र ही सुख का सवेरा होगा और कष्ट की इस बदली कोचीरता सूर्य चारों ओर अपनी मुस्करा
15 मई 2021
25 अप्रैल 2021
प्रसिद्ध कविवर ने कहा था कि आह से उपजा होग गान नयनों से बही होगी चुपचाप कविता अनजान। कविता तो मन की परतों से निकले भावों की अभव्यक्ति हैं। तो फिर भाव बड़े या कविता का व्याकरण? दोनों ही महत्वपूर्ण। भाव को लयबद्ध कर दे तो कविता सुमधुर गान का रूप ले लेती है जिसे गुनगुनाया जा स
25 अप्रैल 2021
24 अप्रैल 2021
हि
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
24 अप्रैल 2021
30 अप्रैल 2021
आज हरकोई डर के साए में जी रहा है | कोरोनाने हर किसी के जीवन में उथल पुथल मचाई हुई है | जिससे भी बात करें हर दिन यही कहता मिलेगा कि आज उसके अमुकरिश्तेदार का स्वर्गवास हो गया कोरोना के कारण, आज उसका अमुक मित्र अथवा परिचित कोरोना की भेंट चढ़ गया | पूरे के पूरे परिवार कोरोना की चपेटमें आए हुए हैं | हर ओ
30 अप्रैल 2021
07 मई 2021
बनकररह जाएगा इतिहासकोरोना के आतंक से आज चारों ओर भय का वातावरण है... जोस्वाभाविक ही है... क्योंकि हर दिन केवल कष्टदायी समाचार ही प्राप्त हो रहे हैं...हालाँकि बहुत से लोग ठीक भी हो रहे हैं, लेकिन जब उन परिवारों की ओर देखते हैंजिन्होंने अपने परिजनों या परिचितों मित्रों को खोया है, तब वास्तव में हर किस
07 मई 2021
24 अप्रैल 2021
लि
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save
24 अप्रैल 2021
23 अप्रैल 2021
📙📓📘📗📗📘📓📙📘📗पुस्तक दिवस📗📘📓📙📓📘📗📗📘📓📙पुस्तकों का अंबार कहाँ-अब एण्ड्रॉयड का खेल है।विमोचन औन लाइन-'इंटरनेट' एक्सप्रेस-मेल है।।शीलालेख से भोजपत्र की दौड़-अब ई पेपर टेल है।सृजन कर सेयर करलो -ग्रुप्स की चल रही रेल है।।बिचारा विद्यार्थी उदास-लटकाये बस्ता कई सेर है।तक्षशिला राख हुई-खुदाबख्
23 अप्रैल 2021
09 मई 2021
मदर्स डेआज मातृदिवस यानी “मदर्स डे” है | सर्वप्रथम सभीको मदर्स डे की अनेकशः हार्दिक शुभकामनाएँ... यों भारत जैसे परम्पराओं का निर्वाहकरने वाले देश में ऐसे बहुत सारे पर्व आते हैं जो केवल और केवल मातृ शक्ति को हीसमर्पित होते हैं... जिनमें सर्वप्रथम तो ये जितने भी देवता हैं उन सबकी पूजा उनकीदेवियों के स
09 मई 2021
29 अप्रैल 2021
डर के आगे जीत हैआज हर कोई डर के साएमें जी रहा है | कोरोना ने हर किसी के जीवन में उथल पुथल मचाई हुई है | आज किसी कोफोन करते हुए, किसी का मैसेज चैक करते हुए हर कोई डरता है कि न जाने क्यासमाचार मिलेगा | जिससे भी बात करें हर दिन यही कहता मिलेगा कि आज उसके अमुकरिश्तेदार का स्वर्गवास हो गया कोरोना के कारण
29 अप्रैल 2021
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x