आखिर कौन हूँ मै ? कोई बताओ

08 मार्च 2018   |  नीरज अग्रहरि   (859 बार पढ़ा जा चुका है)



कभी एक कवि ,

तो कभी सिर्फ एक गुमनाम छवि हूँ मै |

कभी एक अँधेरी रात ,

तो कभी एक भयंकर बरसात हूँ मैं |

कभी एक प्यारी मुस्कुराती शायरी ,

तो कभी एक गुमनाम डायरी हूँ मैं |

आखिर कौन हूँ मैं ?


कभी एक विद्वान ,

तो कभी सिर्फ एक कायावान हूँ मैं |

कभी एक कलाकार ,

तो कभी एक छाया बेकार हूँ मैं |

कभी उच्छल नदी सी पावन ,

तो कभी बरसात की सुनहरी सावन हूँ मैं |

आखिर कौन हूँ मैं ?


कभी एक अजीत पावक ,

तो कभी बब्बर शेरो की नन्ही शावक हूँ मैं |

कभी गुलामी की बेड़ियों मे जकड़ी गुलाम ,

तो कभी आज़ादी की धूल मे सनी इन्सान हूँ मैं |

कभी लालची मन मे आशक्त ,

तो कभी अपने प्यारे प्रभु की प्रिय भक्त हूँ मैं |

आखिर कौन हूँ मैं ?


कभी समुन्द्र की गहराइयों मे गोता लगाती हुई गोताखोर ,

तो कभी पावन धरती पर उगती हुई भोर हूँ मैं |

कभी ब्यस्त ज़िंदगी मे होने वाली शोर ,

तो कभी निराले वन मे नाचने वाली मोर हूँ मैं |
कभी दाना उठाती हुई नन्ही चींटी ,

तो कभी शोर मचाती ट्रैन की सीटी हूँ मैं |


आखिर कौन हूँ मैं ?

कभी किसानो के खेतो की अमृत बारिश ,

तो कभी अपने प्यारे माँ बाप की प्यारी वारिश हूँ मैं |

कभी बारिश की नन्ही फुहार ,

तो कभी लोहे को ढालती लुहार हूँ मैं |

कभी दहेज़ से ,

तो कभी कलेश से जूझते हुए जीने वाली अभागिन हूँ मैं |


आखिर कौन हूँ मैं ?

कभी अपने प्यारे बच्चो को लोरी सुनाती माँ ,

तो कभी अपने सास के ताने सुनती एक बहू हूँ मैं |

कभी नई नवेली चौखट पर परदे मे लिपटी बहू ,

तो कभी दहेज़ से प्रताड़ित जिस्म से बहता लहू हूँ मैं |

कभी मायके की लाड़ली ,

तो कभी गोरी और सावली हूँ मैं|

आखिर कौन हूँ मैं ?


नोट : यह कविता मे अपने माँ को समर्पित करता हूँ क्यूंकि ये उन्ही के जीवन को प्रदर्शित कर रही है |

अगला लेख: इस्लाम धर्म की पुनर्परिभाषा : आज के समय की माँग



Neeraj Katheria
07 अप्रैल 2018

too good!!!

Sarika singh
04 अप्रैल 2018

nicee

Navnit l katrodia
31 मार्च 2018

edcelent

वास्तव मे ये कविता मैंने अपने ज़िंदगी मे घटित सभी महिलाओ को एकीकृत रूप से लिखा है |

रेणु
09 मार्च 2018

प्रिय नीरज -- आपने बहुत अच्छा लिखा एकदम बढ़िया वाला | शुभ कामना --

जी धन्यबाद रेनू जी

रवि कुमार
09 मार्च 2018

वाह, कमाल का लिखा है नीरज जी ..

धन्यबाद रवि जी

बहुत सुंदर पंक्तियाँ।

धन्यवाद नृपेंद्र

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x