दमक उठता है मनुष्य

03 मई 2021   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (376 बार पढ़ा जा चुका है)

दमक उठता है मनुष्य

आज कोरोना से आतंकित है हर कोई... ऐसे में एकमात्र अवलम्ब है तो वह है हमारा साहस... समझदारी... एक दूसरे का साथ सहयोग... सकारात्मकता... और एक ख़ास बात... हमें उम्मीद का दामन नहीं छोड़ना है... मन में दृढ़ आशा और विश्वास बनाए रखना है कि बहुत शीघ्र इस आपत्ति से मुक्ति प्राप्त होगी... ये वक़्त भी गुज़र जाएगा... नहीं भूलना चाहिए कि दुःख ऐसी कसौटी है जिस पर घिसकर मनुष्य हीरे जैसा दमक उठता है...

जीवन, न अतीत है न भविष्य

वह तो है वर्तमान

इसलिए जीना है हमें साथ आज के

कल क्या था / पता नहीं

कल कैसा होगा ? भान नहीं

तो फिर भय किस बात का

रखना होगा साहस हर परिस्थिति में

करने को साक्षात्कार स्वयं के साथ / पहचानने के लिए स्वयं को ही

क्योंकि जीवन वास्तव में है बड़ी मोहक संरचना प्रकृति की

हाँ ये सत्य है / पड़ भी जाते हैं निशान इस आकर्षक संरचना पर

समय के प्रहार के / संघर्षों के / उथल पुथल के

देनी पड़ जाती हैं न जाने कितनी अग्नि परीक्षाएँ

और वो कठोर परीक्षक छिपा हुआ कहीं

देता है दण्ड हमारी भूलों का / असफलताओं का

जिनसे मिलती है सीख / होता है मार्ग दर्शन

इसलिए जो जीत गया इन सभी चुनौतियों से

और आत्मसात कर ली सारी सीख उस कठोर परीक्षक की

होता है वही भाग्यवान

जीवन में न हो कोई संघर्ष / न हो कोई कष्ट

तो हो जाएगा जीवन एकरस

इसलिए हारना नहीं है इन संघर्षों से कष्टों से

गिरेंगे यदि हम / तो कोई हाथ आगे बढ़ाकर उठा भी लेगा

हार और जीत तो निर्भर करती है हमारी सोच पर

लेना है आनन्द जीवन का / जो जीना होगा हर पल को

बिना डरे / आनन्द के साथ / हर परिस्थिति में

कितना लम्बा जी लिए / नहीं है कोई अर्थ इसका

कितना पूर्ण रूप से जिए / महत्त्व है इसी का

इसलिए गँवाने नहीं हैं जीवन के अमूल्य पल

किसी भय के साए में

घबराना नहीं है संघर्षों से / इम्तहानों से

क्योंकि इन्हीं से तो पता चलता है / सामर्थ्य का अपनी

दुःख है वो कसौटी

किस पर घिसा जाकर दमक उठता है मनुष्य / हीरे जैसा

रखना है ध्यान कि सुख जाता है / तो रिक्त हो जाता है स्थान दुखों के लिए

लेकिन जाता है दुःख / तो सुखों के लिए होता है अवकाश

यही है नियम प्रकृति का / शाश्वत... सत्य... चिरन्तन...

तो आइये, आज में जी लें... आज को सुधार लें... जो अस्वस्थ हैं... हाथ आगे बढ़ा दें उनकी सहायता के लिए... जिस प्रकार भी सम्भव हो... जिनके प्रियजन चले गए हैं दूर सदा सदा के लिए... कन्धा आगे कर दें उन्हें सर टिकाने के लिए... लेकिन सबसे पहले रखें ध्यान अपना स्वयं का... क्योंकि हम होंगे स्वस्थ तभी तो बन सकेंगे दूसरों का भी सहारा... और इसके लिए मास्क, उचित दूरी और सेनिटायिजेशन के नियम का पालन करें पूर्ण निष्ठा के साथ... सभी स्वस्थ रहे... सुखी रहे... नमस्कार...

https://youtu.be/2mYSDVIuqs4

अगला लेख: बनकर रह जाएगा इतिहास



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अप्रैल 2021
नमस्कारमित्रों, स्वागत है आज फिर से आप सबका हमारेकार्यक्रम “कुछ दिल से - मेरी बातें” में... अभी तेरह अप्रैल से माँ भगवती कीउपासना का पर्व नवरात्र आरम्भ होने जा रहे हैं... नवरात्र... जिसमें पूजा अर्चनाकी जाती है शक्ति की... इस अवसर प्रायः प्रत्येक घर में बहुत ही श्रद्धाभाव सेदेवी के नौ रूपों की उपासन
10 अप्रैल 2021
30 अप्रैल 2021
आज हरकोई डर के साए में जी रहा है | कोरोनाने हर किसी के जीवन में उथल पुथल मचाई हुई है | जिससे भी बात करें हर दिन यही कहता मिलेगा कि आज उसके अमुकरिश्तेदार का स्वर्गवास हो गया कोरोना के कारण, आज उसका अमुक मित्र अथवा परिचित कोरोना की भेंट चढ़ गया | पूरे के पूरे परिवार कोरोना की चपेटमें आए हुए हैं | हर ओ
30 अप्रैल 2021
01 मई 2021
जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज समूचा देशकोरोना के आतंक से जूझ रहा है... न जाने कितने परिवारों ने अपने प्रियजनों को खोयाहै... पूरे के पूरे परिवार कोरोना से संक्रमित होते जा रहे हैं... ऊपर से ऑक्सीजनऔर दवाओं की कालाबाज़ारी... जमाखोरी... साथ में तरह तरह की अफवाहें... और इस सबकापरिणाम है कि आज हर कोई डर
01 मई 2021
23 अप्रैल 2021
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
23 अप्रैल 2021
18 अप्रैल 2021
माँ दुर्गा की उपासना केलिए पूजन सामग्री साम्वत्सरिक नवरात्र चल रहे हैंऔर समूचा हिन्दू समाज माँ भगवती के नौ रूपों की पूजा अर्चना में बड़े उत्साह,श्रद्धा और आस्था के साथ लीन है | इस अवसर पर कुछ मित्रों के आग्रह पर माँ दुर्गाकी उपासना में जिन वस्तुओं का मुख्य रूप से प्रयोग होता है उनके विषय में लिखनाआरम
18 अप्रैल 2021
24 अप्रैल 2021
हि
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
24 अप्रैल 2021
18 अप्रैल 2021
बा
रात छोटी सीप्रियतम के संगबात छोटी सी।बड़ी हो गईरिवाजों की दीवारखड़ी हो गई।बात छोटी सीकलह की वजहजात छोटी सी।हरी हो गईउन्माद की फसलघात होती सी।कड़ी हो गईबदलाव की नईमात छोटी सी।बरी हो गईरोक तिमिर- रथप्रात छोटी सी।
18 अप्रैल 2021
30 अप्रैल 2021
आज हरकोई डर के साए में जी रहा है | कोरोनाने हर किसी के जीवन में उथल पुथल मचाई हुई है | जिससे भी बात करें हर दिन यही कहता मिलेगा कि आज उसके अमुकरिश्तेदार का स्वर्गवास हो गया कोरोना के कारण, आज उसका अमुक मित्र अथवा परिचित कोरोना की भेंट चढ़ गया | पूरे के पूरे परिवार कोरोना की चपेटमें आए हुए हैं | हर ओ
30 अप्रैल 2021
24 अप्रैल 2021
लि
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save
24 अप्रैल 2021
18 अप्रैल 2021
★मेरा धन भक्ति- तेरा धन रोकड़★🏢🙏🏢🙏🏢 ☆ 🏢🙏🏢🙏🏢तेरा दर लागे मुझको प्यारा, तेरा जग है न्यारा।सोना लागे खोटा मुझे,हरपल तुझे हीं निहारा।।गगनचुम्बी इमारतें भले हीं तुम उठवालो।कितना भी तुम अपना साम्राज्य बढ़ालो।।गरीबों को चूस तहखानों को भरवालो।चार हीं कंधे तेरे साथ- साथ रे चलेंगे।।पाप छुपाने खातिर
18 अप्रैल 2021
23 अप्रैल 2021
📙📓📘📗📗📘📓📙📘📗पुस्तक दिवस📗📘📓📙📓📘📗📗📘📓📙पुस्तकों का अंबार कहाँ-अब एण्ड्रॉयड का खेल है।विमोचन औन लाइन-'इंटरनेट' एक्सप्रेस-मेल है।।शीलालेख से भोजपत्र की दौड़-अब ई पेपर टेल है।सृजन कर सेयर करलो -ग्रुप्स की चल रही रेल है।।बिचारा विद्यार्थी उदास-लटकाये बस्ता कई सेर है।तक्षशिला राख हुई-खुदाबख्
23 अप्रैल 2021
07 मई 2021
बनकररह जाएगा इतिहासकोरोना के आतंक से आज चारों ओर भय का वातावरण है... जोस्वाभाविक ही है... क्योंकि हर दिन केवल कष्टदायी समाचार ही प्राप्त हो रहे हैं...हालाँकि बहुत से लोग ठीक भी हो रहे हैं, लेकिन जब उन परिवारों की ओर देखते हैंजिन्होंने अपने परिजनों या परिचितों मित्रों को खोया है, तब वास्तव में हर किस
07 मई 2021
13 अप्रैल 2021
माँ दुर्गा के पूजन की विधिआजचैत्र शुक्ल प्रतिपदा के साथ ही नवसंवत्सर का आरम्भ हुआ है और माँ भगवती की उपासनाका पर्व नवरात्र आरम्भ हो चुके हैं | सभी को हिन्दू नव वर्ष तथा साम्वत्सरिकनवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ...कुछमित्रों का आग्रह है कि नवरात्रों में माँ भगवती की उपासना की विधि तथा उसमेंप्रयुक्त
13 अप्रैल 2021
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x