ईश्वर और भगवान का भेद

16 अगस्त 2017   |  रोमिश ओमर   (123 बार पढ़ा जा चुका है)

*ईश्वर और भगवान का भेद*

*ऐश्वर्यस्य समग्रस्य धर्मस्य यशसः श्रियः ।*

*ज्ञानवैराग्ययोश्चैव षण्णां भग इतीरणा ।। -(विष्णु पुराण 6/5/74)* *

अर्थ―*सम्पूर्ण ऐश्वर्य,धर्म,यश,श्री,ज्ञान और वैराग्य--इन छह का नाम भग है।इन छह गुणों से युक्त महान पुरुष को भगवान कहा जा सकता है। श्रीराम व श्री कृष्ण, के पास ये सारे ही गुण थे(भग थे)।इसलिए उन्हें भगवान कहकर सम्बोधित किया जाता है। वे भगवान् थे, ईश्वर नहीं थे ईश्वर के गुणों को वेद के निम्न मंत्र में स्पस्ट किया गया है

*स पर्यगाच्छुक्रमकायमव्रणमस्नाविरं शुद्धमपापविद्धम् ।*

*कविर्मनीषी परिभू: स्वयम्भूर्याथातथ्यतोऽर्थान् व्यदधाच्छाश्वतीभ्यः समाभ्यः ।। (यजुर्वेद अ. ४०। मं. ८)*

अर्थात - वह ईश्वर सर्वशक्तिमान,शरीर-रहित,छिद्र-रहित,नस-नाड़ी के बन्धन से रहित,पवित्र,पुण्ययुक्त,अन्तर्यामी,दुष्टों का तिरस्कार करने वाला,स्वतःसिद्ध और सर्वव्यापक है।वही परमेश्वर ठीक-ठीक रीति से जीवों को कर्मफल प्रदान करता है भगवान अनेकों होते हैं। लेकिन ईश्वर केवल एक ही होता है।

अगला लेख: Azaad Bharat: 4 साल से बापू आशारामजी को बेल नही मिलने के पीछे राजनैतिक दलों का हाथ: माँ चेतनानंद



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 अगस्त 2017
समय समय पर प्रमाणों के साथ देश के गद्दारो की पोल खोलते आ रहा हूँ - जिन्हें हमेशा देश भक्त समझा जाता रहा है । *गद्दार मोरारजी देसाई**पार्टी कांग्रेस और जनतादल*जब पाकिस्तान पहली बार परमाणु बम बनाने का रिएक्टर लगा रहा था तबभारत के प्रधानमन्त्री थे मोरार जी देसाई ।हमारी
22 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
*योगीराज, निति निपुण पराक्रमी वीर योद्धा , गोपालक, महान कूटनीतिज्ञ सत्यधर्मी सदाचारी एकपत्निव्रत (माता रुक्मिणी) ब्रह्मचारी वेदंज्ञ महात्मा धर्मात्मा दुष्टनाशक परोपकारी आर्य (श्रेष्ठ) पुरुष राष्ट्र धर्म स्त्री रक्षक सर्व परा* *पाप दोष रहित निष्कलंक शुद्ध पवित्र चरित्र..*_*योगेश्वर भगवान् श्रीकृष्ण ज
16 अगस्त 2017
13 अगस्त 2017
अगस्त 12, 2017गोवा : सनातन संस्था द्वारा हुए एक कार्यक्रम के दौरान उत्तरप्रदेश, डासना, चंडीदेवी मंदिर सिद्धपीठ की महंत यति माँ #चेतनानंद सरस्वती ने एक चैनल में इंटरव्यू देते हुए कई सवाल उठाते हुए कहा कि #सनातन संस्था बहुत ही #पवित्र कार्य कर रही है, इसके माध्यम से अलग-अलग
13 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
जन गण मन गुलामी का गीत जो पहली बार सत्र 1911 में अंग्रेजो के राजा जॉर्ज पंचम के सम्मान में गाया गया, जिसे अंग्रेजो के चाटुकार रविन्द्र नाथ टैगोर ने लिखा । क्या आपको इस गीत के शब्दों का मतलब पता है ? नहीं ना , तो सच्चाई जानने के लिए इस वीडियो को अवश्य देखें और अगली बा
16 अगस्त 2017
07 अगस्त 2017
संस्कृत दिवस : 7 अगस्त#संस्कृत में #1700 धातुएं, #70 प्रत्यय और #80 उपसर्ग हैं, इनके योग से जो शब्द बनते हैं, उनकी #संख्या #27 लाख 20 हजार होती है। यदि दो शब्दों से बने सामासिक शब्दों को जोड़ते हैं तो उनकी संख्या लगभग 769 करोड़ हो जाती है। #संस्कृत #इंडो-यूरोपियन लैंग्वेज
07 अगस्त 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x