उपन्यास " अफ़साना तेरा-मेरा "

12 सितम्बर 2018   |  pradeep   (63 बार पढ़ा जा चुका है)

उपन्यास " अफ़साना तेरा-मेरा "

हर कोई खुद की आज़ादी चाहता है पर दूसरे को आज़ादी देने से कतराता है. हर किसी को फक्र है अपने मज़हब पर अपनी जात या नस्ल पर, पर किसी को परवाह नहीं उस परवरदिगार की जो इन सबसे ऊपर है जिसने हर किसी को बनाया है. उसके यहाँ तो ना कोई मज़हब है ना जात ना ही कोई नस्ल, उसके यहाँ अगर कुछ है तो वो है प्यार, मुहब्बत, इश्क. जिस रोज़ दुनियां से ये ख़त्म हो जाएगा उस रोज़ दुनिया ख़त्म हो जायेगी. ना तो ये दुनिया मज़हब से बचेगी ना ही जात से और ना ही नस्ल से अगर बचेगी तो सिर्फ प्यार से.

Pradeep Nigam - Pradeep Nigam added a new photo. | Facebook

ऐमज़ॉन पर उपलब्ध है.

https://www.facebook.com/photo.php?fbid=1150716058292956&set=picfp.100000637193913&type=3

अगला लेख: रंग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
22 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
दर्द उनको भी है , दर्द हमको भी है बिछड़ने का, दर्द उनका है कोई साथी ना मिला, हमको दर्द है कोई साथी ना रहा.वो तड़पते है साथी के लिए हम तो मरते है क्यूँ साथ तेरा ना रहा. दर्द सबको है अपना-अपना, वज़ह भी सबकी है अपनी-अपनी. (आलिम)
29 अगस्त 2018
14 सितम्बर 2018
बहुत सी बोलियों और भाषाओं वाले हमारे देश में आजादी के बाद भाषा को लेकर एक बड़ा सवाल आ खड़ा हुआ. आखिरकार 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया. हालांकि शुरू में हिंदी और अंग्रेजी दोनो को को नए राष्ट्र की भाषा चुना गया और संविधान सभा ने देवनागरी लिपि वाली हिं
14 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
08 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
जब से सोचा है इश्क करने की, दुश्मन हज़ार यूँ बना बैठे, कोई उनसे नफ़रत में है पागल, कोई उनके इश्क में दीवाना है. (आलिम)
29 अगस्त 2018
21 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
21 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
रं
झूठ पलता हो पालनों में जहाँ, सच की उनसे क्या उम्मीद करे, खेलते होली जो नफ़रत घुले पानी से, रंगो की वहां क्या उम्मीद करे. दिखता है रंग अपना ही खूबसूरत, उनसे दूसरे रंगों की क्या तारीफ़ करे. मज़हब में भी जो ढूंढते नफ़रत, उनसे इश्क ओ म
29 अगस्त 2018
14 सितम्बर 2018
हिन्दी दिवस के सुअवसर पर आप सभी को दिल से बधाई सह शुभकामना, प्रस्तुत है मुक्तक....... ॐ जय माँ शारदा......!“मुक्तक”हिंदी सिर बिंदी सजी, सजा सितंबर माह। अपनी भाषा को मिला, संवैधानिक छाँह।चौदह तारिख खिल गया, दे दर्जा सम्मान- धूम-धाम से मन रहा, प्रिय त्यौहारी चाह॥-1बहुत बधाई आप को, देशज मीठी बोल। सगरी
14 सितम्बर 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x